मुद्रण का संक्षिप्‍त इतिहास और डिजिटलीकरण का इस पर प्रभाव

लखनऊ

 06-07-2021 10:13 AM
वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

आज हम में से अधिकांश लोग मुद्रित सामग्री को हल्के में लेते हैं, लेकिन कल्‍पना करें यदि कभी प्रिंटिंग प्रेस (printing presses) का आविष्कार नहीं हुआ होता तो आज हमारा जीवन कैसा होता? हमारे पास किताबें, पत्रिकाएं या समाचार पत्र नहीं होते। प्रिंटिंग प्रेस के माध्‍यम से हम कम समय में, बड़ी मात्रा में अधिकांश लोगों तक जानकारी साझा कर सकते हैं। प्रिंटिंग प्रेस के आविष्कार से पहले, किसी भी लेखन और चित्र को हाथ से लिखा या तैयार किया जाता था जो कि एक बहुत ही श्रमसाध्‍य कार्य था। किताबों को लिखने के लिए कई अलग-अलग सामग्रियों का इस्तेमाल किया जाता था, जिनका उपयोग कुछ विशेषज्ञ ही कर सकते थे। वास्तव में, प्रिंटिंग प्रेस इतना महत्वपूर्ण है कि इसे हमारे समय के सबसे महत्वपूर्ण आविष्कारों में से एक के रूप में जाना जाता है। इसने समाज के विकास के तरीके को काफी हद तक बदल दिया। ऐसा माना जाता है कि विलियम कैक्सटन (1422-1491) ने 1476 में इंग्लैंड (England) में पहली बार छपाई शुरू की थी, जो कि मुद्रित पुस्तकों के पहले खुदरा विक्रेता थे। इसके साथ ही देवनागरी लिपि के लिए पहली प्रिंटिंग प्रेस शुरू करने का श्रेय मुंशी नवल किशोर को दिया जाता है, इन्‍होंने 1858 में केवल 22 साल की उम्र में लखनऊ में पहली प्रिंटिंग प्रेस शुरू की थी। 1300 से 1400 के दशक के दौरान, छपाई को एक बहुत ही बुनियादी रूप में विकसित किया था। इसमें लकड़ी के ब्लॉकों (blocks) पर कटे हुए अक्षर या चित्र शामिल थे।
ब्लॉक को स्याही में डुबोया जाता था और फिर कागज पर मुहर लगा दी जाती थी।1430 के दशक के अंत में, जर्मनी के एक व्यक्ति जोहान गुटेनबर्ग (Johann Gutenberg) पैसे बनाने का रास्ता खोजने के प्रयास में लग गए। गुटेनबर्ग को टकसाल में काम करने का पहले से ही अनुभव था, और उन्होंने महसूस किया कि अगर वह मशीन के भीतर कटे हुए ब्लॉकों का उपयोग करें, तो वे मुद्रण प्रक्रिया को बहुत तेज कर सकते हैं। गुटेनबर्ग ने लकड़ी के ब्लॉकों की बजाय धातु का उपयोग किया। यह एक प्रकार की गति करने वाली मशीन थी, जो कि धातु के ब्लॉक अक्षरों को नए शब्दों और वाक्यों को बनाने के लिए चारों ओर ले जा सकती थी।इस मशीन से गुटेनबर्ग ने सबसे पहली मुद्रित पुस्तक बनाई, जो स्वाभाविक रूप से बाइबल (Bible) का पुनरुत्पादन थी। आज गुटेनबर्ग बाइबिल अपनी ऐतिहासिक विरासत के लिए एक अविश्वसनीय रूप से मूल्यवान और क़ीमती पुस्‍तक है। प्रिंटिंग एक प्रकार की यांत्रिक युक्ति है, जिसके द्वारा कागज, कपड़े आदि पर दाब डालकर छपाई की जाती है। इस प्रक्रिया में एक स्याही-युक्त सतह को कागज या कपड़े आदि पर रखकर उस पर दाब डालना होता है। स्याही-युक्त सतह पर मुद्रण छवि उल्टी बनी होती है, जिसकी छवि कागज या कपड़े पर छपने के बाद सीधी दिखायी देती है। गुटेनबर्ग को एक तेल-आधारित स्याही की शुरुआत का श्रेय भी दिया जाता है, जो पहले इस्तेमाल किए गए पानी-आधारित स्याही की तुलना में अधिक टिकाऊ थी। गुटेनबर्ग के आविष्कार ने जनता के बीच पहुँचने पर एक महत्वपूर्ण प्रभाव डाला। चूंकि कुलीन वर्गों के लिए हाथ से लिखी गई किताबें ही अमूल्य और भव्यता का संकेत थीं, इसलिये उनके अनुसार हाथ से लिखी गई किताबों का सस्ती, बड़े पैमाने पर उत्पादित किताबों के साथ कोई मेल नहीं था। इस प्रकार, निचले वर्ग के साथ प्रेस-मुद्रित सामग्री पहले से अधिक लोकप्रिय हो गयी। जब प्रिंटिंग प्रेस का विस्तार होने लगा तो अन्य प्रिंट दुकानें खुल गईं और जल्द ही यह पूरी तरह से नए व्यापार में विकसित हो गया। मुद्रित विषय जल्दी और सस्ते में दर्शकों तक जानकारी फैलाने का एक नया तरीका बन गया। हाथ से संचालित प्रिंटिंग प्रेस में मूल प्रिंटिंग प्रेस के साथ, एक फ्रेम (Frame) का उपयोग विभिन्न प्रकार के ब्लॉक समूहों को व्यवस्थित करने के लिए किया जाता है। एक साथ, ये ब्लॉक शब्द और वाक्य बनाते हैं। हालाँकि, वे सभी ब्लॉक में उल्टे होते हैं। सभी ब्लॉक में स्याही लगी होती है, और फिर कागज की एक शीट ब्लॉकों पर रखी जाती है।मुद्रणालय का आविष्कार और वैश्विक प्रसार दूसरी सहस्राब्दी की सबसे प्रभावशाली घटनाओं में से एक माना जाता है।
मुद्रण के आविष्कार से यूरोप में मुद्रण गतिविधियों में कुछ ही दशकों में भारी वृद्धि हुई। टाइपोग्राफिक टेक्स्ट प्रोडक्शन (Typographic Text Production) की तीव्रता के साथ इकाई लागत में तेज गिरावट के कारण, पहले अखबारों को जारी किया गया जिसने जनता को हर समय की जानकारी देने के लिए पूरी तरह से एक नया क्षेत्र खोल दिया। प्रिंटिंग प्रेस, वैज्ञानिकों के एक समुदाय की स्थापना में भी कारक बनी जिसने वैज्ञानिक क्रांति लाने में मदद की।
इसके द्वारा विद्वान व्यापक रूप से प्रसारित होने वाली पत्रिकाओं के माध्यम से अपनी खोजों को आसानी से संप्रेषित कर सकते थे। प्रिंटिंग प्रेस की वजह से, लेखकत्व अधिक सार्थक और लाभदायक बन गया। प्रिंटिंग प्रेस, ज्ञान के लोकतंत्रीकरण की दिशा में भी एक महत्वपूर्ण कदम बना।
खींचो न कमानों को न तलवार निकालो
जब तोप मुक़ाबिल हो तो अख़बार निकालो

