गैस और विद्युत शव दाह गृह क्या है

लखनऊ

 20-05-2021 08:20 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

विद्युत एवं गैस शव दाह गृह पर्यावरण के अनुकूल होते है | एक विद्युत् शवदाह गृह स्थापित करने की लगत 20 से 25 लाख रूपये आती है | ये शव को लकड़ी का प्रयोग करके जलाने और दफ़नाने की तुलना में पर्यावरण और लागत के अनुकूल हैं | आज सभी धर्मों के प्रगतिशील लोग अपने परिवार के सदस्यों के लिए इनका उपयोग कर रहे हैं। आधे से ज्यादा संयुक्त राज्य अमेरिका में इसको अपनाया गया है जबकि हम जानते हैं कि ईसाई कब्रिस्तानों में शरीर को दफन करते थे । दाह संस्कार एक शव एवं उसके प्राकृतिक तत्वों को तीव्र गर्मी और वाष्पीकरण के अधीन करने की प्रक्रिया है। ये जलाए जाने का कार्य एक शमशान के कक्ष में होता है | जो शवदाह किए जाते हैं उनमें कंकाल के अवशेष और सूखे हुए हड्डी के टुकड़े बच जाते हैं जिन्हे महीन चूर्ण पाने के लिए चूर्णित किए जाता हैं | कुछ संस्कृतियों में, विशेष रूप से जापान (Japan) और ताइवान (Taiwan) में किये जाने वाले अंतिम संस्कार के लिए उन्हें चूर्णित करने की आवश्यकता नहीं होती है, वे अंतिम हस्तक्षेप से पहले किए गए अस्थि-विसर्जन अनुष्ठान में उपयोग किए जाते हैं। इसके अलावा हिंदू धर्म में शरीर को जलाने की आवश्यकता होती है ताकि दिवंगत आत्मा को शरीर से पृथक किया जा सके |

विद्युत् दाह संस्कार:
विद्युत् शवदाह के लिए शव को विद्युत शव दाह गृह ले जाया जाता है, ये शवदाह गृह सरकार के द्वारा पंजीकृत होते हैं | यहां पर एक पूरी तरह से आच्छादीत दाहन गृह होता है और एक तरफ दरवाजा रहता है जिस तरफ से शव को दहन गृह में फिसल पट्टी के माध्यम से ले जाया जाता है और उस विद्युत् शवदाह कक्ष के दरवाजे को बंद कर दिया जाता है | उसके पश्चात आग की एक तेज़ लहर विद्युत् के माध्यम से पैदा करके शव को जलाया जाता है और बचे हुए अवशेष को दूसरे द्वार से एक नली के माध्यम से निकाला जाता है जो की एक राख के रूप में होता है जिसका उपयोग अस्थिविसर्जन में किया जाता है |

