Post Viewership from Post Date to 11-Sep-2021 (30th Day)
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
1896 121 2017

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

भारत में जन्मे खीरे की उत्‍पत्ति और इसका विश्व में विस्‍तार

लखनऊ

 12-08-2021 08:44 AM
साग-सब्जियाँ

सम्पूर्ण विश्व में सलाद के रूप में खीरे का विशेष महत्त्व है। खीरे को सलाद के अतिरिक्त उपवास के समय फलाहार के रूप में भी प्रयोग किया जाता है। इससे विभिन्न प्रकार की मिठाइयाँ भी तैयार की जाती हैं। यह कई स्‍वास्‍थ्‍य संबंधित समस्‍याओं के उपचार हेतु भी प्रयोग किया जाता है। लगभग 3,000 वर्षों से उगाए जाने वाले इस खीरे की उत्पत्ति भारत से हुई है, यहां इसकी निकटतम जीवित प्रजाति, कुकुमिस हिस्ट्रिक्स (Cucumis Hystrix) के साथ-साथ अन्‍य कई किस्में मौजूद हैं।
यह संभवतः यूनानियों या रोमनों (Greeks or Romans) द्वारा यूरोप (Europe) के अन्य हिस्सों में पेश किया गया था। ककड़ी की खेती के रिकॉर्ड 9वीं शताब्दी में फ्रांस (France) में, 14वीं शताब्दी में इंग्लैंड (England) में और 16वीं शताब्दी के मध्य तक उत्तरी अमेरिका (North America) में दिखाई देते हैं।प्लिनी द एल्डर (Pliny the Elder) के अनुसार, सम्राट टिबेरियस (Tiberius ) गर्मियों और सर्दियों के दौरान प्रतिदिन खीरे का सेवन करते थे। जिसकी आपूर्ति हेतु रोमनों द्वारा इसके उत्‍पादन को बढ़ाने का प्रयास किया गया।शारलेमेन (Charlemagne) ने 8वीं/9वीं शताब्दी में अपने बगीचों में खीरे उगाए थे। उन्हें कथित तौर पर 14 वीं शताब्दी की शुरुआत में इंग्लैंड (England) में इसकी पेशकश की, बीच में यह कहीं विलुप्‍त हो गया था, फिर लगभग 250 साल बाद फिर से इसकी शुरूआत की गयी। स्पैनियार्ड्स (Spaniards) (इतालवी क्रिस्टोफर कोलंबस (Italian Christopher Columbus) के माध्यम से) 1494 में हैती (Haiti) में खीरे लाए गए। 1535 में, एक फ्रांसीसी (French) खोजकर्ता, जैक्स कार्टियर (Jacques Cartier) ने मॉन्ट्रियल (Montreal) की साइट (site) पर उगाए गए बहुत बढ़िया खीरों की खोज की।
16वीं शताब्दी के दौरान, यूरोपीय ट्रैपर (European trappers), व्यापारी, बाइसन (bison) शिकारी, और खोजकर्ता अमेरिकी भारतीय कृषि के उत्पादों के लिए सौदेबाजी करते थे। ग्रेट प्लेन्स (Great Plains) और रॉकी पर्वत (Rocky Mountains) की जनजातियों ने स्पेनिश (Spanish) से सीखा कि यूरोपीय फसलें कैसे उगाई जाती हैं। विशाल मैदानों के किसानों में मंडन (Mandan) और अबेनाकी (Abenaki) शामिल थे। उन्होंने स्पैनिश से खीरे और तरबूज प्राप्त किए, और उन्हें उन फसलों में जोड़ा जो वे पहले से ही उगा रहे थे, जिसमें मकई और बीन्स, कद्दू, स्क्वैश और लौकी आदि शामिल थे। 17वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में, कच्ची सब्जियों और फलों के प्रति एक प्रतिकूल प्रभाव विकसित हुआ। समकालीन स्वास्थ्य प्रकाशनों में कई लेखों में कहा गया कि कच्चे पौधे गर्मी की बीमारियों को लाते हैं और बच्चों को इनसे दूर रखना चाहिए। ककड़ी पर लंबे समय तक इस धारणा का प्रभाव रहा तथा इसे पशुओं के उपभोग के लिए ही प्रयोग किया जाता था। खीरा एशियाई प्रजातियों में से एक है और क्‍यूकरबिटिसियाई (Cucurbitaceae) का सदस्य है जिसमें 90 जेनेरा (genera) और 750 प्रजातियां हैं। अफ्रीकी (african) समूह में द्विगुणित गुणसूत्र संख्या 24 है। यह ओंस या पाले के प्रति संवेदनशील होते हैं लेकिन 20 डिग्री सेल्सियस से ऊपर के तापमान पर अच्छी तरह से बढ़ते हैं। इन्हें दुनिया भर में ताजे फल, अचार आदि के रूप में सेवन के लिए उगाया जाता है।टमाटर और तरबूज के बाद, ककड़ी और खरबूजे की खेती अन्य सब्जियों की प्रजातियों की तुलना में अधिक व्यापक रूप से की जाती है।
खीरा एक वार्षिक पौधे की प्रजाति है। ग्रीन हाउस (greenhouse ) में 3 पीढ़ियों/वर्ष उगाया जा सकता है। मूल रूप से, यह एकांगी, अनुगामी या चढ़ाई वाली बेल है। इसकी पत्तियां त्रिकोणीय-अंडाकार की होती हैं, कुछ हद तक तीन लोब वाली होती हैं जिनमें अधिकतर तीव्र वक्र होते हैं। स्टैमिनेट फूल (staminate flowers ) छोटे, पतले पेडीकल्स (pedicels) वाले गुच्छों में होते हैं। पिस्टिलेट (pistillate) फूल आमतौर पर स्टाउट (stout), छोटे पेडीकल्स (pedicels) के साथ एकान्त होते हैं। भारत में, ककड़ी जर्मप्लाज्म एनबीपीजीआर, नई दिल्ली (Germplasm NBPGR, New Delhi) और आईआईवीआर, वाराणसी (IIVR, Varanasi) और कई एसएयू (SAU) में संरक्षित हैं। जो ककड़ी के पौधे के परिचय (Pls) में और ककड़ी के सुधार में बहुत योगदान दे रहे हैं। इसी प्रकार विश्‍व की कुछ अन्‍य संस्‍थाने भी इस क्षेत्र में कार्य कर रही हैं।
खीरा गर्म मौसम की फसल है। खुले वातावरण में इसकी खेती फरवरी-मार्च से लेकर सितंबर तक की जा सकती है। खीरे की फसल के लिए शीतोषण और समशीतोषण दोनों ही जलवायु अच्छी मानी गई है। खीरे में फूल आने का समय 13 से 18 दिनों का होता है। इसके लिए 13 से 18 डिग्री सेल्सियस तापमान अच्छा होता है। वहीं पौधों के विकास और अच्छी पैदावार के लिए 18 से 24 डिग्री सेल्सियस तापमान की आवश्यकता होती है। खीरे की फसल पर कोहरे का बुरा असर पड़ता है। इसके अलावा अधिक नमी में इसके फल पर धब्बे पड़ जाते हैं।
दोसाकाई थोड़े रहस्यमय हैं, कुछ शोध बताते हैं कि यह ककड़ी परिवार का सदस्य है, जबकि अन्य का दावा है कि यह केवल एक नींबू के समान ककड़ी है जिसे एक अलग नाम से जाना जाता है। हालांकि, दोसाकाई तकनीकी रूप से तरबूज के काफी निकट है - एक ककड़ी जैसी प्रवृत्तियों वाला, शायद, लेकिन फिर भी एक तरबूज है। वे थोड़े आकर्षक होते हैं, जिनमें धब्बेदार, ठोस या धारीदार त्वचा होती है, जिनका रंग गहरे हरे से जीवंत सूर्यास्त के समान नारंगी तक होता है। दोसाकाई मूलत: भारत में उगते हैं, क्लासिक (Classic) भारतीय भोजन के लिए एकदम उपयुक्त हैं। इनका उपयोग अचार, चटनी और सांबर करी में कर सकते हैं।

