विश्व भर में मांस के विकल्प के तौर पर उपयोग किया जा रहा है. भारतीय कटहल

लखनऊ

 22-06-2021 08:17 AM
साग-सब्जियाँ

चक्का, पोनस आदि नामों से जाना जाने वाला भारतीय कटहल अब यूरोप (Europe) में भी अत्यधिक लोकप्रियता हासिल कर रहा है। रेट्रो-पैक्ड कटहल क्यूब्स और प्रमाणित ग्लूटेन-मुक्त (Gluten-free) कटहल पाउडर जर्मनी (Germany) को बैंगलोर से निर्यात किया जा रहा है। इसी प्रकार त्रिपुरा से 1.2 मीट्रिक टन ताजे कटहल की खेप लंदन भेजी गई है। तो,आखिर क्यों यूरोप में यह कटहल क्रांति चल रही है? दरअसल भारत का यह प्रसिद्ध फल यूरोप में शाकाहारी लोगों के लिए एक आकर्षक मांस विकल्प बन गया है, और इसलिए इसकी मांग में अत्यधिक वृद्धि हो रही है।कटहल सदियों से दक्षिण एशियाई आहार का मुख्य हिस्सा रहा है। भारत में यह इतनी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है,कि अक्सर हर साल इसके उत्पादन का काफी हिस्सा बर्बाद हो जाता है। लेकिन अब, कटहल के लिए दुनिया का सबसे बड़ा उत्पादक भारत, मांस के विकल्प के रूप में कटहल को उपलब्ध करवाकर लाभ प्राप्त कर रहा है। पिछले कुछ वर्षों से स्वास्थ्य और पर्यावरण सम्बंधी चिंताओं के मद्देनजर पश्चिमी देशों में शाकाहार को अत्यधिक बढ़ावा दिया जा रहा है, जिससे लोग नॉन-वेज या मीट के विभिन्न विकल्प ढूंढ रहे हैं। यह विकल्प उन्हें भारतीय कटहल के रूप में प्राप्त हुआ है, क्यों कि यदि कटहल को सही तरीके से पकाया जाए, तो इसका स्वाद पके हुए मांस जैसा होता है। जिसके कारण इसे विभिन्न व्यंजनों में मीट के विकल्प के तौर पर शामिल किया गया है। लोग अपने और पृथ्वी के स्वास्थ्य के लिए पहले की अपेक्षा अधिक जागरूक हो गए हैं, और इसलिए उन पदार्थों का सेवन करना चाहते हैं, जो स्वास्थ्य के लिए लाभदायक हो। एक कप कटहल में एक कप चावल की तुलना में 40% कम कार्बोहाइड्रेट होता है, और रेशा चार गुना होता है। इस प्रकार यदि कटहल का सेवन किया जाता है, तो मधुमेह जैसी बीमारियों से बचा जा सकता है।कई रेस्तरां ने पिज़्ज़ा, बर्गर, पास्ता जैसे विभिन्न व्यंजनों में इसका उपयोग शुरू कर दिया है।
कटहल को उगाने के लिए अधिक देखभाल और अधिक सिंचाई की आवश्यकता नहीं होती। इसके अलावा यह कीटों और बीमारियों के लिए भी प्रतिरोधी होता है। इसलिए बदलती जलवायु का सामना करती हुई पृथ्वी के लिए यह भविष्य का उपयुक्त खाद्य पदार्थ भी हो सकता है। कोरोना महामारी के इस दौर में भी कटहल खाद्य पदार्थ के रूप में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।कोविड संकट के दौरान शुरू में लोग चिकन खाने से डर रहे थे, और इसी समय बड़ी संख्या में लोगों ने कटहल की ओर रुख किया, खासकर केरल में। जहां तालाबंदी के दौरान कई व्यवसायों को भारी झटका लगा, वहीं नए व्यवसायों का भी सृजन हुआ, जिनमें से कटहल से सम्बंधित व्यवसाय भी एक हैं। इस प्रकार इस दौरान भी कटहल की मांग में अत्यधिक वृद्धि देखने को मिली।
कटहल भारत का मूल फल है, जो सदियों पहले प्राकृतिक रूप से यहां उग गया था, विशेष रूप से महाराष्ट्र, कर्नाटक और केरल में। यहां इसका उत्पादन 3,000 से 6,000 साल पहले से हो रहा है। इस फल का संदर्भ 400 ईसा पूर्व के बौद्ध ग्रंथ में मिलता है। इसका उपयोग कुछ बौद्ध पुजारी आज भी अपने वस्त्रों को रंगने के लिए करते हैं। पहली और तीसरी शताब्दी ईस्वी में लिखे गए तमिल साहित्य में भी इसका वर्णन किया गया है। पहली शताब्दी ईस्वी की कृति मदुरैकांची (Maduraikanchi) में भी यह उल्लेख किया गया है, कि इन फलों का बड़े बाजारों में व्यापार किया जाता था। आज, कटहल दक्षिण पूर्व एशिया के अन्य भागों में फैल गया है,तथा पूरे नेपाल (Nepal), श्रीलंका (Sri Lanka) और बांग्लादेश (Bangladesh) में वृद्धि कर रहा है। यह मलेशिया (Malaysia), इंडोनेशिया (Indonesia), थाईलैंड (Thailand), वियतनाम (Vietnam) और अफ्रीका (Africa) सहित दुनिया के कई अन्य हिस्सों में भी एक लोकप्रिय फल है।
कटहल भारत के दक्षिण और पूर्व में बहुतायत से उगता है। इस फल की खेती करने वाले क्षेत्रों में पश्चिमी घाट, देवरिया, गोरखपुर, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश, केरल, तमिलनाडु, कोंकण और कर्नाटक शामिल हैं।
फैजाबाद, उत्तर प्रदेश कटहल की स्वादिष्ट किस्म के लिए जाना जाता है। भारत में महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल, गोवा और उत्तर पूर्व में कटहल के लिए कई त्यौहारों को आयोजित किया जाता है। यहां के कुछ गांवों में इन्हें एक उपहार के रूप में भी भेंट किया जाता है। कटहल का मौसम सितंबर से दिसंबर तक और फिर जून से अगस्त तक होता है। इसका अधिकतम उत्पादन मानसून के मौसम के दौरान होता है। यह बड़ा, भारी काँटेदार त्वचा वाला फल है, जो अन्दर से गुदगुदा होता है, लेकिन रसदार नहीं है।कटहल वसा, कार्ब (Carb), फाइबर (Fiber), प्रोटीन(Protein), विटामिन (Vitamin), थायमिन (Thiamine), राइबोफ्लेविन (Riboflavin), कैल्शियम (Calcium), आयरन (Iron), मैग्नीशियम (Magnesium), फॉस्फोरस (Phosphorous), पोटेशियम (Potassium), जिंक (Zinc), कॉपर (Copper) आदि पोषक तत्वों से युक्त होता है, जो कैंसर, रक्तचाप, आंख और हड्डी के स्वास्थ्य, अल्सर आदि को कम करने में सहायक है।भारत में मुलायम, कच्चे या अर्ध-पके फल की सब्जी बनाकर खायी जाती है, जबकि पके होने पर फल के रूप में उपयोग किया जाता है। इसका उपयोग करी, मुरब्बा, बिरयानी, चिप्स, अचार आदि में भी किया जाता है। इसी प्रकार से पके फल को मिठाई, सिरप, जैम, चटनी आदि के निर्माण के लिए उपयोग में लाया जाता है।

