प्रथम विश्व युद्ध में भारतीय सैनिकों तथा विभन्न डिविजनो का योगदान

लखनऊ

 12-06-2021 09:29 AM
उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

विश्व युद्ध कि चर्चाएँ हमें अक्सर सुनाई दे जाती हैं, परंतु लगभग हर बार हम युद्ध में भारत के योगदान को समझने से वंचित रह जाते हैं, जिसका प्रमुख कारण है की बहुत कम ऐसी किताबें है, जहाँ विश्व युद्ध में भारतीयों के योगदान को सराहा गया हो। लेख में हम कुछ ऐसी ही दुर्लभ घटनाओं कि चर्चा करेंगे।
भारतीय सेना ने प्रथम विश्व युद्ध में यूरोपीय, भूमध्यसागरीय और मध्य पूर्व के युद्ध क्षेत्रों में अपने अनेक डिविजनों और स्वतन्त्र ब्रिगेडों कि मदद से अहम योगदान दिया था। इस महायुद्ध के दौरान, दस लाख भारतीय सैनिकों ने अलग-अलग देशों में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इन दस लाख सैनिकों में से लगभग 62,000 सैनिक मारे गए थे, और अन्य 67,000 घायल हो गए। युद्ध के दौरान कुल मिलाकर 74,187 भारतीय सैनिकों (जिसे कभी-कभी 'ब्रिटिश भारतीय सेना' कहा जाता है) की मृत्यु हुई थी। 1903 में किचनर (Kitchener) को भारत का कमांडर-इन-चीफ नियुक्त किया गया, और नियुक्ति के साथ ही इन्होने भारतीय सेना में सुधार करने के उद्द्येश्य से प्रेसीडेंसियों की तीनों सेनाओं को एकीकृत कर एक संयुक्त सैन्य बल बनाया, और उच्च-स्तरीय संरचनाओ तथा दस आर्मी डिविजनों का गठन भी किया।
विश्व युद्ध के दौरान प्रतिवर्ष लगभग 15,000 जवानों की भर्ती हो रही थी, इस दौरान 800,000 से अधिक लोगों ने अपनी इच्छा से सेना में योगदान दिया, और लगभग 400,000 से अधिक लोगों ने सीधे अथवा गैर-युद्धक भूमिका अदा की। युद्ध के दौरान स्थायी डिवीजनों के साथ ही भारतीय सेना ने कई स्वतंत्र ब्रिगेडों का भी गठन किया था, जिन्हें सात अभियान बलों में वर्गीकृत करने के पश्चात् विदेशो के लिए रवाना कर दिया गया।
1. भारतीय अभियान बल (A) भारतीय अभियान बल ए (Indian Expeditionary Force A) जनरल सर जेम्स विलकॉक्स के अंतर्गत चल रहा था, जिसे ब्रिटिश एक्सपेडिशनरी फोर्स से जोड़ा गया था।
2. भारतीय अभियान बल (B) भारतीय अभियान सेना बी में 9वीं (सिकंदराबाद) डिविजन से 27वें (बैंगलोर) ब्रिगेड और एक अग्रणी बटालियन इम्पीरियल सर्विस इन्फैंट्री ब्रिगेड (Battalion Imperial Service Infantry Brigade), एक पहाड़ी तोपखाने की बैटरी और इंजीनियर शामिल थे।
3. भारतीय अभियान बल (C) इस सैन्य बल का इस्तेमाल मुख्य रूप से युगांडा के रेलवे की निगरानी और संचार सुरक्षा कार्यों में, किंग्स अफ्रीकन राइफल्स (King's African Rifles) का समर्थन करने के लिए किया गया। इसमें भारतीय सेना के 29वें पंजाबी बटालियन के साथ- साथ जींद, भरतपुर, कपूरथला और रामपुर के रियासती प्रांतों के बटालियनों, एक स्वयंसेवक 15 पाउंडर तोपखाने की बैटरी, 22वीं (डेराजट) माउंटेन बैटरी (फ्रंटियर फोर्स), एक वोलंटियर मैक्सिम गन बैटरी और एक फील्ड एम्बुलेंस भी शामिल थी।
4. भारतीय अभियान बल (D) भारतीय अभियान बल डी, देश में सेवारत भारतीय सेना का सबसे बड़ा सैन्य बल था, जिसकी कमान लेफ्टिनेंट-जनरल सर जॉन निक्सन (Sir John Nixon) के हाथों में थी।
5. भारतीय अभियान बल (E) भारतीय अभियान बल ई में, फिलिस्तीन में सेवा के लिए 1918 में फ्रांस से स्थानांतरित दो भारतीय कैवलरी डिविजन शामिल थे।
6. भारतीय अभियान बल (F) भारतीय अभियान बल एफ में 10वीं भारतीय डिवीजन और 11वीं भारतीय डिवीजन को शामिल किया गया था, दोनों डिविजनो का गठन 1914 में मिस्र में स्वेज नहर की सुरक्षा के लिए किया गया था।
7. भारतीय अभियान बल (G) अप्रैल 1915 में भारतीय अभियान बल जी, को गैलीपोली अभियान को मजबूत करने के लिए भेजा गया। इसमें 29वीं ब्रिगेड शामिल थी, जिसने अपने मूल 10वीं डिवीजन से अलग रहकर काम करना था। किचनर ने भारतीय सेना में सुधार करते हुए, 1903 में 8 वीं (लखनऊ) डिवीजन ब्रिटिश भारतीय सेना की उत्तरी सेना का गठन किया। विश्व युद्ध के दौरान यह डिवीज़न आतंरिक सुरक्षा हेतु भारत में ही रही, हालाँकि बाद में इसे फ़्रांस में कैवेलरी ब्रिगेड के साथ स्थानांतरित कर दिया गया, और 22 वीं (लखनऊ) डिवीज़न को मिश्र में 11 वीं भारतीय डिवीज़न के हिस्से के रूप कार्यरत किया गया।
इस ब्रिगेड का प्रमुख कार्य स्वेज नहर की रक्षा करना था। मई 1915 में स्वेज नहर के लिए तैनात ब्रिगेड के साथ विभाजन को भंग कर दिया गया जीससे ब्रिगेड ज्यादा समय तक नहीं टिक पाई। जनवरी 1916 में 22 वीं और 32 वीं ब्रिगेड्स टूट गई, और 31 वें ब्रिगेड में शामिल हो गई। युद्ध के अंत तक 1,100,000 भारतीयों ने विदेशों में अपनी सेवा दी थी। इस विश्व युद्ध में मेरठ की भी महत्वपूर्ण भूमिका रही, युद्ध में सबसे पहले मेरठ डिविजन जबकि दूसरी लाहौर डिविजन को मोर्चे पर भेजा गया था। युद्ध के दौरान मेरठ डिविजन की भागीदारी और जांबाजी की गाथाएं, कई किताबों, चित्रों और अंग्रेजी अफसरों की आत्मकथाओं में भी पढ़ने को मिल जाएँगी। मेरठ डिविजन को सबसे पहले फ्रांस में ही तैनात किया गया, परंतु बाद में बेल्जियम और जर्मनी में भी इसकी मदद ली गई।

