संग्रहालय में संग्रहाध्येक्ष या क्यूनरेटरों Curators की भूमिका और कोविड19 का इन पर प्रभाव

लखनऊ

 17-05-2021 09:40 PM
वास्तुकला 1 वाह्य भवन

लखनऊ का राजकीय संग्रहालय, प्रांत की एक प्रमुख इमारत है। इसे मूल रूप से क़ैसर बाग में बनाया गया था, इसमें वास्तुकला और ज्ञान का एक समृद्ध इतिहास संग्रहित है।संग्रहालय एक ऐसा स्थान है जो कि हमारे जीवन और इतिहास से जुड़े हुए विभिन्न पहलुओं को उजागर करता है तथा उन्हें सहेज कर रखने का कार्य भी करता है।लखनऊ का संग्रहालय वर्तमान में नवाब वाजिद अली शाह प्राणि उद्यान, बनारसी बाग, लखनऊ में स्थित है। इस संग्रहालय की स्थापना 1863 में कर्नल एबोट (Colonel Abbot) के संग्रह से की गई थी, 1950 में संग्रहालय का नाम बदलकर 'राज्य संग्रहालय' कर दिया गया। जून 1884 में संग्रहालय को लाल बारादरी अवध के नवाबों के पूर्व राज्याभिषेक सभामण्डजप में स्थानांतरित कर दिया गया था।संग्रहालय में रखे गए संग्रह में प्रागैतिहासिक काल, कांस्य युग, सिंधु घाटी सभ्यता की प्रसिद्ध मूर्तियों के प्लास्टर कास्ट (plaster casts), साथ ही साथ संख्या विज्ञान, चित्रों, पांडुलिपियों और वस्त्रों का एक समृद्ध संग्रह है। इस संग्रहालय के पहले क्यूरेटर (Curator) या संग्रहाध्यंक्ष, पुरातत्वविद् डॉ. ए. ए. फ़्यूहरेर (Dr. A. A. Fuhrer) को 30 मार्च 1885 में नियुक्त किया गया था। पुरातत्व के क्षेत्र में फ़्यूहरेर की विशेषज्ञता और रुचि संग्रहालय के संग्रह में उनके पहले योगदान को परिलक्षित करती है।एक संग्रहाध्य क्ष की भूमिका निभाना केवल रूचि का विषय नहीं है। वरन् इसमें आपकी निगरानी में रहने वाली वस्तुुओं के वास्तंविक ज्ञान का निर्माण भी शामिल है।जैसे-जैसे दुनिया तीव्र होती जा रही है, तो उसमें उथल-पुथल और काट-छांट की प्रक्रिया भी बढ़ती जा रही है, जिसके चलते इतिहास में गहराई तक गोता लगाने की हमारी क्षमता को बनाए रखना और अधिक महत्वपूर्ण हो गया है।क्यूरेटर का काम मुख्य्त: किसी विशेषज्ञ क्षेत्र में संग्रह करना होता है। क्यूरेटर ऐसे तरीके विकसित करते हैं, जिनमें वस्तुओं, अभिलेखों और कलाकृतियों की व्याख्या, प्रदर्शनियों, प्रकाशनों, घटनाओं और दृश्य-श्रव्य प्रस्तुतियों के माध्यम से की जा सकती हो।संग्रहालय से संबंधित किसी वस्तु पर किए गए सभी शोधों को क्यूरेटरों (curators) द्वारा रिकॉर्ड (record) किया जाता है, और अधिक शोध किए जाने पर इसे लगातार अद्यतन किया जाता है।एक पारंपरिक क्यूरेटर की निगरानी में आवश्यक रूप से किसी प्रकार की कलाकृति, संग्रहणीय वस्तुएं, ऐतिहासिक वस्तुएं या वैज्ञानिक संग्रह की मूर्त वस्तुएं शामिल होती हैं। हाल ही में, नए प्रकार के क्यूरेटर उभरने लगे हैं: डिजिटल डेटा ऑब्जेक्ट (digital data objects) के क्यूरेटर और बायोक्यूरेटर्स (biocurators) ।
छोटे संगठनों में, एक क्यूरेटर के पास अधिग्रहण (acquisitions) और संग्रह के देखभाल की एकमात्र जिम्मेदारी हो सकती है। एक क्यूरेटर वस्तुओं के चयन के बारे में निर्णय लेता है, उनकी क्षमता और प्रलेखन की देखरेख करता है, संग्रह और उसके इतिहास के आधार पर अनुसंधान करता है, परिवहन के लिए कला की उचित पैकेजिंग (packaging) प्रदान करता है, और प्रदर्शनियों और प्रकाशनों के माध्यम से जनता और समुदाय के साथ अनुसंधान साझा करता है। बहुत छोटे, स्वयंसेवी-आधारित संग्रहालयों में, जैसे कि स्थानीय ऐतिहासिक समाजों में, एक क्यूरेटर एकमात्र भुगतान किया गया कर्मचारी-सदस्य हो सकता है। बड़े संस्थानों में, क्यूरेटर का प्राथमिक कार्य विषय की विशेषज्ञता का होता है, इस अपेक्षा के साथ कि वह वस्तुओं पर मूल शोध करेगा और संगठन को उसके संग्रह में मार्गदर्शन करेगा। इस तरह के संस्थानों में कई क्यूरेटर हो सकते हैं, जिनमें से प्रत्येक को एक विशिष्ट संग्रह क्षेत्र (जैसे, प्राचीन कला का क्यूरेटर, प्रिंट्स (prints) और ड्रॉइंग (drawings) का क्यूरेटर,) को सौंपा जाता है और अक्सर एक हेड क्यूरेटर (head curator) के निर्देशन में संचालित होता है। ऐसे संगठनों में, संग्रह की भौतिक देखभाल संग्रहालय संग्रह-प्रबंधकों या संग्रहालय संरक्षक द्वारा प्रलेखन और प्रशासनिक मामलों (जैसे कि कर्मियों, बीमा और ऋण) के साथ एक संग्रहालय पंजीयक द्वारा देखरेख की जा सकती है। कोविड-19 के चलते अधिकांश संग्रहालयों को बंद करने का निर्णय लिया गया जिसके चलते कई संग्रहालयों ने प्रोद्योगिकी के माध्यसम से अपना कार्य जारी रखा जिसके लिए इन्होंसने ऑनलाइन प्लेरटफॉर्म (Online platform) को चुना।