मानव सहायता श्रमिक (Humanitarian Aid Workers)कोरोना काल के देवदूत हैं।

लखनऊ

 08-05-2021 09:05 AM
विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

भारत आज कोरोना महामारी की दूसरी लहर का सामना कर रहा है। बेरोज़गारी तथा भोजन पानी की समस्याएं अपने चरम पर हैं। लॉकडाउन ज़रुरत और समस्या दोनों बन गया है। हालात यह हैं कि घरों में राशन, स्वास्थ्य, तथा अन्य मूलभूत आवश्यकताओं की सप्लाई भी प्रभावित हुई है। ऐसे में मानवीय सहायता कार्यकर्ता (humanitarian aid workers) महामारी में मदद का हाथ बनकर कर आये हैं, और हर-संभव लोगों की सहायता कर रहे हैं।

मानवीय सहायता कार्यकर्ता ऐसे लोग होते हैं, जो युद्ध, बेघर, शरणार्थी और प्राकृतिक आपदाओं, और अकाल अथवा किसी वैश्विक महामारी जैसी समस्याओं के समय लोगों की मानसिक अथवा भौतिक रूप से सहायता करते हैं, तथा उन तक राहत पहुंचाते हैं।

ALNAP (मानवतावादी प्रणाली में काम करने वाली एजेंसियों का एक नेटवर्क) की गणना के उनके अनुसार दुनिया भर में मानवीय सहायता श्रमिकों की कुल संख्या 210,800 हैं। इनमे से लगभग 50% प्रतिशत लोग विभिन्न स्वयं सेवी संस्थाओं से (NGOs), 25% प्रतिशत कर्मचारी रेड क्रॉस (Red Cross) तथा अन्य 25% प्रतिशत संयुक्त राष्ट्र संघ (United Nation UN ) से जुड़े हुए कार्यकर्ता हैं। 2010 में, यह जानकारी दी गयी की पिछले 10 वर्षों में मानवीय सहायता कार्यकर्ताओं की संख्या में लगभग 6% प्रति वर्ष की वृद्धि हुई। इन सहायताकर्मियों को कठिन परिस्थितियों, विषम वातावरण जैसी परिस्थितियों में लचीलेपन तथा जिम्मेदारी का भाव प्रदर्शित करना पड़ता है, ऐसी मुश्किल परिस्थितियों से सामना करने पर किसी भी आम व्यक्ति को मनोवैज्ञानिक रूप क्षति पहुंच सकती हैं, अथवा कोई गंभीर आघात लग सकता है।

भारत में कोरोना की दूसरी लहर ने जो उत्पात मचाया है, उससे हम सभी भली-भांति परिचित हैं। अस्पताल मरीजों से भरे पड़े हैं, पर्याप्त टेस्ट नहीं हो पा रहे हैं और न हीं अधिक लोगों तक टीके पहुँच पा रहे हैं। महामारी से मरने वालों की मृत्यु दर इतनी बढ़ चुकी हैं, की शमशानों, कब्रिस्तानों में भी जगह नहीं मिल पा रही हैं। बीती सर्दियों के मौसम में वायरस का प्रकोप थोड़ा कम होने पर सरकार द्वारा छूटें दी गयी। अभी थोड़ी राहत मिली ही थी की फिर से कोरोना की दूसरी लहर तांडव मचा रही है। इस संकट में जहां बड़े-बड़े अधिकारियों के हाथ पाँव फूल गए, वहीं लोगों को अपने-अपने स्तर पर राहत पहुँचाने के लिए आम नागरिकों समेत स्वयं सेवी संस्थाएं निजी कंपनियां और यहां तक कि फ़िल्मी जगत के लोग भी अपनी भागीदारी दे रहे हैं। और महामारी से असहाय पड़े लोगों की मदद कर रहे हैं। पूरे देश भर से लोगों द्वारा जरूरतमंदों सहायता करने के अनोखे तरीकों की घटनाएं सामने आ रही हैं।

1. झारखण्ड के ग्रामीण क्षेत्र में अध्यापक का काम करने वाले 38 वर्षीय देवेंद्र को जब 1,400 किमी दूर दिल्ली से एक मित्र का फ़ोन आया, जिन्हे ऑक्सीज़न सिलेंडर नहीं मिल रहा था ऐसे में देवेंद्र ने किसी तरह सिलेंडर की व्यवस्था की, और अपने मित्र की मदद के लिए 24 घंटे लगातार गाडी चलाकर उस तक मदद पहुंचाई। आज वह एक रियल लाइफ हीरो हैं। संकट के इस समय में लोग सोशल मीडिया के माध्यम से मदद की गुहार लगा रहे हैं, और कई जरूरतमंद लोगों तक मदद पहुंचाई जा रही हैं।

2. कभी-कभी छोटे-छोटे प्रयास किसी बड़ी समस्या को हल कर देते हैं। ऐसी ही एक घटना आजकल बहुचर्चित है। विशाल सिंह, जो की निजी विद्यालयों की एक श्रृंखला के मालिक हैं, उनके 80 वर्षीय पिता को जब किसी भी अस्पताल में जगह न मिली तब उन्होंने अपने ही निजी विद्यालयों को सुसज्जित कोविड-19 देखभाल केंद्र बना दिया।

