सदियों पुराना पारिजात वृक्ष जिसका संबंध महाभारत काल से है

लखनऊ

 21-06-2021 07:26 AM
पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

बाराबंकी के किंतूर गांव में स्थापित पारिजात वृक्ष का इतिहास माता कुंती और श्री कृष्ण की पत्नी सत्यभामा से जुड़ा है। इस पेड़ के बारे में कई कहावतें हैं, जिन्हें लोकप्रिय मान्यता प्राप्त है। कहा जाता है कि अज्ञातवास के दौरान पांडवों ने माता कुंती के साथ इस किंतूर गांव में निवास किया था। इस दौरान पांडवों ने यहां भगवान भोलेनाथ का एक मंदिर स्थापित किया था, जिसका नाम कुंतेश्वर महादेव हो गया।अर्जुन इस वृक्ष को स्वर्ग से लाये और मां कुंती शिवजी को इसके फूलों को अर्पण करती थी। दूसरी कहावत है कि भगवान कृष्ण श्रीकृष्ण की पत्नी सत्यभामा ने भी इस पुष्प की मांग की थी, जिसके बाद भगवान श्रीकृष्ण उनके लिए स्वर्ग से वृक्ष लेकर आए थे।ऐतिहासिक रूप से, यद्यपि इन बातों को कोई माने या न माने, लेकिन यह सत्य है कि यह वृक्ष एक बहुत प्राचीन पृष्ठभूमि से है। परिजात के बारे में हरिवंश पुराण में कहा गया है कि परिजात एक प्रकार का कल्पवृक्ष है, यह केवल स्वर्ग में होता है। जो कोई इस पेड़ के नीचे मनोकामना करता है, वह जरूर पूरी होती है। धार्मिक और प्राचीन साहित्य में, हमें कल्पवृक्ष के कई संदर्भ मिलते हैं, लेकिन केवल किन्तुर (बाराबंकी) को छोड़कर इसके अस्तित्व के प्रमाण का विवरण विश्व में कहीं और नहीं मिलता। जिससे किन्तूर के इस अनोखे परिजात वृक्ष का विश्व में विशेष स्थान है।यह स्थानीय जिला मजिस्ट्रेट द्वारा एक संरक्षित वृक्ष है। इस पेड़ को किसी भी तरह की क्षति पहुँचाने की सख्त मनाही है।
वनस्पति विज्ञान के संदर्भ में, परिजात को ‘ऐडानसोनिया डिजिटाटा’ (Adansonia digitata) के नाम से भी जाना जाता है, तथा इसे एक विशेष श्रेणी में रखा गया है, क्योंकि यह अपने फल या उसके बीज का उत्पादन नहीं करता है, और न ही इसकी शाखा की कलम से एक दूसरा परिजात वृक्ष पुन: उत्पन्न किया जा सकता है। वनस्पति शास्त्रियों के अनुसार यह एक उभयलिंगी (unisex ) पुरुष वृक्ष है, और ऐसा कोई पेड़ अभी तक कहीं नहीं मिला है। निचले हिस्से में इस वृक्ष की पत्तियां, पांच युक्तियां वाली हैं, जबकि वृक्ष के ऊपरी हिस्से पर यह सात युक्तियां वाली होती हैं। इसका पांच पंखुड़ी वाला फूल बहुत खूबसूरत और सफेद रंग का होता है, और सूखने पर सोने के रंग का हो जाता है। इसकी सुगंध दूर-दूर तक फैलती है। इस पेड़ की आयु 1000 से 5000 वर्ष तक की मानी जाती है। इस पेड़ के तने की परिधि लगभग 50 फीट और ऊंचाई लगभग 45 फीट है।बाराबंकी के पास किंतूर गाँव में स्थित पारिजात वृक्ष पूरे देश (मध्य प्रदेश में एक अलग उप-प्रजाति के अलावा) में अपनी तरह का एकमात्र है। आसपास के लोग इसे अपना संरक्षक और इसका ऋणी मानते हैं, अतः वे इसकी पत्तियों और फूलों की रक्षा हर कीमत पर करते हैं। स्थानीय लोग इसे बहुत उच्च सम्मान देते हैं, इस के अलावा बड़ी संख्या में पर्यटक इस अद्वितीय वृक्ष को देखने के लिए आते हैं। यदि स्थानीय लोगों से जुड़ी किंवदंतियों पर भरोसा करे, तो यह पूरी दुनिया में एक मात्र वृक्ष है। इसे कल्पवृक्ष के रूप में भी जाना जाता है, जिसका मूल अर्थ आपकी किसी भी इच्छा या मनोकामनाओं को पूरा करना है। कल्पवृक्ष देवलोक का एक वृक्ष माना जाता है, इसे कल्पद्रुप, कल्पतरु, सुरतरु देवतरु तथा कल्पलता इत्यादि नामों से भी जाना जाता है। यह हिंदू, जैन और बौद्ध धर्म में एक इच्छा-पूर्ति करने वाला दिव्य वृक्ष है। संस्कृत साहित्य में इसका उल्लेख प्राचीनतम