महामारी के चलते सुरक्षा नियमों का पालन करते हुए निकाली जाएगी इस वर्ष भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा

लखनऊ

 12-07-2021 08:53 AM
द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

प्रत्येक वर्ष आज के दिन, लखनऊ में स्थित डालीगंज के माधव मंदिर से जगन्नाथ रथ उत्सव की शुरुआत होती है। हालांकि महामारी को देखते हुए सुरक्षा नियमों का पालन करते हुए पिछले वर्ष पहली बार लखनऊ मेट्रो (Metro) के पास उत्सव मनाया गया था, जबकि इस साल श्रद्धालु उत्सव को ऑनलाइन (Online) देख सकते हैं और सामाजिक दूरी बनाए रखने के लिए स्वचालित रथों को परिनियोजित किया जाएगा। वहीं कोविड -19 के नकारात्मक परीक्षण पेश करने वाले श्रीमंदिर सेवकों को पुरी के गुंडिचा मंदिर में बड़ा डंडा के साथ तीन रथों को खींचने में भाग लेने की अनुमति दी जाएगी। पिछले वर्ष की तरह, इस वर्ष भी रथ यात्रा उत्सव भक्तों की भागीदारी के बिना और कोरोनावायरस के प्रसार को रोकने के लिए सुरक्षा नियमों का सख्ती से पालन करते हुए आयोजित किया जाएगा।
इस रथयात्रा में भगवान् जगन्नाथ, बालभद्र और देवी शुभद्रा तीनों को समर्पित तीन रथ होते हैं जिस पर क्रमशः तीनों देवी देवता विराजित होते हैं। उन्हें मुख्य माधव मंदिर से एक जुलूस में निकाला जाता है, और 6 कार्यक्रम ('स्नान यात्रा', 'श्री गुंडिचा', 'बहुदा यात्रा', 'सुना बेशा', 'आधार पाना' और 'नीलाद्रि बीजे')होते हैं और इन्हें इस वार्षिक आयोजन की प्रमुख गतिविधियों के रूप में माना जाता है।

1) स्नान यात्रा : स्नान यात्रा में देवता को स्नान कराया जाता है और फिर लगभग 2 सप्ताह तक बीमार रहते हैं। इस प्रकार उनका आयुर्वेदिक दवाओं और पारंपरिक प्रथाओं के एक संग्रह के साथ उपचार किया जाता है।
2) श्री गुंडिचा : 'श्री गुंडिचा' पर, देवताओं को आगे कार उत्सव में मुख्य मंदिर से गुंडिचा मंदिर तक ले जाया जाता है।
3) बहुदा यात्रा : बहुदा यात्रा पर कार उत्सव के बाद भगवानों को मुख्य मंदिर में वापस लाया जाता है।
4) सुना बेशा : सुना बेशा (स्वर्ण पोशाक) वह घटना है जब देवता स्वर्ण आभूषण पहनते हैं और भक्तों को रथों से दर्शन देते हैं।
5)आधार पाना : रथ यात्रा के दौरान आधार पाना एक महत्वपूर्ण कार्यक्रम है। इस दिन अदृश्य आत्माओं को मीठा पेय चढ़ाया जाता है, जो हिंदू परंपरा के अनुसार भगवान की दिव्य वृत्तांत का दौरा करते थे।
6) नीलाद्री बीज : अंत में देवताओं को मुख्य मंदिर यानी जगन्नाथ मंदिर के अंदर वापस ले जाया जाता है और रथ यात्रा कार्यक्रम के अंतिम दिन रत्न सिंहसन पर स्थापित किया जाता है, जिसे 'नीलाद्री बीज' कहा जाता है। रथ यात्रा हर साल आषाढ़ मास (ओडिया कैलेंडर का तीसरा महीना) के शुक्ल पक्ष के दूसरे दिन, ओडिशा के मंदिर शहर पुरी में मनाई जाती है।रथ यात्रा के हिस्से के रूप में, भगवान जगन्नाथ, भगवान बालभद्र और देवी सुभद्रा को रथ में आरूढ़ किया जाता है और इस प्रक्रिया को 'पहांडी' कहा जाता है।जगन्नाथ, बालभद्र और सुभद्रा के तीन रथों का निर्माण हर साल विशिष्ट पेड़ों जैसे फस्सी, ढौसा आदि की लकड़ी से किया जाता है।वे परंपरागत रूप से दासपल्ला के पूर्व रियासत राज्य से बढ़ई की एक विशेषज्ञ टीम द्वारा लाए जाते हैं जिनके पास वंशानुगत अधिकार और विशेषाधिकार हैं।विशाल, रंगीन सजाए गए रथ उत्तर में दो मील दूर गुंडिचा मंदिर (गुंडिचा-राजा इंद्रद्युम्न की रानी थी) के लिए भव्य मार्ग बड़ा डंडा पर भक्तों की भीड़ द्वारा खींचे जाते हैं।
रास्ते में भगवान जगन्नाथ के रथ,नंदीघोष भक्त सालबेगा (एक मुस्लिम श्रद्धालु) के श्मशान के पास उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए ठहरते हैं।गुंडिचा मंदिर से वापस जाते समय, तीनों देवता मौसी मां मंदिर के पास थोड़ी देर के लिए रुकते हैं और पोडा पीठा (Poda Pitha) चढ़ाते हैं, जो एक विशेष प्रकार का पैनकेक (Pancake) है जिसे भगवान का पसंदीदा माना जाता है। सात दिनों के प्रवास के बाद, देवी देवता अपने निवास पर लौट आते हैं।