जिसने संग्रहालय की पहुंच को जनता तक और अधिक बढ़ा दिया।यह वर्तमान की समस्याr को दूर करने का एक प्रभावी तरीका हो सकता है, लेकिन यह स्पष्ट है कि बस एक वेबसाइट (Website) बनाना या सोशल मीडिया (social media) की उपस्थिति की मेजबानी करना जो संस्थान से दर्शकों के लिए ज्ञान के एक आयामी हस्तांतरण की अनुमति देता है, को डिजिटल (Digital) सहभागिता के लिए अब पर्याप्त प्रतिनिधि नहीं माना जाता है।ऑनलाइन प्रस्तुतियाँ आगंतुकों को छवियों तक पहुँचने के लिए परस्पर संवादात्मक सुविधाओं की एक बढ़ती हुई सारणी प्रदान कर सकती हैं, यह संग्रहालयों और क्यूरेटरों, जो प्रदर्शनियों को एक साथ रखते हैं, द्वारा प्रदान की जाने वाली व्याख्यात्मक और ऐतिहासिक संदर्भ पर विचार करने के लिए भी जरूरी है।
कोविड-19 अब हमारे समाज का हिस्साा बन गया है, इसलिए भावी संग्रहालयों को भी इनके साथ ही देखना होगा। बहुत से लोग दुनिया को समझने के लिए संघर्ष कर रहे हैं, और संग्रहालय विज्ञान संचारकों के रूप में और हमारे ज्ञान और संस्कृति के संग्रहकर्ता के रूप में अपनी भूमिका के माध्यम से ऐसा करने में हमारी मदद करने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं। डिजिटल सामग्री में अनुवादित इन भूमिकाओं की इन गैलरी (Gallery) में क्या किया जा सकता है, इसका अनुकरण करने की आवश्यकता नहीं है। जैसा कि एक म्यूज़ियम के पेशेवर कहते हैं कि इसमें दीवारें नहीं हैं, गैलरी में टैब (tab) नहीं हैं। इस परिप्रेक्ष्य में, समृद्ध, स्तरित संग्रहालय सामग्री प्रदान करने के लिए डिजिटल द्वारा पेश की जाने वाली क्षमता, जो एक संग्रहालय की विज्ञान संचार भूमिका को पूरा करती है, और उनकी स्थिति का फायदा उठाती है क्योंकि ज्ञान भंडार बहुत रोमांचक है। हालांकि, वास्तविकता यह है कि इस सामग्री को बनाना, प्रबंधित करना और मेजबानी करना आसान, तेज़ या सस्ता नहीं है। और जैसा कि कई संग्रहालय पेशेवर जानते हैं, एक डिजिटल प्रोजेक्ट (Digital project) तेज, आसान या सस्ता हो सकता है, लेकिन तीनों एक साथ कभी नहीं। हालांकि, संग्रहालय आपका समय लेने में बहुत अच्छे हैं। उनमें से कई वर्षों से सामान इकट्ठा कर रहे हैं। अभी हाल ही में, नई तकनीकों में प्रगति ने क्यूरेटर की भूमिका को और व्यापक बना दिया है। यह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रमुख कला संस्थानों में ध्यान केंद्रित किया गया है और अकादमिक अध्ययन और अनुसंधान का एक उद्देश्य बन गया है।प्रौद्योगिकी क्यूरेटर वे लोग होते हैं जो किसी विशेष तकनीक के विज्ञान और तर्क को अलग करने में सक्षम होते हैं और इसे वास्तविक दुनिया की स्थितियों और समाज में लागू करते हैं, चाहे वह सामाजिक परिवर्तन, व्यावसायिक लाभ या अन्य उद्देश्यों के लिए हो। पहले यूके वायर्ड सम्मेलन (UK Wired Conference) में एक परीक्षण प्रयोगशाला थी, जहां एक स्वतंत्र क्यूरेटर चयनित तकनीक थी जो कट्टरपंथी प्रौद्योगिकी प्रगति और समाज पर उनके प्रभाव को प्रदर्शित करती थी, जैसे कि 3 डी प्रिंटर का उपयोग करके भौतिक वस्तुओं को डिजाइन और "प्रिंट" करने की क्षमता (जैसे कि पूरी तरह से काम कर रहे वायलिन)। या त्रिविम 3 डी में सटीक इंटरएक्टिव चिकित्सा और आणविक मॉडल का मॉडल और प्रतिनिधित्व करने की क्षमता। आने वाले वर्षों में क्यूरेटरिंग के क्षेत्र में सरकारी कटौती होने की संभावना है, इसके साथ ही क्यूरेटर होना एक ऐसी चीज है जिसके लिए आप पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं। आपके पूरे करियर में बहुत सारे अल्पकालिक अनुबंध और परियोजना से संबंधित कार्य होंगे। दीर्घकालिक स्थिरता चाहने वालों के लिए क्यूरेटिंग उपयुक्त विकल्प नहीं होगा। क्यूरेटिंग का मतलब सिर्फ अच्छी चीजों को चुनना है। लेकिन यह इसका केवल आधा हिस्सा है। संग्रहालय क्यूरेटर के रूप में हमारी असली नौकरी अतीत से कलाकृतियों की देखभाल करना है, फिर भी उनके बारे में ज्ञान का भंडार होना, विशेषज्ञ होना, विषय में डूबे हुए 10,000 घंटे बिताना है।

