लखनऊ बन चुका है कई दुर्लभ पक्षियों का आवास स्थल एवं घर

लखनऊ

 05-01-2022 10:31 AM
पंछीयाँ

संगीत, संस्कृति और खान-पान के अलावा नवाबों के शहर लखनऊ विभिन्न प्रकार के पक्षियों का शहर भी बनता जा रहा है। प्रकृतिवादियों और पक्षी प्रेमियों द्वारा यहां कम से कम 360 प्रकार के पक्षियों को देखा और सूचीबद्ध किया गया है।हाल ही में लखनऊ के संजय कुमार ने नीरज श्रीवास्तव के साथ मिलकर 'बर्ड्स ऑफ लखनऊ' (Birds of Lucknow) नामक एक पुस्तक लिखी है, जो शहर में पाए जाने वाले 250 से अधिक प्रकार के पक्षियों का एक दृश्य दस्तावेज है। पक्षियों पर ऐतिहासिक, वास्तविक और उनके आह्वान, भौतिक विवरण, निवास स्थान और पक्षियों को कहां देखना है, जैसी आवश्यक जानकारी के साथ,यह पुस्तक सटीक क्षेत्र की पहचान करने में मदद करेगी और सभी पक्षी निरीक्षकों, पक्षीविज्ञानियों, वन्यजीव फोटोग्राफरों (Photographers) और उत्साही लोगों के लिए एक अनिवार्य मार्गदर्शिका होगी।
पूरे लखनऊ में जहां सनबर्ड (Sun Bird) का दिखाई देना आम है, वहीं इंडियन पिट्टा (Indian pitta -इसके पंखों में नौ रंग होने के कारण इसे नवरंग भी कहा जाता है), ट्रांस-हिमालयी (trans- Himalayan) क्षेत्र से आने वाली प्रवासी बतख रडी शेल्डक (Ruddy Shelduck- सुरखाब), ब्लैक हुडेड ओरिओल (Black hooded oriole -सुंदर स्थानिक पक्षी) और उत्तरी साइबेरिया (Siberia) के प्रवासी पक्षी उत्तरी पिंटेल (Pintail -सीकर) कुछ दुर्लभ पक्षी भी दिखाई देते हैं। साथ ही जलीय पक्षियों के संरक्षण के लिए कई नियमों को विकसित किया गया है। जलीय पक्षी शब्द का उपयोग उन पक्षियों को संदर्भित करने के लिए किया जाता है जो जल निकायों पर या उसके आसपास रहते हैं; वे ताजे पानी या समुद्री हो सकते हैं। लेकिन कुछ जल पक्षी दूसरों की तुलना में अधिक स्थलीय होते हैं, और उनके अनुकूलन उनके पर्यावरण के आधार पर भिन्न होते हैं।जलीय खरपतवारों, फाइटोप्लांकटन (Phytoplankton) और जूप्लंकटन (Zooplankton) के विकास के लिए जिम्मेदार कार्बनिक घटकों का संवर्धन, आर्द्रभूमि विभिन्न जलपक्षियों को मध्यम अनुपात में खाद्य सामग्री की उपलब्धता के लिए अच्छा आवास है।जलीय पक्षी अपनी प्रावधान सेवाओं जैसे कि कशेरुक और अकशेरुकी के लिए प्राकृतिक संकेतक के साथ-साथ आर्द्रभूमि पारिस्थितिकी तंत्र के महत्वपूर्ण घटक के लिए जाने जाते हैं।
विश्व में पक्षियों की लगभग 9000 प्रजातियाँ हैं, जिनमें से भारत में पाई जाने वाली लगभग 23% (1340 में से 310) पक्षी प्रजातियाँ आर्द्रभूमि पर निर्भर मानी जाती हैं।पिछले कुछ दशकों से पक्षियों की आबादी लगातार घट रही है और पक्षियों की सौ से अधिक प्रजातियां या तो स्थानिक या लुप्तप्राय हैं। आर्द्रभूमि का वर्तमान अध्ययन आर्द्रभूमि की वर्तमान स्थिति को बहाल करने और बनाए रखने के लिए जलीय पक्षी के विवरण को बनाए रखने में मदद करता है। आर्द्रभूमि पारिस्थितिकी तंत्र को बनाए रखने और विभिन्न जीवन रूपों का समर्थन करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। साथ ही मनुष्य भी विभिन्न आजीविका सेवाओं के लिए आर्द्रभूमि पर निर्भर करता है लेकिन घरेलू और औद्योगिक मल द्वारा तीव्र औद्योगिक विकास और प्रदूषण के कारण आर्द्रभूमि के साथ यह संपर्क तेजी से अलग हो गया है। वहीं लखनऊ में आर्द्रभूमि जलीय पक्षियों के लिए महत्वपूर्ण आवास रहे हैं। जैसे कि लखनऊ समुद्र तल से 123 मीटर ऊपर स्थित है।गर्मियों में तापमान 25-45 o C के बीच होता है जबकि सर्दियों में 2-20 o C से, औसत वार्षिक वर्षा लगभग 896.2 मिमी होती है।लखनऊ और इसके आसपास की आर्द्रभूमियाँ अभी भी जैव विविधता में बहुत समृद्ध हैं, लेकिन स्थानीय दबाव जैसे बढ़ती जनसंख्या और मानवजनित गतिविधियों के कारण आर्द्रभूमि को पुनर्वास रणनीति की आवश्यकता है।
पक्षी आमतौर पर अक्टूबर-नवंबर-दिसंबर के सर्दियों के महीनों में प्रवास करते हैं। अक्टूबर और नवंबर महीने में अध्ययन अवधि के दौरान, काले सिर वाले आइबिस (Black- headed Ibis), सफेद गर्दन वाले सारस (White-necked stork), काले गर्दन वाले सारस (Black- necked stork), काले आइबिस (Black ibis), उत्तरी पिंटेल, गार्गनी (Garganey), आदि देखे गए प्रवासी पक्षी थे। दर्ज किए गए आवासीय जलपक्षी हैं लिटिल ग्रीबे (Little grebe), लिटिल कॉर्मोरेंट (Little cormorant), इंडियन कॉर्मोरेंट (Indian cormorant), लिटिल एग्रेट (Little egret), लार्ज एग्रेट (Large egret), मेडियन एग्रेट (Median egret), कैटल एग्रेट (Cattle egret), इंडियन पोंड हेरॉन (Indian pond heron), चेस्टनट बिटर्न (Chestnut bittern), ब्लैक-क्राउन नाइट हेरॉन (Black-crowned night heron), व्हाइट-ब्रेस्टेड वॉटर हेन (White-breasted water hen), पर्पल मूरहेन (Purple moorhen), आदि शामिल हैं। वहीं इन सर्दियों में प्रवासी पक्षी पहले से ही आ चूकें हैं, क्या ये आपको दिखाई दिए? पक्षियों का निरीक्षण करने के लिए आवश्यक नहीं है कि हमें दुरुस्थ के स्थानों पर जाना पड़ें, बल्कि पक्षियों का निरीक्षण आप घर बैठे भी कर सकते हैं। यह एक ऐसा शौक है जिसमें आप दिन के किसी भी समय, वर्ष के किसी भी दिन भाग ले सकते हैं। जब भी आप बाहर प्रकृति में विलीन होते हैं, चाहे आप खिड़की से बाहर देख रहे हों, अपने वाहन या लंबी पैदल यात्रा करते समय, एक पक्षी को देखने का अवसर अवश्य प्राप्त होता है।और पक्षी प्रकृति के शिक्षक हैं, अन्य वन्यजीवों के विपरीत, पक्षी हर जगह मौजूद रहते हैं। उन्हें समझने के लिए, केवल थोड़े से ज्ञान और अवलोकन करने की इच्छा की आवश्यकता है।