संदर्भ :-
https://bit.ly/3yMkb9y
https://bit.ly/3hX37Xt
https://bit.ly/2U0ynNp
https://oran.ge/3xxjocc

चित्र संदर्भ
1. भगवान जगन्नाथ के भव्य रथों का एक चित्रण (flickr)
2. पुरी, उड़ीसा, भारत में रथ यात्रा उत्सव। श्री जगन्नाथ मंदिर का दृश्य। भगवान जगन्नाथ, बलभद्र, सुभद्रा और सुदर्शन के लिए तीन गाड़ियां मुख्य सड़क पर खींचने के लिए तैयार की जा रही हैं जिसका एक चित्रण (wikimedia)
3. लखनऊ में स्थित डालीगंज के माधव मंदिर रथ यात्रा का एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • इंजीनियरिंग का एक अद्भुत कारनामा है, कोलोसियम
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     25-07-2021 02:23 PM


  • आठ ओलंपिक स्वर्ण पदक के पश्चात अब लाना है फिर से भारतीय हॉकी को विश्व स्तर पर
    द्रिश्य 2- अभिनय कला य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     24-07-2021 10:21 AM


  • मौन रहकर भी भावनाओं की अभिव्यक्ति करने की कला है माइम Mime
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     23-07-2021 10:11 AM


  • भारत में यहूदि‍यों का इतिहास और यहां की यहूदी–मुस्लिम एकता
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     22-07-2021 10:37 AM


  • पश्चिमी और भारतीय दर्शन के अनुसार भाषा का दर्शन तथा सीखने और विचार के साथ इसका संबंध
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-07-2021 09:40 AM


  • विश्व के इतिहास में सामाजिक समूहों के लिए गहरा महत्व रखता रहा है बलिदान
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     20-07-2021 10:20 AM


  • शहर के मास्टर प्लान में शामिल किया जाना चाहिए मलिन बस्तियों का विकास
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     18-07-2021 06:09 PM


  • 1857 में लखनऊ से संबंधित एक मूक ब्लैक एंड वाइट फिल्म है, द रिलीफ ऑफ लखनऊ
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     18-07-2021 02:23 PM


  • विभिन्न धर्मों सहित दुनियाभर में मिल जाएंगे, महाबली हनुमान के मंदिर और उपासक
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-07-2021 10:12 AM


  • लखनऊ के मिर्जा हादी रुसवा का प्रसिद्ध 19वीं सदी उर्दू उपन्यास उमराव जान अदा
    ध्वनि 2- भाषायें

     16-07-2021 09:43 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id