भविष्य में आने वाली 5G क्रांति पर्यावरण पर क्या प्रभाव डालेगी?

लखनऊ

 05-06-2021 10:38 AM
संचार एवं संचार यन्त्र

विश्व भर में बहुचर्चित 5वीं पीढ़ी (5G) के वायरलेस (Wireless) नेटवर्क (Network) को अगले कुछ वर्षों में लागू कर दिया जाएगा, जिसकी तैयारी अभी से शुरू कर दी गई है। यदि देखा जाएं तो जहां 5G, तकनीक के विकास के लिए काफी महत्वपूर्ण है, वहीं इसे लगाने के बाद के प्रभाव काफी हानिकारक हैं, जिसको देखते हुए आबादी का एक वर्ग इस तकनीक के उपयोग के खिलाफ रहा है।अब अभिनेत्री जूही चावला, जो एक पर्यावरण कार्यकर्ता भी हैं, ने इसे लागू करने के खिलाफ मुकदमा दायर किया है।अभिनेत्री जूही चावला ने साझा किया कि हालांकि वह तकनीकी विकास के खिलाफ नहीं हैं, ‘बल्कि हमारे पास यह मानने के पर्याप्त कारण है कि 5G नेटवर्क से निकलने वाली विकिरण लोगों के स्वास्थ्य और सुरक्षा के लिए बेहद हानिकारक और अहितकर है’। यदि देखा जाएं तो, संजाल की प्रत्येक पीढ़ी अपने साथ मोबाइल संचार के विकास में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल करती है। 1980 के दशक में पेश किया गया 1G केवल वॉयस कॉल (Voice call)का समर्थन करता था। 1990 के दशक की शुरुआत 2G ने डिजिटल (Digital) आवाज प्रदान की थी।1998 में, 3Gने वीडियो कॉलिंग (Video calling) और मोबाइल इंटरनेट तक पहुँच को संभव बनाया। 2008 में पेश किए गए 4G नेमोबाइल के माध्यम से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग (Video conferencing) और गेमिंग (Gaming) में हमारे अनुभव में सुधार किया है। आज ज्यादातर सेल फोन 3G और 4G तकनीक का इस्तेमाल करते हैं। वहीं 5G का प्रविस्तारण 2019 में शुरू हो चुका था, यह ब्रॉडबैंड (Broadband) सेलुलर (Cellular) नेटवर्क अधिक उपकरणों के उपयोग के लिए तेज गति और उच्च क्षमता देने का वादा करता है। जीएसएमएसोसिएशन (GSMAssociation) के अनुसार, 5G नेटवर्क के 2025 तक दुनिया भर में 1.7 बिलियन से अधिक ग्राहक होने का अनुमान है। अपने पूर्ववर्तियों की तरह, इसमें सेवा क्षेत्र को छोटे भौगोलिक क्षेत्रों में विभाजित किया जाता है,इन्हें सेल (Cell) कहा जाता है। सेल में सभी 5G तारविहीन यंत्र स्थानीय एंटीना (Antenna) के माध्यम से रेडियो (Radio) तरंगों द्वारा इंटरनेट (Internet) और टेलीफोन (Telephone) नेटवर्क से जोड़े जाते हैं। इस नए नेटवर्क का मुख्य लाभ यह है कि ये तकनीक उच्च मल्टी-जीबीपीएस (multi-Gbps) उच्चडाउनलोड (Download) गति, अत्यंत कम विलंबता, अधिक विश्वसनीयता, बड़े पैमाने पर नेटवर्क क्षमता, बढ़ी हुई उपलब्धता और अधिक उपयोगकर्ता के लिए एक समान उपयोगकर्ता अनुभव प्रदान करने में सक्षम होगा।
सरल शब्दों में ऐसा कहा जा सकता है कि 5G, 4G LTEकी तुलना में कम दूरी पर अधिक डेटा (Data) प्रसारित करता है।यह गति में होने पर भी संयोजन संकेतों और नेटवर्क की गति और स्थिरता में मदद करता है।नए संकेत वर्णक्रम के उपयोग के कारण नेटवर्क अधिक उपकरणों का समर्थन करने में सक्षम है। इन सब के अलावा, ऊर्जा-कुशल तकनीक कम बिजली का उपयोग करती है।