छपाई को लोकप्रिय बनाने का परिणाम अर्थव्यवस्था पर पड़ा तथा प्रिंटिंग प्रेस शहर के विकास के उच्च स्तर के साथ जुड़ा। व्यापार से संबंधित नियमावली के प्रकाशन और डबल-एंट्री बहीखाता (Double-entry bookkeeping) पद्धति की तरह शिक्षण तकनीकों ने व्यापार की विश्वसनीयता को बढ़ाया और व्यापारी अपराधियों की गिरावट और व्यक्तिगत व्यापारियों के उदय का कारण बना।
कोविड-19 (COVID-19) ने दुनिया भर में गंभीर व्यवधान उत्‍पन्‍न कर दिया है, जिससे मानवता और व्यवसाय दोनों ही घुटनों पर आ गए हैं। मुद्रण व्‍यवसाय इससे अछुता नहीं रहा है। महामारी के कारण हुए लॉकडाउन (lockdown) ने इस क्षेत्र की आपूर्ति श्रृंखला को काफी हद तक हिला दिया है, जिससे व्यवसायों के लिए उपभोक्‍ताओं को पूर्व की भांति सेवा प्रदान करना चुनौतीपूर्ण हो गया है। जैसे-जैसे दुनिया कोरोना के कारण ऑनलाइन प्‍लेटफॉर्म(platform) की और बड़ रही है, मुद्रण व्‍यवसाय अब डिजिटलीकरण (digitization) के माध्‍यम से उपभोक्‍ताओं तक पहुंचने का प्रयास कर रहा है। जिसके लिए यह कर्मचारियों के कौशल को बढ़ाने का प्रयास कर रहा है।जबकि प्रौद्योगिकी पारंपरिक कार्य मॉडल (model) को स्मार्ट (smart) और तेज बना रही है। इतने वर्षों तक कागजों के भारी उपयोग पर निर्भर रहने वाला प्रिंट क्षेत्र अब वैकल्पिक मुद्रण समाधान देने के लिए अधिक स्मार्ट तरीके अपना रहा है। कंपनियां न केवल डिजिटल (digital) हो रही हैं, बल्कि कम छपाई करके कागज के उपयोग को कम करने और प्रक्रिया में कागज की बर्बादी को रोकने पर भी ध्यान केंद्रित कर रही हैं।निस्संदेह, कोविड-19 ने उद्योग के लिए नई चुनौतियां पेश की हैं, लेकिन संचालकों के लिए अपने शिल्प को बेहतर बनाने और ग्राहकों को बेहतर ढंग से समझने के लिए संभावित अवसर भी पैदा किए हैं।