3. मुंबई के एक मध्यमवर्गीय जोड़े पास्कल और रोज़ी सलदान(Pascal and Rozy Saldanha) ने जरूरतमंद पड़ोसियों को ऑक्सीजन सिलेंडर खरीद कर देने के लिए अपने कीमती गहने बेच दिए।

4. भारत के सबसे बड़े परोपकारी और तकनीकी विशेषज्ञ अजीम प्रेमजी ने पिछले साल सीधे या अपनी कंपनियों के चैरिटी माध्यम से $1 बिलियन डॉलर का अनुदान दिया था। उन्होंने कोविड-19 अनुसंधान और राहत के लिए $150 मिलियन डॉलर भी दिए हैं। अन्य उद्यमियों ने मिशन ऑक्सीजन के लिए रात भर में लगभग $ 10 मिलियन डॉलर जुटा लिए। मिलियन डॉलर उद्देश्य विदेशों से जितनी संभव हो सके ऑक्सीजन खरीदना और उन्हें भारतीय अस्पतालों में भेजना है।


चूँकि ऐसे न जाने कितने ही समूह और लोग हैं जो विश्व के विभिन्न स्थानों पर अपने स्तर के अनुसार जरूरतमंद लोगों की सहायता कर रहे हैं। हम सभी जानते हैं की कोरोना महामारी किसी भी प्रकार का भेदभाव नहीं करती, अतः उनके सामने भी अपने स्वास्थ को बनाये रखने की चुनौती हैं। साथ ही मानवीय सहायता कार्यकर्ताओं अनेक प्रकार की विषम परिस्थितियों का भी सामना करना पड़ता है। जैसे आपदाओं में राहत कार्य की ज़िम्मेदारी, उनके सामने युद्ध जैसे क्रूर हालातों में अपने मानसिक स्वास्थ्य को सही रखने की चुनौती भी रहती है। वे युद्ध, विस्थापन, आपदा और बीमारी के बीच भोजन, आश्रय, स्वास्थ्य देखभाल, सुरक्षा तथा अन्य लोगों को आशा देने का काम करते हैं। परन्तु वर्तमान में इन योद्धाओं का परीक्षण पहले की भांति नहीं किया जा रहा है, साथ ही यह कोविड-19 के दौरान पर्याप्त सुरक्षा उपकरणों के अभाव का भी सामना कर रहे हैं, परन्तु फिर भी वे दूसरों के जीवन को बचाने के लिए अपनी जान जोखिम में डालते हैं।

संदर्भ
https://econ.st/3ba8TCJ
https://bit.ly/3eoLQ9c
https://bit.ly/3uzdx4U

चित्र संदर्भ
1. स्वास्थ्य कर्मचारी का एक चित्रण (Wikimedia)
2. UNHCR कर्मचारी का एक चित्रण (staticflickr)
3 .स्वास्थ्य कर्मचारी का एक चित्रण (staticflickr)



RECENT POST

  • कृषि में आधुनिक तकनीक का एक महत्‍वपूर्ण हिस्‍सा है, पोस्ट होल डिगर
    वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

     18-08-2022 12:51 PM


  • अचल संपत्ति बाजार में खरीदारों का लोकप्रिय शहर लखनऊ
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     17-08-2022 11:20 AM


  • क्या वास्तव में अमेथिस्ट या जमुनिया रत्न वैज्ञानिक दृष्टि से उपचरात्मक होते है?
    खनिज

     16-08-2022 10:30 AM


  • स्वतंत्र भारत में तोपों की सलामी है संप्रभुता की स्वीकृति, पहले दर्शाती थी औपनिवेशिक पदानुक्रम
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-08-2022 02:56 AM


  • पोल वॉल्ट में विश्व रिकॉर्ड तोड़ने के लिए प्रसिद्ध हैं आर्मंड डुप्लांटिस
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     14-08-2022 10:40 AM


  • सभी देशवासियों के लिए खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करती योजनाएं
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     13-08-2022 10:19 AM


  • लखनऊ सहित कुछ चुनिंदा चिड़ियाघरों में ही शेष बचे हैं, शानदार जिराफ
    स्तनधारी

     12-08-2022 08:28 AM


  • ऑनलाइन खरीदारी के बजाए लखनऊ के रौनकदार बाज़ारों में सजी हुई राखिये खरीदने का मज़ा ही कुछ और है
    संचार एवं संचार यन्त्र

     11-08-2022 10:20 AM


  • गांधीजी के पसंदीदा लेखक, संत व् कवि, नरसिंह मेहता की गुजराती साहित्य में महत्वपूर्ण भूमिका
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     10-08-2022 10:04 AM


  • मुहर्रम के विभिन्न महत्वपूर्ण अनुष्ठानों को 19 वीं शताब्दी की कंपनी पेंटिंग शैली में दर्शाया गया
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     09-08-2022 10:25 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id