Post Viewership from Post Date to 11-Dec-2021 (30th Day)
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
2246 407 2653

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

वृक्षों में इच्छाशक्ति‚ संवेदनशीलता व बुद्धिमत्ता का व्यवहार

लखनऊ

 12-10-2021 05:43 PM
पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

पौधे पृथ्वी पर 80% से अधिक बायोमास बनाते हैं‚ जिन्‍हें सदियों से निर्जीव तथा निष्क्रिय चीजों के रूप में माना जाता रहा है। शोधकर्ताओं ने “प्लांट ब्लाइंडनेस” (plant blindness) शब्द को‚ एक संज्ञानात्मक पूर्वाग्रह को संदर्भित करने के लिए भी गढ़ा है‚ जो हमारे दिमाग को हमारे विचार में पौधों से अलग कर देता है‚ और उनके महत्व को कम आंकता है। हालाँकि‚ हाल के अध्ययनों से यह साबित हुआ है कि पौधों में भी इच्छाशक्ति होती है‚ वे परोपकारिता दिखाते हैं तथा जानवरों की कई प्रजातियों की तरह ये भी सगोत्रता को समझते हैं। पौधे बेहद जटिल होते हैं। जीवविज्ञानियों का मानना है कि पौधे अपनी जड़ों‚ शाखाओं और पत्तियों के माध्यम से रसायनों को छोड़ कर‚ दूसरे कवक और जानवरों के साथ संवाद करते हैं। पौधे अपने बीज भी भेजते हैं‚ जो डेटा पैकेट के रूप में काम करते हुए सूचना की आपूर्ति करते हैं। वे अपने साथियों को पोषक तत्व प्रदान करके अपनी प्रजाति के कमजोर सदस्यों के स्‍वास्‍थ्‍य को भी बनाए रखते हैं‚ जो सम्बन्ध की भावना को दर्शाता है। पौधों का आंतरिक जीवन सबसे विनम्र प्रकृतिवादियों के जुनून को भी जगाता है। पौधों की चेतना और बुद्धिमत्ता पर बहस वैज्ञानिक में एक सदी से भी अधिक समय से चली आ रही है‚ खासकर तब से‚ जब 1880 में चार्ल्स डार्विन (Charles Darwin) ने देखा कि तनावग्रस्त वनस्पति आराम नहीं कर सकते हैं। वनस्पतिशास्त्री स्टेफ़ानो मैनकुसो (Stefano Mancuso) और अंतरराष्ट्रीय वैज्ञानिकों के एक समूह ने 2005 में‚ पौधों में परिष्कृत व्यवहार का अध्ययन करने के लिए‚ द सोसाइटी फॉर प्लांट न्यूरोबायोलॉजी ( Society for Plant Neurobiology) की स्थापना की। 2010 तक मैनकुसो (Mancuso) के पास पौधों की बुद्धिमता पर बात करने के लिए पर्याप्त डेटा था। जिसमें वह बताते हैं कि पौधे जानवरों की तुलना में‚ अपने आस-पास क्या है‚ इसे समझने में अधिक परिष्कृत होते हैं।
प्रत्येक पौधे की जड़ की नोक में एक छोटा क्षेत्र होता है‚ जो विद्युत संकेतों के स्थान के रूप में कार्य करता है‚ वही संकेत जो मानव न्यूरॉन्स में पाए जाते हैं। पौधे‚ न केवल न्यूरॉन जैसी गतिविधि और गति में संलग्न होते हैं‚ वे गणितीय गणना भी करते हैं। 2013 में एंटोनियो सियालडोन (Antonio Scialdone) और यूनाइटेड किंगडम (United Kingdom’s) के जॉन इन्स सेंटर (John Innes Centre) के साथी वैज्ञानिक‚ जो अरेबिडोप्सिस थालियाना (Arabidopsis thaliana) का अध्ययन कर रहे थे‚ उन्होंने पाया कि सरसों के परिवार के ये छोटे खरपतवार‚ रात में भुखमरी को रोकने के लिए कुछ जटिल अंकगणित करने में सक्षम हैं। जीवित रहने के लिए स्टार्च की आवश्यकता होती है‚ पौधे इसे प्रकाश संश्लेषण सूर्य के प्रकाश द्वारा निर्मित करते हैं। रात के दौरान‚ वे अपनी पत्तियों में बचे स्टार्च की मात्रा को मापते हैं‚ भोर तक के समय का अनुमान लगाने के लिए एक आंतरिक घड़ी का उपयोग करते हैं‚ फिर अपने भोजन भंडार को भोर होने के अपेक्षित समय से विभाजित करते हैं‚ ताकि उनके पास सूर्य के उगने तक पर्याप्त स्टार्च हो। वे अविश्वसनीय रूप से सटीक होते हैं‚ जब तक वे प्रकाश संश्लेषण को फिर से शुरू करते हैं‚ तब तक उनके स्टार्च का लगभग 95 प्रतिशत खपत हो चुका होता है। लेखक जेनेट मारिनेली (Janet Marinelli) के अनुसार‚ 