स्रोतों से मिलता है। यह जैन ब्रह्मांड विज्ञान और बौद्ध धर्म में भी एक लोकप्रिय विषय है। यह भी माना जाता है कि कल्पवृक्ष की उत्पत्ति समुद्र मंथन के दौरान कामधेनु और दिव्य गाय के साथ हुई थी। कल्पवृक्ष, जीवन का वृक्ष, जिसका अर्थ "विश्व वृक्ष" भी है का उल्लेख वैदिक शास्त्रों में मिलता है। हिंदु धर्म में इससे जुड़ी और भी कई कहानियां है जिसे आप हमारे इस लेख में भी पड़ सकते हैं। जैन ब्रह्माण्ड विज्ञान में कल्पवृक्ष एक इच्छा-अनुदान वाले पेड़ हैं जो एक विश्व चक्र के शुरुआती चरणों में लोगों की इच्छाओं को पूरा करता है। शुरुआती समय में बच्चे जोड़े (लड़का और लड़की) में पैदा होते हैं और कोई काम नहीं करते थे। उस समय 10 कल्पवृक्ष थे जो 10 अलग-अलग कामनाएं प्रदान करते हैं जैसे कि निवास स्थान, वस्त्र, बर्तन, फल और मिठाइयां, सुखद संगीत, गहने, सुगंधित फूल, चमकते हुए दीपक और रात में एक उज्ज्वल प्रकाश। बौद्ध धर्म में एक छोटी इच्छा देने वाले पेड़ को "दीर्घायु देवताओं" जैसे कि अमितायस तथा उशनाशिविजया (Amitayus and Ushnishavijaya) द्वारा आयोजित "दीर्घ-जीवन कलश" के ऊपरी भाग को सजाने के रूप में दर्शाया गया है। देवी श्रमण (Shramana) ने अपने बाएं हाथ में कल्पवृक्ष की रत्नमय शाखा धारण की है। न्यग्रोध (Nyagrodha) वृक्ष की पूजा को बेसनगर (Besnagar) में गैर-मानव पूजा के रूप में एक बौद्ध मूर्तिकला में चित्रित किया गया है। बेसनगर की यह मूर्ति, जिसे विदिसा (Vidisa) के नाम से भी जाना जाता है, ईसा पूर्व तीसरी शताब्दी की है और कलकत्ता संग्रहालय में प्रदर्शित है। म्यांमार में, जहां थेरवाद बौद्ध धर्म अभ्यास किया जाता है, कल्पवृक्ष का महत्व एक वार्षिक अनुष्ठान कथिना (Kathina) के रूप में है जिसमें समाज भिक्षुओं को धन वृक्ष के रूप में उपहार भेंट करते हैं। सिक्ख धर्म के सुखमनी साहिब (Sukhmani Saheb) में भी पेड़ को "पहरजत एह हर को नाम" (PaarJaat Eh Har Ko Naam ) कहा जाता है, जिसका अर्थ भगवान के नाम पौराणिक पेड़ है।
यदि इसकी उत्पत्ति की बात करें तो किंवदंतियों को एक तरफ रखते हुए, सच यह है कि पारिजात एक देशी भारतीय वृक्ष नहीं है, इसलिए गंगा की उपजाऊ भूमि में यहां इसकी उपस्थिति एक विसंगति है। यह उप-सहारा अफ्रीका (Africa) के शुष्क क्षेत्रों के कुछ हिस्सों में काफी आम है और विश्व स्तर पर बाओबाब (baobab) के रूप में जाना जाता है। पेड़ को आधुनिक विज्ञान में भी बाओबाब के रूप में जाना जाता है जिसकी उत्पत्ति उप- सहारा अफ्रीका में हुई है और इसलिए भारत की उपजाऊ भूमि में इसकी उपस्थिति इसे दुर्लभ बनाती है। इसके अलावा पेड़ की उम्र अभी भी निर्धारित नहीं है, जिससे यह बात काफी संभव है कि पेड़ किसी ऐसे व्यक्ति द्वारा लगाया गया हो जो भारत और अफ्रीका के बीच यात्रा करता था। 14 वीं शताब्दी की शुरुआत में, उप- सहारा देश मोरक्को (Morocco) में एक युवा लड़के का जन्म हुआ और फिर उसने पूरी दुनिया की यात्रा की। इस लड़के का नाम इब्न बतूता (Ibn Battuta) था और अपनी व्यापक यात्राओं के दौरान, उन्होंने भारत का भी दौरा किया और देश के उत्तर में रहकर कई साल बिताए। इसलिये यह कहा जा सकता है कि यह युवा जब भारत में रहने आया (वह मुहम्मद बिन तुगलक के शासनकाल के दौरान छह साल से अधिक समय तक यहाँ रहा) तो अपने घर से बाओबाब का एक पौधा भारत लाया होगा। और इस तरह से पारिजात इस देश में आ गया। वैज्ञानिक दृष्टि से देखे तो भारतीय और अफ्रीकी बाओबाब के बीच आनुवंशिक संबंध है, इसलिये कहा जा सकता है कि यह वृक्ष अफ्रीका से भारतीय उपमहाद्वीप में आया था।