जैसा कि हम जानते हैं कि 4G LTE काफी प्रभावशाली है, इसके उपयोगकर्ताओं में भी हम काफी वृद्धि देख सकते हैं, जिस वजह से प्रमुख शहरों में वर्तमान LTE नेटवर्क अतिभारित होते जा रहे हैं, और व्यस्त समय में नियमित रूप से इनमें रुकावट को देखा जा सकता है। जिसको देखते हुए इंटरनेट से जुड़े स्मार्ट (Smart) उपकरणों के उदय का मतलब होगा कि हमें पहले से मौजूद अरबों उपकरणों का समर्थन करने के लिए एक तेज, उच्च क्षमता वाली प्रणाली की आवश्यकता है। इन सभी फ़ायदों के अलावा,5G के आने के बाद मोबाइल डेटा सस्ता हो सकता है, कम बिजली की खपत होगी, और आज की तुलना में तेज गति के साथ अधिक उपकरणों को जोड़ा जा सकता है।बेहतर इंटरनेट अनुभव इस नेटवर्क का प्रत्यक्ष परिणाम है। इसके अलावा, मोबाइल ब्रॉडबैंड की पांचवीं पीढ़ी कई लाभ लाएगी, जिनमें से अधिकांश को निम्नलिखित द्वारा परिभाषित किया जा सकता है: बड़े पैमाने पर इंटरनेट ऑफ थिंग्स (Internet of Things - IoT) में उन्नयन करने से उद्योग और उपभोक्ताओं दोनों के लिए तकनीक आधारित विकास होगा। जबकि कई इंटरनेट ऑफ थिंग्स उपकरण पहले से ही उपयोग में हैं, वे वर्तमान इंटरनेट ढांचे द्वारा सीमित हैं।5G का मतलब है कि बैटरी (Battery) से चलने वाले उपकरण सक्रिय रह सकते हैं और दूरस्थ, असुविधाजनक या दुर्गम क्षेत्रों में नए पूरी तरह से वायरलेस उपकरणों के उपयोग की अनुमति मिलती है। स्मार्ट तापस्थापी और स्पीकर (Speakers)से लेकर औद्योगिक कार्गो (Cargo) और सिटी पावर ग्रिड (City power grid) में सेंसर (Sensor) तक, हर चीज की अपनी भूमिका होगी।स्मार्ट सिटी और उद्योग 4.0 का लक्ष्य हमें अधिक कुशल, सुरक्षित, उत्पादक कार्य और जीवन देना है। 5Gसमर्थित इंटरनेट ऑफ थिंग्स शहरों को बेहतर बुनियादी ढांचे की निगरानी प्रदान करने की कुंजी है। इसका उपयोग कारखानों में गतिशील रूप से कार्य प्रक्रियाओं को स्थानांतरित करने में स्मार्ट स्वचालन के लिए भी किया जाएगा। इसके विपरीत, तकनीकी रूप से उन्नत होने का एक प्रतिफल हैकिंग के खतरों से जूझना भी है।कुछ सुरक्षा चिंताएँ नेटवर्क से ही उत्पन्न होती हैं, जबकि अन्य में 5Gसे संयोजित होने वाले उपकरण शामिल होते हैं। लेकिन दोनों पहलुओं ने उपभोक्ताओं, सरकार और व्यवसायों को जोखिम में डाल दिया है।हालांकि जहां भारतीय कंपनियां उपभोक्ता को 5G की सेवा प्रदान करने का प्रयास कर रही है, वे इस नए नेटवर्क के पर्यावरणीय प्रभावों को अनदेखा भी कर रहे हैं। ऐसे समय में जब पर्यावरण सबसे नाजुक स्थिति में है, इन प्रभावों को नजरअंदाज करना आने वाली पीढ़ियों के लिए बेहद जोखिम भरा है।चूंकि 5G एक नई तकनीक है, इसलिए पर्यावरण पर इसके दीर्घकालिक प्रभाव अज्ञात हैं। लेकिन एरिक्सन (Ericcson) की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि 2025 के अंत तक, 5G के 2.6 बिलियन उपयोगकर्ता होंगे,तब तक कुल वैश्विक मोबाइल सदस्यता 5.8 बिलियन तक पहुंचने की उम्मीद है। 2030 तक, दुनिया भर में इंटरनेट ऑफ थिंग्स उपकरणों की संख्या 125 बिलियन हो सकती है। उस समय, सूचना प्रौद्योगिकी के सभी वैश्विक बिजली खपत के पांचवें हिस्से के लिए जिम्मेदार होने की उम्मीद है और 2040 तक यह दुनिया भर में ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन का 14 प्रतिशत उत्पन्न कर सकता है। यदि पूरी प्रणाली ऊर्जा कुशल नहीं है, तो अंततः 5G टिकाऊ नहीं होगा।हालाँकि, पहले से ही ये चिंताएँ जताई जा रही हैं कि 5G अपने ऊर्जा उपयोग, और नए बुनियादी ढांचे के निर्माण और नए उपकरणों की भीड़ के कारण पर्यावरण पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।