संदर्भ:
https://bit.ly/3jB9zG1
https://bit.ly/3yaR3bA
https://bit.ly/3hxs3ET
https://bit.ly/3jBb9aV

चित्र संदर्भ
1. एडिनबर्ग प्रिंटर ऑपरेटिंग प्रिंटिंग मशीन का एक चित्रण (flickr)
2. जंगम प्रकार को एक अक्षर के मामले में क्रमबद्ध किया गया और शीर्ष पर एक कम्पोजिंग स्टिक में लोड किया गया एक चित्रण (wikimedia)
3. ऊपर से नीचे, बाएं से दाएं: एक दृश्य की सिलेंडर सील, वुडब्लॉक प्रिंटिंग के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला ब्लॉक, चल प्रकार, प्रिंटिंग प्रेस, लिथोग्राफ प्रेस, आधुनिक लिथोग्राफिक प्रिंटिंग के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला ऑफसेट प्रेस, हॉट मेटल टाइपसेटिंग के लिए लिनोटाइप मशीन, डिजिटल प्रिंटर, 3 डी प्रिंटर का एक चित्रण (wikimedia)
4. वेब-फेड ऑफ़सेट लिथोग्राफिक प्रेस का एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • देववाणी संस्कृत को आज भारत में एक से भी कम प्रतिशत आबादी बोल व् समझ सकती है
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:08 AM


  • बाढ़ नियंत्रण में कितने महत्वपूर्ण हैं, बीवर
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:36 PM


  • प्रारंभिक पारिस्थिति चेतावनी प्रणाली में नाजुक तितलियों का महत्व, लखनऊ में खुला बटरफ्लाई पार्क
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:09 AM


  • लखनऊ सहित विश्व में सबसे पुराने और शानदार स्विमिंग पूलों या स्नानागारों का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     13-05-2022 09:41 AM


  • भारत में बढ़ती गर्मी की लहरें बन रही है विशेष वैश्विक चिंता का कारण
    जलवायु व ऋतु

     11-05-2022 09:10 PM


  • लखनऊ में रहने वाले, भाड़े के फ़्रांसीसी सैनिक क्लाउड मार्टिन का दिलचस्प इतिहास
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     11-05-2022 12:11 PM


  • तेजी से उत्‍परिवर्तित होते वायरस एक गंभीर समस्‍या हो सकते हैं
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     10-05-2022 09:02 AM


  • 1947 से भारत में मेडिकल कॉलेज की सीटों में केवल 14 गुना वृद्धि, अब कोविड लाया बदलाव
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     09-05-2022 08:55 AM


  • वियतनामी लोककथाओं का महत्वपूर्ण हिस्सा है, कछुआ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     08-05-2022 07:38 AM


  • राष्ट्र कवि रबिन्द्रनाथ टैगोर की कविताएं हैं विश्व भर में भारतीय संस्कृति की पहचान
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     07-05-2022 10:52 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id