संदर्भ:
https://bit.ly/3gMHwk9 
https://bit.ly/3iRqDHG
https://bit.ly/3gL6WOL
https://bit.ly/3q73cLM
https://bit.ly/3q5jEfN

चित्र संदर्भ
1. किन्तूर, बाराबंकी में पारिजात के पेड़ का एक चित्रण (wikimedia)
2. पारिजात के पेड़ का एक चित्रण (wikimedia)
3. पारिजात के पुष्प का एक चित्रण (flickr)



RECENT POST

  • यूक्रेन युद्ध, भारत में कई जगह सूखा, बेमौसम बारिश,गर्मी की लहरों से उत्पन्न खाद्य मुद्रास्फीति
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:44 AM


  • हम लखनऊ वासियों को समझनी होगी प्रदूषण, अतिक्रमण से पीड़ित जल निकायों व नदियों की पीड़ा
    नदियाँ

     25-05-2022 08:16 AM


  • लखनऊ के हरित आवरण हेतु, स्थानीय स्वदेशी वृक्ष ही पारिस्थितिकी तंत्र के लिए सबसे उपयुक्त
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:37 AM


  • स्वास्थ्य सेवा व् प्रौद्योगिकी में माइक्रोचिप्स की बढ़ती वैश्विक मांग, क्या भारत बनेगा निर्माण केंद्र?
    खनिज

     23-05-2022 08:50 AM


  • सेलफिश की गति मछलियों में दर्ज की गई उच्चतम गति है
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:40 PM


  • बच्चों को खेल खेल में, दैनिक जीवन में गणित के महत्व को समझाने की जरूरत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:09 AM


  • भारत में जैविक कृषि आंदोलन व सिद्धांत का विकास, ब्रिटिश कृषि वैज्ञानिक अल्बर्ट हॉवर्ड द्वारा
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:03 AM


  • लखनऊ की वृद्धि के साथ हम निवासियों को नहीं भूलना है सकारात्मक पर्यावरणीय व्यवहार
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:47 AM


  • एक समय जब रेल सफर का मतलब था मिट्टी की सुगंध से भरी कुल्हड़ की स्वादिष्ट चाय
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:47 AM


  • उत्तर प्रदेश में बौद्ध तीर्थ स्थल और उनका महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:52 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id