वर्तमान में, सूचना और संचार प्रौद्योगिकी वैश्विक बिजली खपत के लगभग 4 प्रतिशत और वैश्विक कार्बन (Carbon) उत्सर्जन के 1.4 प्रतिशत के लिए जिम्मेदार है।2019 में, द शिफ्ट प्रोजेक्ट (The Shift Project) के अध्यक्ष, एक फ्रांसीसी (French) थिंक टैंक (Think tank), जो कार्बन- पश्चात अर्थव्यवस्था में बदलाव की अभिवक्ताकरते हैं, ने कहा, “प्रत्येक बाइट (Byte) के पीछे खनन और धातु प्रसंस्करण, तेल निष्कर्षण और पेट्रोकेमिकल्स (Petrochemical), विनिर्माण और मध्यवर्ती परिवहन, सार्वजनिक कार्य और कोयला और गैस से बिजली उत्पादन शामिल है। नतीजतन, वैश्विक डिजिटल प्रणाली का कार्बन पदचिह्न पहले से ही वैश्विक ग्रीनहाउस गैस (Greenhouse gas) उत्सर्जन का चार प्रतिशत है, और इसकी ऊर्जा खपत प्रति वर्ष नौ प्रतिशत बढ़ जाती है।ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में वृद्धि इस तथ्य के कारण होगी कि उपभोक्ताओं को 5G का पूरा लाभ उठाने के लिए नए 5G मोबाइल फोन खरीदने होंगे।एक स्वीडिश (Swedish) अध्ययन ने गणना की कि एक स्मार्ट फोन अपने पूरे जीवनकाल के दौरान 45 किलोग्राम CO2 का उत्पादन करता है, जिसमें से अधिकांश उत्पादन चरण से एकीकृत सर्किट (Circuit) के निर्माण, कच्चे माल के स्रोत, फोन आवरण का उत्पादन, फिर संयोजन और वितरण से आता है।जैसे-जैसे दुनिया भर के उपभोक्ता 5Gफोन की ओर बढ़ेंगे, कई पुराने फोन और इंटरनेट ऑफ थिंग्स डिवाइस को छोड़ दिया जाएगा, और यदि अगर उनके लिए कोई वापसी क्रय नीतिया पुनर्चक्रण योजना नहीं है। इससे भारी मात्रा में ई-कचरा निकलेगा, जो पहले से ही एक बड़ी वैश्विक समस्या है। 5G की पूर्ण प्रविस्तारण से पारिस्थितिकी तंत्र पर विघटनकारी प्रभाव पड़ सकता है। पंजाब यूनिवर्सिटी के एक अध्ययन में पाया गया कि पांच से 30 मिनट तक सेल टावर विकिरण के संपर्क में रहने वाली गौरैया विकृत अंडे देती हैं। स्पेन (Spain) में, एक सेल टॉवर से माइक्रो तंरग (Microwave) विकिरण से पक्षियों का घोंसला बनाना, प्रजनन करना और बसना बाधित हो गया था। वायरलेस आवृत्तियों को भी नेविगेशन (Navigational)प्रणाली और पक्षियों की सर्कैडियन लय में हस्तक्षेप करने के लिए पाया गया है, जिससे प्रवासन प्रभावित होता है।एक अन्य अध्ययन में पाया गया कि 10 मिनट के लिए कम बैंड स्पेक्ट्रम विकिरण के संपर्क में आने वाली मधुमक्खियों के उपनिवेश को पतन विकार का सामना करना पड़ रहा है। और कुछ शोधों में पाया गया है कि मधुमक्खी सहित कीड़े, 5G वर्णक्रम से अधिक विकिरण को अवशोषित करते हैं। इससे समय के साथ कीट व्यवहार और कार्यों में परिवर्तन हो सकता है।इसके अलावा,5G नेटवर्क का उपयोग करने के लिए नए उपकरणों का प्रसार और नए 5G-निर्भर उपकरणों के लिए उपभोक्ताओं की मांग में वृद्धि काफी गंभीर पर्यावरणीय परिणाम को साथ लेकर आएगी।5G नेटवर्क में उपयोग होने वाली तकनीक से पक्षियों पर भी काफी हानिकारक प्रभाव पड़ता है, जो बदले में संपूर्ण पारिस्थितिक तंत्र के माध्यम से व्यापक प्रभाव डालता है। और, जबकि 5G डेवलपर्स (Developer) एक ऐसा नेटवर्क बनाने की तलाश कर रहे हैं जिसका पिछले नेटवर्क की तुलना में कम पर्यावरणीय प्रभाव हो, तो अभी भी सुधार करने की गुंजाइश है और व्यापक रूप से शुरू होने से पहले 5G के परिणामों पर विचार किया जाना चाहिए।

