Post Viewership from Post Date to 23-Nov-2021 (5th Day)
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
263 147 410

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

कई लोगों के लिए खौफ का कारण हैं, जहरीले सांप

लखनऊ

 18-11-2021 08:54 AM
रेंगने वाले जीव

इस दुनिया में किसी न किसी व्यक्ति को किसी विशेष प्रकार के जानवर से अत्यधिक डर अवश्य लगता है। जहरीले सांप भी कई लोगों के लिए खौफ का कारण हैं, क्यों कि जहरीले सांप का दंश व्यक्ति के लिए काफी घातक सिद्ध हो सकता है।हालांकि दिलचस्प बात यह है, कि एक जहरीले सांप द्वारा किसी व्यक्ति को काटने की संभावना बहुत कम होती है।इस दुनिया में लोगों के मरने की संभावना सांप के जहर की अपेक्षा कैंसर, हृदय रोग, या वाहन दुर्घटना से अधिक होती है, लेकिन फिर भी कई लोगों के लिए यह अनुचित भय बहुत वास्तविक होता है।ऐसा इसलिए है, क्यों कि हर साल अनेकों लोग सांप द्वारा काटे जाने से मारे जाते हैं। इसके अलावा जिन लोगों को सही उपचार नहीं मिल पाता है,वे विकृति, अवकुंचन, दृश्य हानि, गुर्दे की जटिलताओं और मनोवैज्ञानिक संकट जैसी दीर्घकालिक जटिलताओं से पीड़ित होते हैं। दुनिया भर में हर साल लगभग 54 लाख लोग सर्प दंश से पीड़ित होते हैं। इसके परिणामस्वरूप जहर के कारण होने वाली मृत्यु के 18 से 27 लाख मामले सामने आते हैं।भारत में वर्ष 2000 से लेकर 2019 तक सांप के काटने से अनुमानित 12 लाख लोगों की मौत हुई। ये मामले प्रति वर्ष औसतन 58,000 है।पूरी दुनिया में भारत में सर्पदंश के सबसे अधिक मामले हैं और वैश्विक सर्पदंश से होने वाली मौतों का लगभग 50% हिस्सा भारत में है। किसान, मजदूर, शिकारी, चरवाहे, सांप बचाने वाले, आदिवासी और प्रवासी आबादी, और शिक्षा और स्वास्थ्य सेवा तक सीमित पहुंच वाले लोग सर्पदंश के प्रति उच्च जोखिम वाले समूह हैं। भारत में सर्पदंश का शिकार होने वाले लोगों की संख्या अधिक इसलिए भी है, क्यों कि लोगों के बीच सांप के काटने को लेकर अनुचित धारणाएं,अपर्याप्त जागरूकता और ज्ञान है। इन सभी चीजों के कारण सर्पदंश के कारण होने वाली मृत्युओं की संख्या और भी बढ जाती है। इसलिए यह आवश्यक है, कि लोगों को इसके बारे में जागरूक किया जाए ताकि वे सर्पदंश को लेकर अपनी धारणाएं बदल सकें। इसके अलावा शिक्षा और स्वास्थ्य सेवाओं तक व्यापक पहुंच भी अत्यधिक आवश्यक है। दुनिया भर के कुछ अत्यधिक विषैले सांपों की बात करें तो इनमें ब्लैक मम्बा (Black mamba),बारबा अमरिला (The barba amarilla),बूमस्लैंग (Boomslang),अंतर्देशीय ताइपन (Inland taipan),ईस्टर्न टाइगर स्नेक (Eastern tiger snake),सॉ-स्केल्ड वाइपर (Saw-scaled viper),बैंडेड क्रेट (Banded krait),किंग कोबरा (King cobra) आदि शामिल हैं। वहीं भारत की बात करें तो यहां अत्यधिक जहरीले सांपों की सूची में रैट स्नेक (Rat Snake),कॉमन इंडियन वुल्फ स्नेक (Common Indian Wolf Snake),चेकर्ड कीलबैक (Chequered Keelback), ब्रोंज बैक ट्री स्नेक (Bronze Back Tree Snake),सॉ-स्केल्ड वाइपर,स्पेक्टेक्ल्ड कोबरा (Spectacled Cobra) आदि शामिल हैं। रैट स्नेक जिसे प्ट्यास म्यूकोसा (Ptyas mucosa) नाम दिया गया है, अपनी रेंगने की गति और बड़े आकार के लिए प्रसिद्ध है। वे चढ़ाई कर सकते हैं, तैर सकते हैं, और जमीन में गहरी खुदाई कर सकते हैं।चेकर्ड कीलबैकदिन, रात में सक्रिय रहते हैं तथा बहुत आक्रामक होते हैं। वे प्रायः चबाने के तरीके से काटते हैं।यह किसी भी छोटे जानवर को खा सकता है।सॉ-स्केल्ड वाइपर निशाचर होते हैं, लेकिन ठंड के मौसम में इन्हें धूप सेंकते देखा जा सकता है।वाइपर एक तरफ रेंगना पसंद करते हैं तथा वे अपने भोजन के लिए छोटे कृन्तकों, स्तनधारियों तथा अकशेरूकीय जैसे बिच्छू आदि पर निर्भर रहते हैं।अधिकांश वाइपर की तरह ही उनके पास हेमोटॉक्सिक (Hemotoxic) जहर होता है।कॉमन क्रेट रात के समय सक्रिय और आक्रामक होते हैं, जबकि दूसरी ओर दिन के समय वे अधिक विनम्र होते हैं।कॉमन क्रेटअन्य सांपों के साथ-साथ कृन्तकों, मेंढकों, टोडों आदि को भी खाते हैं।एक क्रेट के काटने से कोबरा की तरह ही न्यूरोटॉक्सिक (Neurotoxic) विष निकलता है जो पीड़ित के तंत्रिका तंत्र पर कार्य करता है।स्पेक्टेक्ल्ड कोबरा जिसे नाजा नाजा (Naja naja) कहा जाता है, भी जहरीले सांपों में से एक है, जिसे उकसाने पर यह अपने शरीर के सामने के हिस्से को शरीर की कुल लंबाई के एक तिहाई तक उठा लेते हैं।रसेल वाइपर मुख्य रूप से निशाचर है और मानव-साँप संघर्ष की शीर्ष सूची में हैं।रसेल वाइपर की फुफकार हमारे देश में सांपों की सबसे ऊंची फुफकार में से एक है। उनके पास हेमोटॉक्सिक जहर होता है जो पीड़ित की रक्त कोशिकाओं, ऊतकों और मांसपेशियों पर कार्य करता है।
अगर किसी व्यक्ति को सांप काट लेता है, तो उसके कुशल चिकित्सा प्रबंधन के लिए, आक्रामक प्रजातियों की पहचान के साथ-साथ विष की मात्रा का आकलन बहुत आवश्यक होता है। प्रजातियों की पहचान आम तौर पर पीड़ित या गवाह द्वारा दृश्य विवरण पर आधारित होती है और इसलिए इसके गलत होने की संभावना हो सकती है।।एक रिपोर्ट में कहा गया था, कि इलाज के लिए केवल एक प्रकार के सांप के एंटीवेनम (Antivenom) का ही उपयोग किया जाता है, जिसे पॉलीवैलेंट स्नेक एंटीवेनम (Polyvalent snake antivenom) कहा जाता है।यह एंटीवेनम 'चार बड़े' सांपों से निकाले गए जहर से बना मिश्रण होता है, जिनमें स्पेक्टेक्ल्ड कोबरा, कॉमन क्रैट, रसेल्स वाइपर,सॉ स्केल्ड वाइपर शामिल हैं।विशेषज्ञों का कहना है कि देश के अलग-अलग हिस्सों से आए सांप के जहर की अलग-अलग विशेषताएं होती है। इसलिए देश के एक हिस्से से एकत्र किए गए जहर का उपयोग करके सांप रोधी जहर(Anti-Snake Venom) बनाने की प्रक्रिया एक त्रुटिपूर्ण प्रक्रिया है। इसलिए यह आवश्यक है, कि सांप के काटने पर बेहतर नियंत्रण,रोकथाम और उपचार की उचित व्यवस्था की जाए।