गैस दाह संस्कार:
गैस दाह संस्कार में गैस के माध्यम से शव का दहन किया जाता है और गैस शमशान को एक या दो श्मशान भट्टियों के लिए बनाया जाता है। शरीर का अंतिम संस्कार करने के लिए गैस शवदाहगृह का तापमान 600-1200 °C होता है। एक गैस दाह संस्कार शमशान में एक मानव शरीर के बंद दहन, वाष्पीकरण और ऑक्सीकरण की प्रक्रिया होती है, जो बुनियादी रासायनिक यौगिकों, जैसे गैसों, राख और खनिज फ़ार्मों में राख के साथ शमशान के अवशेषों को बनाए रखता है, जिन्हें विभिन्न तरीकों से नष्ट किया जाता है। गैस दाह संस्कार मानव शवों के जलाने ,दफन या अन्य रूपों का एक विकल्प है | हालांकि गैस दाह संस्कार में आवश्यक समय शरीर के अनुसार भिन्न-भिन्न होता है, गैस शमशान में एक शव का अंतिम संस्कार करने के लिए औसतन 45 मिनट समय की आवश्यकता होती है। भट्टी एक समय में एक मानव शरीर का दाह संस्कार करने के लिए बनाया जाता है। शमशान भट्ठी गर्मी प्रतिरोधी ईंटों और आग बुझाने के संसाधन के साथ बनाया जाता है। गैस शवदाह प्रक्रिया के दौरान शरीर की अधिकतम मात्रा वाष्पीकृत हो जाती है और तीव्र अग्नि और ऊष्मा द्वारा ऑक्सीकृत हो जाती है। गैस को गैस निकास प्रणाली से बाहर कर दिया जाता है और ज्वालामुखी पर्वत का मुंह की आकृति के माध्यम से धुएं का निकास होता है और पानी को अपशिष्ट उपचार संयंत्र के माध्यम से निकाल दिया जाता है ।
परन्तु इन दोनों तरीको से शवदहन करने पर कुछ धार्मिक क्रियाएं नहीं की जा सकती जैसे की कपाल क्रिया ।
राजधानी दिल्ली की विषाक्त हवा को साफ करने के उद्देश्य से राष्ट्रीय हरित अधिकरण ने दिल्ली सरकार से कहा है कि वे अंतिम संस्कार की आग में ईंधन के रूप में लकड़ी को बदलने के लिए बिजली और गैस के लिए कार्यक्रम शुरू करें।दिल्ली में दर्जनों पारंपरिक शमशान घाट हैं जहां हिंदू लोग खुले में जलाऊ लकड़ी के ढेरों को जलाकर शवों का दाह संस्कार करते हैं| आसमान में काले धुएं के बादल छंटते हैं और बड़ी मात्रा में राख पैदा करते हैं जो नदियों में फेंक दिया जाता है | बिजली और गैस के माध्यम से शव को जलाने पर बहुत कम राख और धुआं उत्पन्न होता है | ये पर्यावरण के लिए अत्यंत लाभकारी है |

संदर्भ
https://bit.ly/33VrkqG
https://bit.ly/3eZ47dw
https://bit.ly/3fuxBik
https://bit.ly/3wlBixK
https://bit.ly/3wjlOtZ
https://bit.ly/2S9o2xg


चित्र संदर्भ
1.शवदाह गृह का एक चित्रण (Wikimedia)
2. इलेक्ट्रिक श्मशान के अंदर मानव शव के अंतिम संस्कार का एक चित्रण (Wikimedia)
3. पूरी तरह से स्वचालित मानव शवदाह मशीन का एक चित्रण (Youtube)



RECENT POST

  • अत्यधिक कठिन, महंगा और अवैध भी है कछुओं की कई प्रजातियों को घर में पालना
    निवास स्थान

     02-12-2021 08:44 AM


  • भारत में चुनावी प्रक्रिया एवं संयुक्त राज्य अमेरिका से इसकी तुलना
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     01-12-2021 09:10 AM


  • अंग्रेजी शब्द कोष में Pyjama आया है हिंदी-उर्दू शब्द पायजामा से
    ध्वनि 2- भाषायें

     30-11-2021 10:37 AM


  • अवध के पूर्व राज्यपाल एलामा ताफज़ुल हुसैन के पारंपरिक भारतीय विज्ञान पर लेख व् पुस्तकें
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     29-11-2021 09:06 AM


  • 1999 में युक्ता मुखी को मिस वर्ल्ड सौंदर्य प्रतियोगिता का ताज पहनाया गया
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2021 01:04 PM


  • भारत में लोगों के कुल मिलाकर सबसे अधिक मित्र होते हैं, क्या है दोस्ती का तात्पर्य?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     27-11-2021 10:17 AM


  • शीतकालीन खेलों के लिए भारत एक आदर्श स्थान है
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     26-11-2021 10:26 AM


  • प्राचीन भारत के बंदरगाह थे दुनिया के सबसे व्यस्त बंदरगाहों में से एक
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     25-11-2021 09:43 AM


  • धार्मिक किवदंतियों से जुड़ा हुआ है लखनऊ के निकट बसा नैमिषारण्य वन
    छोटे राज्य 300 ईस्वी से 1000 ईस्वी तक

     24-11-2021 08:59 AM


  • कैसे हुआ सूटकेस का विकास ?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     23-11-2021 11:18 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id