संदर्भ:
https://bit.ly/35BB7Dd
https://bit.ly/35FRmik
https://bit.ly/35FTqXU
https://bit.ly/3wKsYrY
https://bit.ly/3xzSD6x
https://bit.ly/35DcV39
https://bit.ly/35H3SOC

चित्र संदर्भ
1. भारतीय कटहल विक्रेता का एक चित्रण (flickr)
2. कटहल के छिलके निकालना और बीज को मांस से अलग करने का एक चित्रण (wikimedia)
3. फलों के साथ कटहल के पेड़ का एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • सेलफिश की गति मछलियों में दर्ज की गई उच्चतम गति है
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:40 PM


  • बच्चों को खेल खेल में, दैनिक जीवन में गणित के महत्व को समझाने की जरूरत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:09 AM


  • भारत में जैविक कृषि आंदोलन व सिद्धांत का विकास, ब्रिटिश कृषि वैज्ञानिक अल्बर्ट हॉवर्ड द्वारा
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:03 AM


  • लखनऊ की वृद्धि के साथ हम निवासियों को नहीं भूलना है सकारात्मक पर्यावरणीय व्यवहार
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:47 AM


  • एक समय जब रेल सफर का मतलब था मिट्टी की सुगंध से भरी कुल्हड़ की स्वादिष्ट चाय
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:47 AM


  • उत्तर प्रदेश में बौद्ध तीर्थ स्थल और उनका महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:52 AM


  • देववाणी संस्कृत को आज भारत में एक से भी कम प्रतिशत आबादी बोल व् समझ सकती है
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:08 AM


  • बाढ़ नियंत्रण में कितने महत्वपूर्ण हैं, बीवर
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:36 PM


  • प्रारंभिक पारिस्थिति चेतावनी प्रणाली में नाजुक तितलियों का महत्व, लखनऊ में खुला बटरफ्लाई पार्क
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:09 AM


  • लखनऊ सहित विश्व में सबसे पुराने और शानदार स्विमिंग पूलों या स्नानागारों का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     13-05-2022 09:41 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id