संदर्भ:
https://bit.ly/3izFAgJ
https://bit.ly/3jIVe8O
https://bit.ly/3CxX4SL

चित्र संदर्भ
1. खीरे को एक पात्र में एकत्र करते श्रमिकों का एक चित्रण (flickr)
2. फलों, फूलों और पत्तियों के साथ ककड़ी की बेल का एक चित्रण (wikimedia)
3. बेचने हेतु रखे गए खीरों का एक चित्रण (flickr)



***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • मानसूनी बारिश को अस्थिर कर रहा है जलवायु परिवर्तन
    जलवायु व ऋतु

     25-09-2021 10:19 AM


  • पनीर का विज्ञानं और भारत में स्थिति
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     24-09-2021 09:18 AM


  • विनाशकारी स्वास्थ्य देखभाल व्यय और संकट वित्तपोषण में वृद्धि का कारण बन रहा है कैंसर
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     23-09-2021 10:41 AM


  • प्लवक का हमारी पारिस्थितिकी तंत्र में महत्व
    मछलियाँ व उभयचर

     22-09-2021 09:05 AM


  • आधुनिक भारतीय चित्रकला का उदय
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     21-09-2021 09:44 AM


  • लकड़ी की मांग में वृद्धि के कारण लकड़ी से बनी चीजों की कीमतों में हो रही है अत्यधिक वृद्धि
    जंगल

     20-09-2021 09:29 AM


  • इतिहास की मानव निर्मित दुर्घटनाओं में से एक है, हिंडेनबर्ग दुर्घटना
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     19-09-2021 12:35 PM


  • अतीत के अवध के सर्वोत्तम बागों में से एक मूसा बाग
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     18-09-2021 10:09 AM


  • क्या है जमीनी स्तर या खराब ओजोन और यह कैसे मानव स्वस्थ्य को प्रभावित करती है
    जलवायु व ऋतु

     17-09-2021 09:44 AM


  • समुद्र की लवणता में एक छोटा सा परिवर्तन जलवायु और जल चक्र को काफी प्रभावित कर सकता है
    समुद्र

     16-09-2021 10:07 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id