संदर्भ :-
https://bit.ly/34FBBrg
https://bit.ly/2SQThNZ
https://bit.ly/3fJHXMA
https://bit.ly/3uMUvaf
https://bit.ly/3pi0we3

चित्र संदर्भ
1.जर्मनी में वोडाफोन की 5G 3.5 GHz सेल साइट का एक चित्रण (wikimedia)
2. 5G समर्थक मोबाइल का एक चित्रण (flickr)
3. मोबाइल टावर और जर्जर भूमि का एक चित्रण (wikimedia)


RECENT POST

  • इंजीनियरिंग का एक अद्भुत कारनामा है, कोलोसियम
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     25-07-2021 02:23 PM


  • आठ ओलंपिक स्वर्ण पदक के पश्चात अब लाना है फिर से भारतीय हॉकी को विश्व स्तर पर
    द्रिश्य 2- अभिनय कला य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     24-07-2021 10:21 AM


  • मौन रहकर भी भावनाओं की अभिव्यक्ति करने की कला है माइम Mime
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     23-07-2021 10:11 AM


  • भारत में यहूदि‍यों का इतिहास और यहां की यहूदी–मुस्लिम एकता
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     22-07-2021 10:37 AM


  • पश्चिमी और भारतीय दर्शन के अनुसार भाषा का दर्शन तथा सीखने और विचार के साथ इसका संबंध
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-07-2021 09:40 AM


  • विश्व के इतिहास में सामाजिक समूहों के लिए गहरा महत्व रखता रहा है बलिदान
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     20-07-2021 10:20 AM


  • शहर के मास्टर प्लान में शामिल किया जाना चाहिए मलिन बस्तियों का विकास
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     18-07-2021 06:09 PM


  • 1857 में लखनऊ से संबंधित एक मूक ब्लैक एंड वाइट फिल्म है, द रिलीफ ऑफ लखनऊ
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     18-07-2021 02:23 PM


  • विभिन्न धर्मों सहित दुनियाभर में मिल जाएंगे, महाबली हनुमान के मंदिर और उपासक
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-07-2021 10:12 AM


  • लखनऊ के मिर्जा हादी रुसवा का प्रसिद्ध 19वीं सदी उर्दू उपन्यास उमराव जान अदा
    ध्वनि 2- भाषायें

     16-07-2021 09:43 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id