संदर्भ:
https://bit.ly/33DwkA0
https://bit.ly/3uOkvmo
https://bit.ly/3odyhww
https://bit.ly/3w1lf82
https://bit.ly/33DxivZ

चित्र संदर्भ
1 .संग्रहालय तथा संग्रहाध्यक्ष का एक चित्रण (Unsplash, wikimedia)
2 .संग्रहाध्यक्ष का एक चित्रण  (wikimedia)
3 .कोरोना के कारण बंद का एक चित्रण (Unsplash)



RECENT POST

  • सेलफिश की गति मछलियों में दर्ज की गई उच्चतम गति है
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:40 PM


  • बच्चों को खेल खेल में, दैनिक जीवन में गणित के महत्व को समझाने की जरूरत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:09 AM


  • भारत में जैविक कृषि आंदोलन व सिद्धांत का विकास, ब्रिटिश कृषि वैज्ञानिक अल्बर्ट हॉवर्ड द्वारा
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:03 AM


  • लखनऊ की वृद्धि के साथ हम निवासियों को नहीं भूलना है सकारात्मक पर्यावरणीय व्यवहार
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:47 AM


  • एक समय जब रेल सफर का मतलब था मिट्टी की सुगंध से भरी कुल्हड़ की स्वादिष्ट चाय
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:47 AM


  • उत्तर प्रदेश में बौद्ध तीर्थ स्थल और उनका महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:52 AM


  • देववाणी संस्कृत को आज भारत में एक से भी कम प्रतिशत आबादी बोल व् समझ सकती है
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:08 AM


  • बाढ़ नियंत्रण में कितने महत्वपूर्ण हैं, बीवर
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:36 PM


  • प्रारंभिक पारिस्थिति चेतावनी प्रणाली में नाजुक तितलियों का महत्व, लखनऊ में खुला बटरफ्लाई पार्क
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:09 AM


  • लखनऊ सहित विश्व में सबसे पुराने और शानदार स्विमिंग पूलों या स्नानागारों का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     13-05-2022 09:41 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id