क्यों है भारत को ब्लू इकोनॉमी blue economy और महासागरों के तत्काल संरक्षण की आवश्यकता?

लखनऊ

 08-06-2021 08:37 AM
समुद्र

हम जमीन पर जीने वाले प्राणी हैं किन्‍तु महासागरों पर हमारी निर्भरता हमारी कल्‍पना से परे है। पृथ्‍वी की सतह के तीन चौथाई हिस्‍से में महासागर हैं जिनमें पृथ्‍वी का 97% जल है और जो परिमाण के हिसाब से पृथ्‍वी पर जीने की 99% जगह घेरे हुए हैं। 3 अरब से अधिक लोग अपनी आजीविका के लिए समुद्री और तटीय जैव विविधता पर निर्भर हैं।पर्यटन और मत्स्य पालन जैसे महासागर आधारित उद्योग वर्तमान में आय और नौकरियों के प्रमुख स्रोत हैं।अपतटीय पवन ऊर्जा, बढ़ती जलीय कृषि और समुद्री जैव प्रौद्योगिकी जैसी नई गतिविधियों का उदय महासागर अर्थव्यवस्था के विकास को गति दे रहा है। समुद्र हमें भोजन और खनिज प्रदान करते हैं, ऑक्सीजन उत्पन्न करते हैं, ग्रीनहाउस गैसों को अवशोषित करते हैं और जलवायु परिवर्तन को नियंत्रण में रखते हैं, मौसम के पैटर्न (pattern) तथा तापमान का निर्धारण करते हैं, साथ ही समुद्र-जनित अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के लिए राजमार्गों के रूप में कार्य करते हैं।सतत विकास, आर्थिक विकास और आजीविका प्राप्त करने में महासागर और समुद्र एक प्रमुख भूमिका निभा रहे हैं। हालांकि, इनका विस्तार पर्यावरण और सामाजिक स्थिरता के लिए पर्याप्त विचार के बिना हुआ है जिसके कारण कम वेतन वाली नौकरियां पैदा हुई हैं और पर्यावरण में गिरावट आई है। साथ-साथ ये क्षेत्र जलवायु परिवर्तन, समुद्र प्रदूषण और अत्यधिक मछली पकड़ने से भी प्रभावित हुये हैं। परंतु विकासशील देश संबंधित जोखिमों और अवसरों का आकलन कर महासागरीय अर्थव्यवस्था को दीर्घकालीन, समावेशी और सतत विकास के लिए उत्प्रेरक बना सकते हैं। स्थायी वैश्विक महासागर अर्थव्यवस्था को अपना कर विकासशील राज्यों के साथ-साथ छोटे गरीब द्वीप और सबसे कमजोर देशों को भी लाभ हो सकता है।इस पहल के चार मुख्य उद्देश्य हैं:
पहला, विकासशील देशों के लिए उपलब्ध ज्ञान के आधार को बढ़ाना और उनके नीतिगत विकल्पों का आकलन करने में उनकी मदद करना।
दूसरा, अधिक प्रभावी और समन्वित कार्रवाई को बढ़ावा देने के लिए विकास सहयोग प्रदाताओं के लिए नए साक्ष्य विकसित करना।
तीसरा, पर्याप्त घरेलू नीतियों और अंतर्राष्ट्रीय समन्वय के माध्यम से, एक स्थायी समुद्री अर्थव्यवस्था के लक्ष्य के साथ सार्वजनिक और निजी वित्त को बेहतर ढंग से संरेखित करने में मदद करना।
चौथा, दुनिया भर के मंत्रालयों, एजेंसियों (agencies), शिक्षाविदों, फाउंडेशनों (foundations), गैर सरकारी संगठनों और निजी क्षेत्र के बीच संवाद और आपसी शिक्षा को बढ़ावा देना।
लघु द्वीप विकासशील राज्य (Small Island Developing States (SIDS)) आज सतत विकास के अपने पथ पर एक महत्वपूर्ण मोड़ पर खड़े हैं। हम उन्हें उनकी परिस्थितियों और आवश्यकता के अनुरूप वित्त सहायता और अन्य संसाधनों तक पहुँचने में मदद करने के लिए सांख्यिकीय डेटा (statistical data) और नीति विश्लेषण (policy analysis) प्रदान कर सकते हैं। इन लघु द्वीप विकासशील राज्यों के पास छोटे भू- भाग हैं लेकिन इनके पास विशाल महासागरीय संसाधन भी हैं। नए क्षेत्रों में निवेश के साथ-साथ मौजूदा महासागर-आधारित क्षेत्रों के सतत विकास को बढ़ावा देना, उनकी अर्थव्यवस्थाओं में विविधता लाना, समावेशी विकास को बढ़ावा देने के प्रमुख अवसरों में से एक का प्रतिनिधित्व करता है।
