यूरोप के एम्स्टर्डम से प्रेरणा लेते हुए लखनऊ बना है अति साइकिल-अनुकूल शहर

लखनऊ

 29-09-2021 11:02 AM
य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

लखनऊ उत्तर प्रदेश के सबसे साइकिल-अनुकूल शहरों में से एक है। शहर में मुख्यमंत्री आवास के पास साइकिल अनुकूलित ट्रैक (Track) बनाए गए हैं। साढ़े चार किलोमीटर के ट्रैक में कालिदास मार्ग पर एक गोल्फ क्लब (Golf club) के बगल में ला-मार्टिनियर कॉलेज रोड शामिल है, जहां मुख्यमंत्री रहते हैं, और विक्रमादित्य मार्ग, जिसमें सत्तारूढ़ दल का कार्यालय है। साइकिल चालकों के लिए समर्पित चार मीटर चौड़ी सड़क फुटपाथ और मुख्य सड़क से अलग है।एम्स्टर्डम (Amsterdam) को प्रेरणा के रूप में लेते हुए, शहर को ओर अधिक साइकिल- अनुकूल बनाने के लिए नए साइकिल ट्रैक का निर्माण किया जाना है, जिससे साइकिल किराए पर देने जैसी सुविधाओं के व्यवसाय में भी वृद्धि होगी।वर्ष 2015 में, लखनऊ ने 'द लखनऊ साइक्लोथॉन (The Lucknow Cyclothon)' नामक एक राष्ट्रीय स्तर के साइकिलिंग (Cycling) कार्यक्रम की भी मेजबानी की जिसमें पेशेवर और शौकिया साइकिल चालकों ने भाग लिया। उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा एक निर्माणाधीन साइकिल ट्रैक नेटवर्क लखनऊ को भारत का सबसे बड़ा साइकिल नेटवर्क वाला शहर बनाने के लिए तैयार है।
जैसे-जैसे शहरीकरण और आधुनिकीकरण अभूतपूर्व स्तर पर पहुँच रहा है, सड़कों पर भीड़भाड़ एक आधुनिक समस्या बन चुकी है।अधिक यातायात वायु प्रदूषण, सुरक्षा जोखिम और पहुंच, आर्थिक प्रतिस्पर्धा, सतत विकास और सामाजिक सामंजस्य के मामले में नुकसान से जुड़ा है।
अगर हम अपने शहरों को आकर्षक और टिकाऊ बनाने के लिए कृतसंकल्प हैं, तो हमें इन चुनौतियों का सामना करना होगा।इस समस्या के समाधान के लिए कई उपाय उपलब्ध हैं,या तो हमारे द्वारा पारंपरिक कार के उपयोग को प्रतिबंधित किया जाएं, या व्यवहार्य विकल्प प्रदान किया जाएं। इनमें से कोई भी समाधान इस समय गतिशील संसाधनों के साझा उपयोग, उदाहरण के लिए एक ही गाड़ी को साझा करके जाने की तुलना में अभी अधिक उन्नत और विपणन योग्य नहीं है। साथ ही पर्यावरण के अनुकूल यातायात के लिए साइकिल से अधिक यथार्थवादी तरीके मौजूद नहीं है। साइकिल चलाने के उद्देश्य को अक्सर परिवहन के अन्य साधनों के पर्यावरण अनुकूलित विकल्प के रूप में लागू किया जाता है। यद्यपि साइकिल उपायों के प्रभाव की निगरानी प्रत्यक्ष और आसान है, यह आमतौर पर 'सह-लाभ' का अप्रत्यक्ष प्रभाव भी होता है जो शहरों के सामने आने वाले मुद्दों को संबोधित करता है।डीजी मूव (DG MOVE) के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, 2016 में यूरोपीय संघ की सड़कों पर होने वाली मौतों की कुल संख्या का 8% से अधिक साइकिल चलाने वाले लोग थे। हालांकि सड़क दुर्घटनाओं में मारे गए साइकिल चालकों की संख्या 2007(24% की कमी) के बाद से घट रही है, तथा इसी अवधि के दौरान सभी सड़क दुर्घटना मृत्यु दर (40% की कमी) की तुलना में गिरावट की दर कम रही है, और हाल के वर्षों में गिरावट धीमी हुई है।चूँकि अधिकांश साइकिल सवारों की मृत्यु मोटर चालित वाहन से टकराने के कारण होती है, इसलिए समाधान के रूप में मोटर वाहनों के साथ साइकिल चालकों की मुठभेड़ के परिणामस्वरूप होने वाली घटनाओं की आवृत्ति और गंभीरता को कम करने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। यह उपयुक्त बुनियादी ढांचे के डिजाइन और चयन के माध्यम से प्राप्त किया जा सकता है जो गैर-मोटर चालित और मोटर चालित यातायात के बीच खतरनाक मुठभेड़ को सीमित करता है। सुरक्षित साइकिल चलाने के बारे में सभी सड़क उपयोगकर्ताओं को शिक्षित करके इसका समर्थन किया जा सकता है। लेकिन यदि देखा जाएं तो यूरोपीय (European) संघ के शहरों में मोटर चालित वाहन वायु प्रदूषण का एक प्रमुख स्रोत हैं; जिनसे46% NOx उत्सर्जन, जो ओजोन (Ozone) परत के ह्रास और अम्लीय वर्षा के निर्माण में योगदान देता है; 15% पार्टिकुलेट मैटर (Particulate matter) उत्सर्जन, जो कम दृश्यता और सामग्री क्षति का कारण बन सकता है; और यूरोपीय संघ के CO2 उत्सर्जन का लगभग 15%, जो जलवायु परिवर्तन में योगदान देने वाली एक प्रमुख ग्रीनहाउस गैस (Greenhouse gas) है।