2012 में‚ तेल अवीव विश्वविद्यालय (Tel Aviv University) में मन्ना सेंटर फॉर प्लांट बायोसाइंसेज (Manna Center for Plant Biosciences) के निदेशक और व्हाट ए प्लांट नोज़ (What a Plant Knows) के लेखक‚ डैनियल चामोविट्ज़ (Daniel Chamovitz) ने बताया कि पौधे हमें प्रकाश की विभिन्न तरंग दैर्ध्य का अनुभव करने वाले फोटोरिसेप्टर (photoreceptors) के माध्यम से “देखते हैं”। वे जानते हैं कि हम उनके पास कब आते हैं और क्या हमने नीली या लाल शर्ट पहनी है। पौधों के कुछ अन्य अध्ययनों से पता चलता है‚ कि पौधे आत्म-पहचान में भी सक्षम हैं। 1991 में‚ कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय-सांता बारबरा (University of California–Santa Barbar) के शोधकर्ता‚ ब्रूस महल (Bruce Mahall) और रागन कैलावे (Ragan Callaway) जो अब मोंटाना विश्वविद्यालय (University of Montana) में हैं‚ ने पाया कि मोजावे (Mojave) और सोनोरन (Sonoran) रेगिस्तान के निवासी‚ सफेद बर्सेज पौधों (white bursage plants) की जड़ें‚ अन्य पौधों के विकास को रोकती हैं‚ जिनके साथ वे सीधे शारीरिक संपर्क में आए‚ लेकिन अपनी जड़ों के विकास में बाधा नहीं डालते‚ जिसका अर्थ है कि वे “स्वयं” को “अन्य” से अलग कर सकते हैं।
सेंटर फॉर बायोलॉजिकल डायवर्सिटी (Center for Biological Diversity) के अनुसार‚ पौधों की 300‚000 से अधिक ज्ञात प्रजातियों में से‚ इंटरनेशनल यूनियन फॉर कंजर्वेशन ऑफ नेचर (International Union for Conservation of Nature (IUCN)) ने केवल 12‚914 का मूल्यांकन किया है‚ जिसमें पाया गया है कि लगभग 68 प्रतिशत मूल्यांकित पौधों की प्रजातियों के विलुप्त होने का खतरा है। अपनी सबसे ज्यादा बिकने वाली किताब‚ द हिडन लाइफ ऑफ ट्रीज़ (The Hidden Life of Trees) में‚ पीटर वोहलेबेन (Peter Wohlleben) का तर्क है‚ कि दुनिया के जंगलों को बचाने के लिए हमें सबसे पहले यह पहचानना होगा कि पेड़ “अद्भुत प्राणी” हैं‚ जिनमें जन्मजात अनुकूलन क्षमता‚ बुद्धिमत्ता और अन्य पेड़ों के साथ संवाद करने और स्वस्थ करने की क्षमता होती है। वानिकी स्कूल में एक छात्र के रूप में‚ पीटर वोहलेबेन को पेड़ों को विशेष रूप से एक आर्थिक वस्तु के रूप में देखने के लिए प्रशिक्षित किया गया था। लेकिन एक जर्मन (German) वानिकी एजेंसी में शामिल होने और एक सामुदायिक जंगल का प्रबंधन करने के बाद‚ उनका जल्द ही स्पष्ट रूप से‚ रासायनिक उपयोग और यांत्रिक कटाई जैसी प्रथाओं से भ्रम-निवारण हो गया‚ जो स्थिरता से पहले अल्पकालिक लाभ डालते हैं। वोहलेबेन (Wohlleben) को अंततः स्थानीय मेयर द्वारा उसी जंगल की पर्यावरण के अनुकूल तरीके से देखभाल करने के लिए काम पर रखा गया था। आज‚ वह कीटनाशकों या भारी मशीनरी का उपयोग किए बिना जंगल का प्रबंधन करते हैं‚ जहां पेड़ों को हाथ से काटा जाता है और घोड़ों द्वारा निकाला जाता है।
उन्होंने एक “लिविंग ग्रेवस्टोन” (living gravestone) परियोजना भी शुरू की है‚ जिसमें शहरवासी एक प्राचीन पेड़ के वाणिज्यिक मूल्य के बराबर भुगतान करते हैं‚ ताकि उनकी राख को उसके आधार पर दफनाया जा सके। येल एनवायरनमेंट 360 (Yale Environment 360) के साथ एक साक्षात्कार में‚ वोहलेबेन चर्चा करते हैं‚ कि कैसे पेड़ परिष्कृत जीव हैं जो परिवारों में रहते हैं‚ अपने बीमार पड़ोसियों का समर्थन करते हैं‚ और निर्णय लेने और शिकारियों से लड़ने की क्षमता रखते हैं। पेड़ों के मानवरूपीकरण के लिए उनकी आलोचना भी की गई थी‚ लेकिन 52 वर्षीय वोहलेबेन का कहना है‚ कि तेजी से गर्म हो रही दुनिया में अपने जंगलों को संरक्षित करने में सफल होने के लिए‚ हमें पेड़ों को पूरी तरह से अलग रोशनी में देखना शुरू करना चाहिए।