व्यापार एवं विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (UNCTAD) विकासशील देशों को उन अवसरों और चुनौतियों की पहचान करने में सहायता कर रहा है जो महासागरीय अर्थव्यवस्था (Oceans Economy) को अपना सकते हैं। यह राष्ट्रीय और क्षेत्रीय महासागर अर्थव्यवस्था तथा व्यापार रणनीतियों की परिभाषा और कार्यान्वयन के माध्यम से स्थायी महासागर आर्थिक क्षेत्रों के विकास और उद्भव को बढ़ावा देने वाली एक सक्षम नीति और नियामक वातावरण तैयार करने और बनाने के लिए राष्ट्रीय व्यापार और अन्य सक्षम अधिकारियों का भी समर्थन करता है। लेकिन भोजन, आजीविका और यहां तक ​​कि हम जिस हवा में सांस लेते हैं उसे प्रदान करने के बावजूद भी,मानव गतिविधियों का इन महासागरों पर बुरा असर हुआ है।वर्तमान में हमें समुद्रों की रक्षा करने की आवश्यकता है।विशेष रूप से भारत जैसे प्रायद्वीपीय देश के लिए, और दुनिया भर में इसी तरह के तटीय या द्वीप देशों के लिए जहां समुद्र और उसके पारिस्थितिकी तंत्र पर अपने अस्तित्व और आजीविका के लिए निर्भर बड़े समुदाय रहते हैं। तटीय नीतियां इनके भविष्य की सुरक्षा के लिए एक महत्वपूर्ण उपकरण बन सकती है।दुनिया की एक तिहाई से अधिक आबादी एक समुद्री तट के 100 किमी के भीतर रहती है। भारत में हमारे महासागरों पर प्लास्टिक प्रदूषण, अत्यधिक मछली पकड़ने, जलवायु परिवर्तन, तटीय विकास और गैर-जिम्मेदार पर्यटन के प्रभाव को अब उजागर करना शुरू कर दिया गया है। सरकारी और निजी वैज्ञानिक अनुसंधान समूह, संस्थान, स्वतंत्र वैज्ञानिक और पारिस्थितिकीविद भारत भर में समुद्री प्रजातियों, प्रवाल भित्तियों, तटीय और समुद्री पारिस्थितिक तंत्र का अध्ययन कर रहे हैं, जिससे बड़ी मात्रा में जानकारी उपलब्ध हो रही है जो हमारी नीतियों को प्रभावित कर रही है और नागरिकों को इसके महत्व के बारे में जागरूक कर रही है। भारत में मनोरंजन के लिये हो रहे तटों के उपयोग से ना केवल समुद्रों को नुकसान हो रहा हैं बल्कि परंपरागत रूप समुद्रों पर आश्रित मूल निवासियों को भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। ऊदाहरण के लिये भारत के पश्चिमी तट पर स्थित, गोवा क्षेत्रफल के मामले में भारत का सबसे छोटा राज्य है और समृद्ध वनस्पतियों तथा जीवों का एक जैव विविधता हॉटस्पॉट (biodiversity hotspot) है, अपने रेतीले समुद्र तटों और समृद्ध नाइटलाइफ़ (nightlife) के साथ, यह भारत के सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक है। परंपरागत रूप से, गोवा के मूल निवासी कृषि, खेती, मछली पकड़ने, आदि पर निर्भर हैं। परंतु जैसे ही पर्यटन एक राजस्व अर्जक के रूप में उभरा, ऊंची इमारतों, रिसॉर्ट्स (resorts), आवासीय स्थानों मे समुद्र तट के किनारे लगभग हर जगह अपना कब्जा कर लिया। परंतु इससे स्थानीय समुदाय, जिनकी पारंपरिक आजीविका आंतरिक रूप से समुद्र से जुड़ी हुई है, तटीय उपयोग के पैटर्न में भारी बदलाव के कारण उनकी आजीविका पर संकट आ गया है। इन समस्याओं को देखते हुये टेरा कॉन्शियस (Terra Conscious) ने एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है। टेरा कॉन्शियस ने आठ स्थानीय सामुदायिक नाव संचालकों के साथ भागीदारी की है। साथ ही साथ वे वन्यजीव देखने के दिशा-निर्देशों का पालन करके अपने ग्राहकों के लिए बेहतर दृश्य प्रदान करते है, समुद्र तटों से कचरा साफ करते है और कोशिश करते है कि समुद्र का पारिस्थितिक तंत्र बना रहे और स्थानीय लोगों की आजीविका भी चलती रहे।
