विस्थापन से उभरी लखनऊ की 200 वर्ष पुरानी फूलों की मंडी पर महामारी की दोहरी मार

लखनऊ

 09-08-2021 09:25 AM
बागवानी के पौधे (बागान)

फूलों की खेती व्यावसायिक लाभ के नजरिये से बेहद फायदेमंद साबित हो सकती है। यह हम लखनऊ की कंचन मार्केट में 200 वर्ष पुरानी फूलों की मंडी के उदाहरण से समझेंगे। साथ ही यह भी जानेगे की, किस प्रकार महामारी ने किसानों को अपने ही हाथों कठिन परिश्रम से उगाई गई फसल को नष्ट करने पर मजबूर कर दिया।
यदि आप लखनऊ के बाशिंदे हैं, तो आपने कंचन मार्केट चौक की 200 वर्ष पुरानी फूलों की मंडी के बारे में अवश्य सुना होगा। नवाबों के शासनकाल के दौरान, यह चौक अपनी 'नाइटलाइफ़' के लिए बदनाम था। और चूंकि आसपास दरबारी भी रहते थे, इसलिए वहां की दुकानें, फूलों की मंडियां बन गईं। दरअसल फूल मंडी ऐसी जगह होती है, जहां थोक में फूल खरीदने के लिए फूल विक्रेता और शादी के डिजाइनर इत्यादि जाते हैं। विभिन्न त्योहारों के अवसर पर, यदि आप भी अपने घर को सुंदर फूलों की सजावट से चमकाना चाहते हैं, तो फूल मंडी से हमेशा थोक मूल्य पर फूल प्राप्त कर सकते हैं। लखनऊ की इस प्रसिद्द फूल मंडी में गुलाब से लेकर कार्नेशन्स तक, लिलियम से लेकर लिली तक, सूरजमुखी से लेकर गेंदा तक, ढेरों फूलों के कई विकल्प देखने को मिल जाते थे। लेकिन एक सरकारी आदेश के बाद यहाँ (कंचन मार्केट) से अधिकांश दुकानें (फूलों की दुकानों सहित) अक्टूबर, 2019 में गोमती नगर में स्थानांतरित हो गई हैं।
यह स्थानीय लोगों सहित व्यापारियों के लिए एक झटके के सामान था, जिसका उनके द्वारा विरोध भी किया गया। यदि कभी आपका नई फूलों की मंडी में जाना हो, तो आप पाएंगे की नई मंडी में न तो उतनी दुकानें हैं, और न ही खरीदारों की उतनी भीड़ जो कंचन मार्केट में मिलती थी। परंतु सकारात्मक रूप से नई फूल मंडी साफ-सुथरी है, और आपकी आंखों को प्रसन्नता दे सकती है। यहाँ भी फूलों की दुर्लभ और आकर्षक किस्में देखने को मिल जाएँगी। नई फूल मंडी में थोक में खरीदे गए फूलों की कीमत एक खुदरा दुकान से खरीदे गए फूलों की तुलना में लगभग एक तिहाई होती है। सुंदर दिखने वाले फूलों को ढेर करके, गली में बिछा दिया जाता है। बेहतर फूलों को पाने के लिए आपको ढेर को कुछ गहरा भी खोदना पड़ सकता है। इस मंडी से आप फूलों के अलावा, उन्हें सजाने हेतु आवश्यक सामग्री जैसे फोम, गुलदस्ते के लिए बांस का आधार, रंगीन जाल, मोती इत्यादि भी खरीद सकते हैं। बेहतर फूलों और अच्छे सौदे के लिए आपको यहाँ जल्दी पहुँचाना होगा। इस मंडी ने होटल, दुकान के मालिक, शादी के सज्जाकार, मंदिर के पुजारी आदि के रूप में नए ग्राहक भी अर्जित किये हैं। अन्य बाजारों की तुलना में फूलों की कीमत में अविश्वसनीय कमी नए ग्राहकों को अनायास ही अपनी ओर आकर्षित कर रही है। अभी फूलों का नया बाजार स्थान्तरित होने के झटके से व्यपारी वर्ग पूरी तरह संभला भी नहीं था, कि फूल व्यापारियों को कोरोना महामारी का दोहरा घाव भी झेलना पड़ा। किसानों को दुखी मन से अपने ही हाथों की मेहनत से उगाई गई सुन्दर फूलों की खेती को नष्ट करना पड़ा,क्यों की कोरोनावायरस के प्रकोप के मद्देनजर लागू किए गए कर्फ्यू के कारण बाजार में फूलों की मांग लगभग शून्य हो गई है। उत्तर प्रदेश और पंजाब जैसे फूल उत्पादक खेतों में ही अपनी उपज को नष्ट करने के लिए मजबूर हैं। किसानों का कहना है कि, लॉकडाउन के कारण सभी लोगों ने अपने उत्सव के कार्यक्रमों को टाल दिया है, दुकानें बंद हो गई हैं, शादी के कार्यक्रम टाल दिए गए हैं और मंदिरों और गुरुद्वारों में फूलों की मांग भी कम हो गई है। महामारी के प्रसार से पूर्व ही अधिकांश किसानों ने अपने खेतों में फूलों के पौधे - गेंदा और गुलतक - की जुताई कर दी थी, किंतु महामारी के बंधनों के बीच निकट भविष्य में भी फूलों की मांग में वृद्धि की कोई उम्मीद नहीं दिख रही है। पंजाब में फूलों की खेती पर निर्भर एक किसान बलविंदर सिंह ने अपनी मेहनत से उगाई गई फूलों की खेती को नष्ट दिया।
महामारी के कारण निराश होकर उन्ही के गांव के दो अन्य किसानों ने भी क्रमश: एक एकड़ और दो एकड़ के खेतों में लगे फूलों के पौधों को नष्ट कर दिया है। उनका कहना है की इस सीजन में बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि से हमें पहले ही नुकसान हो रहा था, कोरोनावायरस ने अब हमें कड़ी टक्कर दे दी है। हम अपने फूलों को नष्ट करने के लिए मजबूर हैं, क्योंकि अधिकांश मंदिर अब भक्तों के लिए बंद हैं और गुरुद्वारों में फूलों की मांग में भी भारी गिरावट आई है। अपनी उपज को अपने ही हाथों नष्ट करने से निराश किसान सरकार से मुआवजे की मांग कर रहे हैं। और यह उम्मीद भी कर रहे हैं कि राज्य सरकार को, राज्य में फूल उत्पादकों के लिए पैकेज की घोषणा करनी चाहिए, जिससे उन्हें कुछ स्तर तक राहत मिल सके।