संदर्भ:

https://bit.ly/3FoJRND
https://bit.ly/3oLPDmC
https://bit.ly/3BpWghD
https://bit.ly/3DpQZHy
https://bit.ly/3FxyFy3

चित्र संदर्भ
1. मनुष्य की आकृति को दर्शाते पेड़ का एक चित्रण (wikimedia)
2. श्रीलंका में स्थित द अग्ली ट्री (The Ugly Tree) का एक चित्रण (flickr)
3. प्रकाश संश्लेषण, जल को तोडकर O2 निकालता है एवं CO2 को शर्करा (sugar) के रूप में बदल देता है, को संदर्भित करता एक चित्रण (wikimedia)
4. पेड़ काटते यांत्रिक हारवेस्टर का एक चित्रण (wikimedia)



***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • यूक्रेन युद्ध, भारत में कई जगह सूखा, बेमौसम बारिश,गर्मी की लहरों से उत्पन्न खाद्य मुद्रास्फीति
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:44 AM


  • हम लखनऊ वासियों को समझनी होगी प्रदूषण, अतिक्रमण से पीड़ित जल निकायों व नदियों की पीड़ा
    नदियाँ

     25-05-2022 08:16 AM


  • लखनऊ के हरित आवरण हेतु, स्थानीय स्वदेशी वृक्ष ही पारिस्थितिकी तंत्र के लिए सबसे उपयुक्त
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:37 AM


  • स्वास्थ्य सेवा व् प्रौद्योगिकी में माइक्रोचिप्स की बढ़ती वैश्विक मांग, क्या भारत बनेगा निर्माण केंद्र?
    खनिज

     23-05-2022 08:50 AM


  • सेलफिश की गति मछलियों में दर्ज की गई उच्चतम गति है
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:40 PM


  • बच्चों को खेल खेल में, दैनिक जीवन में गणित के महत्व को समझाने की जरूरत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:09 AM


  • भारत में जैविक कृषि आंदोलन व सिद्धांत का विकास, ब्रिटिश कृषि वैज्ञानिक अल्बर्ट हॉवर्ड द्वारा
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:03 AM


  • लखनऊ की वृद्धि के साथ हम निवासियों को नहीं भूलना है सकारात्मक पर्यावरणीय व्यवहार
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:47 AM


  • एक समय जब रेल सफर का मतलब था मिट्टी की सुगंध से भरी कुल्हड़ की स्वादिष्ट चाय
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:47 AM


  • उत्तर प्रदेश में बौद्ध तीर्थ स्थल और उनका महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:52 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id