ध्वनि प्रदूषण वाहनों का एक और पर्यावरणीय प्रभाव है, जिससे यूरोपीय संघ निपट रहा है। इन सभी प्रदूषण का एक सरल समाधान है, वह है अधिक से अधिक साइकिल का उपयोग। साइकिलें बहुत अधिक स्थान कुशल भी होती हैं और इसलिए साइकिल चलाने से एक सामान्य बदलाव शहरी भूमि की मांग को भी कम किया जा सकता है। विकासशील देशों में शहरी आबादी में वृद्धि जारी रहने का अनुमान है, 2050 तक दुनिया के शहरों में 2.5 बिलियन लोगों को जोड़ा जाएगा, जिसमें लगभग 90 प्रतिशत वृद्धि एशिया (Asia) और अफ्रीका (Africa) में केंद्रित है। तब तक दुनिया की आधी से ज्यादा आबादी शहरों में रहने लगेगी।तेजी से शहरीकरण के प्रबंधन, गरीबी को कम करने और शहरी निवासियों के बीच समानता और पर्यावरणीय मुद्दों को संबोधित करने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम सेवाओं और अवसरों तक पहुंच के लिए उनकी जरूरतों को पूरा करना है। पैदल चलना और साइकिल चलाना परिवहन के कम कार्बन वाले साधनों से अधिक हैं जो शहरी गुणवत्ता को बढ़ाते हैं और सामाजिक सामंजस्य को सुविधाजनक बनाते हैं।वे सस्ते, लचीले, व्यक्तिगत तरीके हैं जिनके बिना निम्न और मध्यम आय वाले देशों में अधिकांश लोग अर्थव्यवस्था और समुदाय में भाग लेने में असमर्थ होंगे, या शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल और अन्य शहरी सेवाओं तक पहुंच नहीं पाएंगे।2016 में प्रकाशित संयुक्त राष्ट्र (United Nation) पर्यावरण की ग्लोबल रिपोर्ट ऑन वॉकिंग एंड साइकलिंग (Global Report on walking and cycling) के अनुसार, चीनी (China) शहरों में 60 प्रतिशत तक लोग शहर में यातायात के लिए साइकिल का उपयोग करते हैं, जबकि अफ्रीकी (African) शहरों में यह हिस्सा 5 प्रतिशत के करीब है। इसके अलावा, पूर्वी अफ्रीका के विकासशील देश मलावी (Malawi) में, ग्रामीण सड़कों पर चलने वाले 80 से 90 प्रतिशत लोग साइकिल चालक हैं। नीदरलैंड ट्रैवल सर्वे (Netherlands Travel Survey) ने बताया कि 2016 में कुल 4.5 अरब साइकिल यात्राएं हुईं, जो 15.5 अरब किलोमीटर की दूरी में फैली हुई थीं।
साइकिल चलाना कई कारणों से लोकप्रिय हो गया है। यह मधुमेह, कुछ प्रकार के कैंसर (Cancer), हृदय रोगों और अवसाद के जोखिम को कम करने में मदद करता है।यूनाइटेड किंगडम (United Kingdom) के शोध में पाया गया कि कार या सार्वजनिक परिवहन से आने की तुलना में साइकिल से काम करने से कैंसर होने का खतरा 45 प्रतिशत कम और हृदय रोग का 46 प्रतिशत कम जोखिम होता है।छोटी यात्राओं के लिए कार लेने के बजाय रोजाना साइकिल चलाने के स्वास्थ्य लाभ काफी अधिक हैं। दैनिक व्यायाम जीवन प्रत्याशा को लगभग 3.4 वर्ष बढ़ा देता है जबकि प्रदूषित हवा में सांस लेने से जीवन प्रत्याशा 1 से 40 दिनों तक कम हो जाती है। नियमित साइकिल चलाना शारीरिक योग्यता को बढ़ाता है और मोटापे को रोकने का एक कारगर तरीका है।कार के बजाए साइकिल का उपयोग करने से प्रति किलोमीटर 150 ग्राम CO2 की बचत होती है। साइकिल से प्रत्येक 7 किमी कार द्वारा तय की गई समान दूरी की तुलना में 1 किलोग्राम CO2 के उत्सर्जन को बचाएगा।पांच साल की अवधि में, डच (Dutch) लोगों ने साइकिल चलाने के माध्यम से हर साल 1.41 मिलियन टन CO2 के उत्सर्जन को कम किया। यह बचत हर साल लगाए जा रहे 54.4 मिलियन पेड़ों के बराबर है।

