दर्शकों का मनोरंजन करना है, कॉमेडी का मुख्य उद्देश्य

लखनऊ

 02-05-2021 01:02 PM
व्यवहारिक
हास्यप्रधान नाटक या कॉमेडी, साहित्य की एक शैली है, और इसे एक नाटकीय कार्य के रूप में संदर्भित किया जाता है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है, कि इसका अंत सुखद होता है। इसकी प्रकृति दिलचस्प, मनोरंजक और व्यंग्यपूर्ण होती है। कॉमेडी का विषय हमेशा अप्रिय परिस्थितियों पर विजय प्राप्त करना होता है और इसका अंत सुखद निष्कर्ष के साथ होता है। हालांकि, कॉमेडी का मुख्य उद्देश्य दर्शकों का मनोरंजन करना है। संदर्भ और हास्य के स्रोत के आधार पर, कॉमेडी को 3 प्रकारों में वर्गीकृत किया जाता है, जैसे – नकल या स्वांग, परिहास करना, व्यंग। दुखांत नाटक कॉमेडी का विपरीत रूप है। कॉमेडी शैली की शुरुआत 5 वीं शताब्दी ईसा पूर्व के समय में एथेंस (Athens)‌, ग्रीस (Greece) में हुई थी। रोमांटिक कॉमेडी, हास्य कॉमेडी, शिष्टाचार की कॉमेडी, दुखद कॉमेडी और भावुक कॉमेडी विभिन्न प्रकार की कॉमेडी हैं, जो आमतौर पर फिल्मों और किताबों में दिखायी देती हैं। विलियम शेक्सपियर (William Shakespeare) द्वारा लिखित ‘ए मिडसमर नाइट्स ड्रीम’ (A Midsummer Night’s Dream) एक रोमांटिक कॉमेडी है। ‘एवरी मैन इन हिज ह्यूमर (Every Man in His Humor) हास्य कॉमेडी का एक उदाहरण है। इसके अतिरिक्त, सर रिचर्ड स्टील (Richard Steele) द्वारा लिखित एक नाटक ‘द कॉन्शियस लवर्स’ (The Conscious Lovers), एक मेलोड्रामा (Melodrama) है, और इसे एक भावुक कॉमेडी के रूप में वर्गीकृत किया गया है। हालांकि, सभी प्रकार की कॉमेडी का कार्य मनोरंजन लाना ही है। इसके अंतर्गत नाटकों, फिल्मों और थिएटर में ऐसे दृश्य या संवाद होते हैं, जो लोगों को हंसाए। यह दर्शकों का मनोरंजन करती है, और साथ ही पाठकों या दर्शकों को एक संदेश भी देती है। यह साहित्य और फिल्मों दोनों में महत्वपूर्ण है, क्योंकि इसमें सामाजिक संस्थाओं के साथ-साथ ऐसे लोग भी शामिल होते हैं, जो भ्रष्ट हैं। कॉमेडी में, बुरी आदतों या बुरे व्यवहार वाले व्यक्ति को उसकी नकल करके या उस पर हास्यपूर्ण व्यंग करके उसे इंगित किया जाता है। संक्षेप में, कॉमेडी लोगों के अवगुणों का मज़ाक बनाती है।

संदर्भ:
https://bit.ly/2RdowSK


RECENT POST

  • यूक्रेन युद्ध, भारत में कई जगह सूखा, बेमौसम बारिश,गर्मी की लहरों से उत्पन्न खाद्य मुद्रास्फीति
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:44 AM


  • हम लखनऊ वासियों को समझनी होगी प्रदूषण, अतिक्रमण से पीड़ित जल निकायों व नदियों की पीड़ा
    नदियाँ

     25-05-2022 08:16 AM


  • लखनऊ के हरित आवरण हेतु, स्थानीय स्वदेशी वृक्ष ही पारिस्थितिकी तंत्र के लिए सबसे उपयुक्त
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:37 AM


  • स्वास्थ्य सेवा व् प्रौद्योगिकी में माइक्रोचिप्स की बढ़ती वैश्विक मांग, क्या भारत बनेगा निर्माण केंद्र?
    खनिज

     23-05-2022 08:50 AM


  • सेलफिश की गति मछलियों में दर्ज की गई उच्चतम गति है
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:40 PM


  • बच्चों को खेल खेल में, दैनिक जीवन में गणित के महत्व को समझाने की जरूरत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:09 AM


  • भारत में जैविक कृषि आंदोलन व सिद्धांत का विकास, ब्रिटिश कृषि वैज्ञानिक अल्बर्ट हॉवर्ड द्वारा
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:03 AM


  • लखनऊ की वृद्धि के साथ हम निवासियों को नहीं भूलना है सकारात्मक पर्यावरणीय व्यवहार
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:47 AM


  • एक समय जब रेल सफर का मतलब था मिट्टी की सुगंध से भरी कुल्हड़ की स्वादिष्ट चाय
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:47 AM


  • उत्तर प्रदेश में बौद्ध तीर्थ स्थल और उनका महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:52 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id