संदर्भ
https://bit.ly/3pAmxF7
https://bit.ly/2rcNcxm
https://bit.ly/2Snvfdt
https://bit.ly/3cvduzY

चित्र संदर्भ
1. बर्मा में भारतीय, सैनिकों का एक चित्रण (wikimedia)
2. फ्रांस में भारतीय सैनिकों का एक चित्रण (wikimedia)
3. एक फ्रांसीसी लड़का भारतीय सैनिकों से अपना परिचय देता है जो अभी-अभी फ्रांस और ब्रिटिश सेना के साथ लड़ने के लिए फ्रांस पहुंचे थे, मार्सिले, ३० सितंबर 1914 का एक चित्रण (wikimedia)


RECENT POST

  • लखनऊ सहित कुछ चुनिंदा चिड़ियाघरों में ही शेष बचे हैं, शानदार जिराफ
    स्तनधारी

     12-08-2022 08:28 AM


  • ऑनलाइन खरीदारी के बजाए लखनऊ के रौनकदार बाज़ारों में सजी हुई राखिये खरीदने का मज़ा ही कुछ और है
    संचार एवं संचार यन्त्र

     11-08-2022 10:20 AM


  • गांधीजी के पसंदीदा लेखक, संत व् कवि, नरसिंह मेहता की गुजराती साहित्य में महत्वपूर्ण भूमिका
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     10-08-2022 10:04 AM


  • मुहर्रम के विभिन्न महत्वपूर्ण अनुष्ठानों को 19 वीं शताब्दी की कंपनी पेंटिंग शैली में दर्शाया गया
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     09-08-2022 10:25 AM


  • राष्ट्रीय हथकरघा दिवस विशेष: साड़ियाँ ने की बैंकिग संवाददाता सखियों व् बुनकरों के बीच नई पहल
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     08-08-2022 08:55 AM


  • अंतरिक्ष से दिखाई देती है,भारत और पाकिस्तान के बीच मानव निर्मित सीमा
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     07-08-2022 12:06 PM


  • भारतीय संख्या प्रणाली का वैश्विक स्तर पर योगदान
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     06-08-2022 10:25 AM


  • कैसे स्वचालित ट्रैफिक लाइट लखनऊ को पैदल यात्रियों के अनुकूल व् आज की तेज़ गति की सडकों को सुरक्षित बनाती
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     05-08-2022 11:23 AM


  • ब्रिटिश सैनिक व् प्रशासक द्वारा लिखी पुस्तक, अवध में अंग्रेजी हुकूमत की करती खिलाफत
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-08-2022 06:26 PM


  • पाकिस्तान, चीन की सीमाओं तक फैली हुई, काराकोरम पर्वत श्रृंखला की विशेषताएं व् प्राचीन व्याख्या
    पर्वत, चोटी व पठार

     03-08-2022 06:11 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id