संदर्भ :-
https://bit.ly/3kMgBrD
https://bit.ly/2Y6jdYP
https://bit.ly/3m46T3n
https://bit.ly/3AMTMtr
https://bbc.in/3zQiFDg

चित्र संदर्भ

1. लखनऊ में साइकल प्रतियोगिता आयोजन का एक चित्रण (nowlucknow)
2. शहरों में प्रदूषण के प्रभाव को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
3. साइकल पर दौड़ते युवाओं का एक चित्रण (flickr)



RECENT POST

  • यूक्रेन युद्ध, भारत में कई जगह सूखा, बेमौसम बारिश,गर्मी की लहरों से उत्पन्न खाद्य मुद्रास्फीति
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:44 AM


  • हम लखनऊ वासियों को समझनी होगी प्रदूषण, अतिक्रमण से पीड़ित जल निकायों व नदियों की पीड़ा
    नदियाँ

     25-05-2022 08:16 AM


  • लखनऊ के हरित आवरण हेतु, स्थानीय स्वदेशी वृक्ष ही पारिस्थितिकी तंत्र के लिए सबसे उपयुक्त
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:37 AM


  • स्वास्थ्य सेवा व् प्रौद्योगिकी में माइक्रोचिप्स की बढ़ती वैश्विक मांग, क्या भारत बनेगा निर्माण केंद्र?
    खनिज

     23-05-2022 08:50 AM


  • सेलफिश की गति मछलियों में दर्ज की गई उच्चतम गति है
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:40 PM


  • बच्चों को खेल खेल में, दैनिक जीवन में गणित के महत्व को समझाने की जरूरत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:09 AM


  • भारत में जैविक कृषि आंदोलन व सिद्धांत का विकास, ब्रिटिश कृषि वैज्ञानिक अल्बर्ट हॉवर्ड द्वारा
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:03 AM


  • लखनऊ की वृद्धि के साथ हम निवासियों को नहीं भूलना है सकारात्मक पर्यावरणीय व्यवहार
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:47 AM


  • एक समय जब रेल सफर का मतलब था मिट्टी की सुगंध से भरी कुल्हड़ की स्वादिष्ट चाय
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:47 AM


  • उत्तर प्रदेश में बौद्ध तीर्थ स्थल और उनका महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:52 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id