वर्तमान में भारत में महासागरों के संरक्षण की तत्काल आवश्यकता है, क्योंकि ये समुद्र ही भारत के 16 मिलियन से अधिक मछुआरों और तटीय समुदायों की आजीविका का महत्त्वपूर्ण स्रोत है, देश की 7,500 किमी लंबी तटीय रेखा नौ तटीय राज्यों और 1,382 द्वीपों का घर है। भारत में 12 प्रमुख बंदरगाह और 200 अन्य बंदरगाह हैं, जहां हर साल लगभग 1,400 मिलियन टन कार्गो का प्रबंधन होता हैं, क्योंकि भारत की नीली अर्थव्यवस्था, परिवहन के माध्यम से देश के व्यापार का 95% व्यापार समुद्र मार्गों द्वारा किया जाता है, जिसका सकल घरेलू उत्पाद में योगदान 4% तक है। भारत भी समुद्री विविधताओं से भरा हुआ है अतः यहां पर इस व्यापार से एक बड़ी आर्थिक मजबूती प्राप्त हो सकती है। इसलिये भारत ने ब्लू इकोनॉमी निति को अपनाया है। ‘ब्लू इकॉनमी’ निति देश में उपलब्ध समुद्री संसाधनों के उपयोग के लिए भारत सरकार द्वारा अपनायी जा सकने वाली दृष्टि और रणनीति को रेखांकित करता है। वहीं, इसका उद्देश्य भारत के जीडीपी में ‘ब्लू इकॉनमी’ के योगदान को बढ़ावा देना, तटीय समुदायों के जीवन में सुधार करना, समुद्री जैव विविधता का संरक्षण करना, तटीय सामुदायिक विकास और समुद्री क्षेत्रों और संसाधनों की राष्ट्रीय सुरक्षा बनाए रखना भी है।आज, हमारी सरकार भी अन्य विषयों के अतिरिक्त ब्लू इकॉनमी (Blue Economy) अर्थात नीली अर्थव्यवस्था (समुद्र के विभिन्न घटकों से जुड़ी आर्थिक गतिविधियों को शामिल करते हुए) को भी स्थान दे रही हैं।सरकार का एक एकीकृत समुद्री विकास कार्यक्रम है जिसे सागरमाला कार्यक्रम कहा जाता है जो सरकार की समुद्री दृष्टि पर केंद्रित है। भारत के लिए नीली अर्थव्यवस्था का अर्थ है आर्थिक अवसरों का एक विशाल महासागर जो आजीविका पैदा करने और बनाए रखने में समान रूप से महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।भारत की तटीय आबादी के लिये भोजन एवं पोषण के मुख्य साधन के रूप में मछली का ही उपयोग किया जाता है। भारत में यदि इस क्षेत्र को और अधिक प्रोत्साहन दिया जाता है तो यह भारत के पोषण स्तर को सुधारने का एक सस्ता स्रोत हो सकता है। इसके अतिरिक्त यह निर्यात के रूप में आर्थिक लाभ भी उत्पन्न कर सकता है। भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा मछली उत्पादक और दूसरा सबसे बड़ा जलीय कृषि मछली उत्पादक देश भी है।इन सभी क्षेत्रों में एक बड़े कार्यबल को शामिल करने की क्षमता है, और पिछले कई दशकों से मछली पकड़ने, जलीय कृषि, मछली प्रसंस्करण, समुद्री पर्यटन, शिपिंग (shipping sector) और बंदरगाह गतिविधियों के क्षेत्रों में नीली अर्थव्यवस्था के कारण बड़े पैमाने पर वृद्धि भी हुई है। शिपिंग क्षेत्र भी नीली अर्थव्यवस्था में प्रमुख आजीविका प्रदाताओं में से एक है क्योंकि भारत के पास सबसे बड़े व्यापारी शिपिंग बेड़े में है जिससे यह व्यापार दुनिया में 17 वें स्थान पर है।समुद्री बंदरगाह भी रोजगार का एक बड़ा स्रोत हैं। भारत के प्रमुख बंदरगाहों के विपरीत, छोटे बंदरगाहों में नौकरियां 2003 में 1,933 से बढ़कर 2017 में 19,102 हो गई थी। समुद्री पर्यटन भी एक ऐसा क्षेत्र है जो विश्व स्तर पर और भारत में सबसे तेजी से बढ़ रहा है। विशेष रूप से केरल, कर्नाटक और तमिलनाडु जैसे तटीय राज्यों में, तटीय पर्यटन ने राज्य की अर्थव्यवस्था और आजीविका दोनों में बड़े पैमाने पर योगदान दिया है।इसलिये भारत नीली अर्थव्यवस्था की अवधारणा पर बल दे रहा है ताकि महासागरीय संसाधनों का उचित उपयोग किया जा सके।