संदर्भ
https://bit.ly/3iqOEVm
https://bit.ly/37lAvSK
https://bit.ly/3Aj7FiB
https://bit.ly/2uD7KkV
https://bit.ly/3isNcln

चित्र संदर्भ

1. पुष्प की गठरियों का एक चित्रण (Prarang)
2. कंचन मार्केट में बेचे जा रहे पुष्पों का एक चित्रण (Yooutube)
3. फूलों की खेती को नष्ट करते किसान का एक चित्रण (facebook)



RECENT POST

  • देववाणी संस्कृत को आज भारत में एक से भी कम प्रतिशत आबादी बोल व् समझ सकती है
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:08 AM


  • बाढ़ नियंत्रण में कितने महत्वपूर्ण हैं, बीवर
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:36 PM


  • प्रारंभिक पारिस्थिति चेतावनी प्रणाली में नाजुक तितलियों का महत्व, लखनऊ में खुला बटरफ्लाई पार्क
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:09 AM


  • लखनऊ सहित विश्व में सबसे पुराने और शानदार स्विमिंग पूलों या स्नानागारों का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     13-05-2022 09:41 AM


  • भारत में बढ़ती गर्मी की लहरें बन रही है विशेष वैश्विक चिंता का कारण
    जलवायु व ऋतु

     11-05-2022 09:10 PM


  • लखनऊ में रहने वाले, भाड़े के फ़्रांसीसी सैनिक क्लाउड मार्टिन का दिलचस्प इतिहास
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     11-05-2022 12:11 PM


  • तेजी से उत्‍परिवर्तित होते वायरस एक गंभीर समस्‍या हो सकते हैं
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     10-05-2022 09:02 AM


  • 1947 से भारत में मेडिकल कॉलेज की सीटों में केवल 14 गुना वृद्धि, अब कोविड लाया बदलाव
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     09-05-2022 08:55 AM


  • वियतनामी लोककथाओं का महत्वपूर्ण हिस्सा है, कछुआ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     08-05-2022 07:38 AM


  • राष्ट्र कवि रबिन्द्रनाथ टैगोर की कविताएं हैं विश्व भर में भारतीय संस्कृति की पहचान
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     07-05-2022 10:52 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id