1857 में लखनऊ से संबंधित एक मूक ब्लैक एंड वाइट फिल्म है, द रिलीफ ऑफ लखनऊ

लखनऊ

 18-07-2021 02:23 PM
उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक
द रिलीफ ऑफ लखनऊ (The Relief of Lucknow), लखनऊ से संबंधित एक मूक ब्लैक एंड वाइट फिल्म है, जिसका निर्माण ब्रिटिश बाजार के लिए एडिसन कंपनी (Edison Company) द्वारा किया गया था। 1911 के आसपास, एडिसन ने ब्रिटेन (Britain) में बिक्री को बढ़ाने के लिए विशेष रूप से यूरोपीय (European) विषयों पर फिल्में बनाना शुरू किया। कंपनी ने अपने न्यू जर्सी स्टूडियो (New Jersey studio) से दूर, बाहरी स्थानों पर फिल्मों की शूटिंग के लिए अभिनेताओं और कर्मियों को भेजना शुरू किया। द रिलीफ के निदेशक सर्ले जे डावले (Serle J Dawley) ने इनमें से कई यात्राओं का नेतृत्व किया। जिस वर्ष उन्होंने द रिलीफ का निर्देशन किया, डावले ने चेयेने (Cheyenne), व्योमिंग (Wyoming) में द चार्ज ऑफ द लाइट ब्रिगेड (The Charge of the Light Brigade) की शूटिंग की, जिसमें अल्फ्रेड लॉर्ड टेनीसन (Alfred Lord Tennyson) की कविता को ब्रिटिश वफादारी और बलिदान की कहानी के रूप में बालाक्लावा (Balaclava) की लड़ाई को चित्रित करने के लिए अपनाया गया था। द रिलीफ को बरमूडा (Bermuda) में शूट किया गया था, जिसमें उष्णकटिबंधीय दृश्यों और साइट पर तैनात "क्वीन ओन" (Queen’s Own) रेजिमेंट की दूसरी बटालियन की उपस्थिति भी दर्शायी गयी है। फिल्म ने हिंसक 1857 के भारतीय विद्रोह की पचपनवीं वर्षगांठ मनाई, जिसे विद्रोह या भारतीय राष्ट्रवादियों द्वारा भारत के पहले स्वतंत्रता संग्राम के रूप में भी जाना जाता है। सिपाही (ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के भारतीय सैनिक) विद्रोह का मुख्य कारण थे लेकिन अंग्रेजों और उनके समर्थकों के खिलाफ नागरिकों, किसानों और जमींदारों द्वारा किया गया खूनी विद्रोह भारत के ऊपरी गंगा के मैदान में भी जा पहुंचा। विद्रोह करने के लंबे और अल्पकालिक मकसद थे, जिनका प्रमुख कारण कंपनी की क्रूर कराधान नीतियों, भारतीय रियासतों के साथ हुए समझौतों की धज्जियां उड़ाते हुए भूमि पर तेजी से कब्जा करने, और एनफील्ड राइफल (Enfield rifle) के प्रति अत्यधिक क्रोध को माना जाता है, क्यों कि सिपाही सुअर और गोमांस की चर्बी वाले कारतूसों का उपयोग करवाने के कारण अत्यधिक क्रोधित थे, जिसने मुसलमानों और हिंदुओं को समान रूप से अपमानित किया। 1857 की घटनाओं ने ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के शासन को समाप्त किया तथा भारत के राजस्व और शासन पर ब्रिटिश क्राउन के आधिकारिक नियंत्रण की शुरुआत हुई।

संदर्भ:

https://bit.ly/3wN4AVF
https://bit.ly/3kufgpG


RECENT POST

  • कृषि में आधुनिक तकनीक का एक महत्‍वपूर्ण हिस्‍सा है, पोस्ट होल डिगर
    वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

     18-08-2022 12:51 PM


  • अचल संपत्ति बाजार में खरीदारों का लोकप्रिय शहर लखनऊ
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     17-08-2022 11:20 AM


  • क्या वास्तव में अमेथिस्ट या जमुनिया रत्न वैज्ञानिक दृष्टि से उपचरात्मक होते है?
    खनिज

     16-08-2022 10:30 AM


  • स्वतंत्र भारत में तोपों की सलामी है संप्रभुता की स्वीकृति, पहले दर्शाती थी औपनिवेशिक पदानुक्रम
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-08-2022 02:56 AM


  • पोल वॉल्ट में विश्व रिकॉर्ड तोड़ने के लिए प्रसिद्ध हैं आर्मंड डुप्लांटिस
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     14-08-2022 10:40 AM


  • सभी देशवासियों के लिए खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करती योजनाएं
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     13-08-2022 10:19 AM


  • लखनऊ सहित कुछ चुनिंदा चिड़ियाघरों में ही शेष बचे हैं, शानदार जिराफ
    स्तनधारी

     12-08-2022 08:28 AM


  • ऑनलाइन खरीदारी के बजाए लखनऊ के रौनकदार बाज़ारों में सजी हुई राखिये खरीदने का मज़ा ही कुछ और है
    संचार एवं संचार यन्त्र

     11-08-2022 10:20 AM


  • गांधीजी के पसंदीदा लेखक, संत व् कवि, नरसिंह मेहता की गुजराती साहित्य में महत्वपूर्ण भूमिका
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     10-08-2022 10:04 AM


  • मुहर्रम के विभिन्न महत्वपूर्ण अनुष्ठानों को 19 वीं शताब्दी की कंपनी पेंटिंग शैली में दर्शाया गया
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     09-08-2022 10:25 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id