संदर्भ:
https://bit.ly/3CpTCIw
https://bit.ly/3wW1CQu
https://bit.ly/3CkGWmp
https://bit.ly/3noYnOp
https://bit.ly/3kKNN2s
https://bit.ly/3kJZ0Ae

चित्र संदर्भ   
1. किंग कोबरा, को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
2. हाथ में काटते सांप को दर्शाता एक चित्रण (Ballistic Magazine)
3. भारतीय रेट स्नेक (Indian rate snake) को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
4. एंटीवेनम के उत्पादन के लिए सांप को दर्शाता एक चित्रण(wikimedia)



***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • लखनऊ सहित कुछ चुनिंदा चिड़ियाघरों में ही शेष बचे हैं, शानदार जिराफ
    स्तनधारी

     12-08-2022 08:28 AM


  • ऑनलाइन खरीदारी के बजाए लखनऊ के रौनकदार बाज़ारों में सजी हुई राखिये खरीदने का मज़ा ही कुछ और है
    संचार एवं संचार यन्त्र

     11-08-2022 10:20 AM


  • गांधीजी के पसंदीदा लेखक, संत व् कवि, नरसिंह मेहता की गुजराती साहित्य में महत्वपूर्ण भूमिका
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     10-08-2022 10:04 AM


  • मुहर्रम के विभिन्न महत्वपूर्ण अनुष्ठानों को 19 वीं शताब्दी की कंपनी पेंटिंग शैली में दर्शाया गया
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     09-08-2022 10:25 AM


  • राष्ट्रीय हथकरघा दिवस विशेष: साड़ियाँ ने की बैंकिग संवाददाता सखियों व् बुनकरों के बीच नई पहल
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     08-08-2022 08:55 AM


  • अंतरिक्ष से दिखाई देती है,भारत और पाकिस्तान के बीच मानव निर्मित सीमा
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     07-08-2022 12:06 PM


  • भारतीय संख्या प्रणाली का वैश्विक स्तर पर योगदान
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     06-08-2022 10:25 AM


  • कैसे स्वचालित ट्रैफिक लाइट लखनऊ को पैदल यात्रियों के अनुकूल व् आज की तेज़ गति की सडकों को सुरक्षित बनाती
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     05-08-2022 11:23 AM


  • ब्रिटिश सैनिक व् प्रशासक द्वारा लिखी पुस्तक, अवध में अंग्रेजी हुकूमत की करती खिलाफत
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-08-2022 06:26 PM


  • पाकिस्तान, चीन की सीमाओं तक फैली हुई, काराकोरम पर्वत श्रृंखला की विशेषताएं व् प्राचीन व्याख्या
    पर्वत, चोटी व पठार

     03-08-2022 06:11 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id