संदर्भ:
https://bit.ly/2RriqhR
https://bit.ly/3iiZAV9
https://bit.ly/3fRWg1H
https://bit.ly/3fY92fj

चित्र संदर्भ
1. भारतीय मछुआरों का एक चित्रण (flickr)
2. गोवा में समुद्री मछुआरों का एक चित्रण (flickr)
3. व्यापार एवं विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (UNCTAD) का एक चित्रण (wikimedia)
4. सिंगापुर के कार्गों जहाज का एक चित्रण (unsplash)


RECENT POST

  • लखनऊ सहित अन्य बड़े शहरों में, समय आ गया है सड़क परिवहन को कार्बन मुक्त करने का
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:35 AM


  • यूक्रेन युद्ध, भारत में कई जगह सूखा, बेमौसम बारिश,गर्मी की लहरों से उत्पन्न खाद्य मुद्रास्फीति
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:44 AM


  • हम लखनऊ वासियों को समझनी होगी प्रदूषण, अतिक्रमण से पीड़ित जल निकायों व नदियों की पीड़ा
    नदियाँ

     25-05-2022 08:16 AM


  • लखनऊ के हरित आवरण हेतु, स्थानीय स्वदेशी वृक्ष ही पारिस्थितिकी तंत्र के लिए सबसे उपयुक्त
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:37 AM


  • स्वास्थ्य सेवा व् प्रौद्योगिकी में माइक्रोचिप्स की बढ़ती वैश्विक मांग, क्या भारत बनेगा निर्माण केंद्र?
    खनिज

     23-05-2022 08:50 AM


  • सेलफिश की गति मछलियों में दर्ज की गई उच्चतम गति है
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:40 PM


  • बच्चों को खेल खेल में, दैनिक जीवन में गणित के महत्व को समझाने की जरूरत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:09 AM


  • भारत में जैविक कृषि आंदोलन व सिद्धांत का विकास, ब्रिटिश कृषि वैज्ञानिक अल्बर्ट हॉवर्ड द्वारा
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:03 AM


  • लखनऊ की वृद्धि के साथ हम निवासियों को नहीं भूलना है सकारात्मक पर्यावरणीय व्यवहार
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:47 AM


  • एक समय जब रेल सफर का मतलब था मिट्टी की सुगंध से भरी कुल्हड़ की स्वादिष्ट चाय
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:47 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id