संदर्भ :-
https://bit.ly/3FSHX7v
https://bit.ly/3ePQA7a
https://bit.ly/3mPhccT
https://bit.ly/3pRfrO7

चित्र संदर्भ   

1. हाल ही में लखनऊ के संजय कुमार ने नीरज श्रीवास्तव के साथ मिलकर बर्ड्स ऑफ लखनऊन (Birds of Lucknow) नामक एक पुस्तक लिखी है, जो शहर में पाए जाने वाले 250 से अधिक प्रकार के पक्षियों का एक दृश्य दस्तावेज है। जिसके मुख्य पृष्ठ को दर्शाता एक चित्रण (bloomsbury.)
2. ट्रांस-हिमालयी (trans- Himalayan) क्षेत्र से आने वाली प्रवासी बतख रडी शेल्डक को दर्शाता एक चित्रण (Flickr)
3. जलीय पक्षियों को दर्शाता एक चित्रण (Flickr)
4. इंडियन पोंड हेरॉन (Indian pond heron), को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • 2022 में कई महत्वाकांक्षी मिशन के साथ आगे बढ़ रहा है,भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन
    संचार एवं संचार यन्त्र

     27-01-2022 10:38 AM


  • काफी भव्य रूप से निकाली जाती है लखनऊ में गणतंत्र दिवस की परेड
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     26-01-2022 10:43 AM


  • इंग्लैंड से भारत वापस आई 10वीं शताब्दी की भारतीय योगिनी मूर्ति
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     25-01-2022 09:37 AM


  • क्या मनुष्य कंप्यूटर प्रोग्राम या सिमुलेशन का हिस्सा हैं?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     24-01-2022 10:52 AM


  • रबिन्द्रनाथ टैगोर और नेता जी सुभाष चंद्र बोस का एक साथ का बहुत दुर्लभ वीडियो
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     23-01-2022 02:27 PM


  • लखनऊ के निकट कुकरैल रिजर्व मगरमच्छों की लुप्तप्राय प्रजातियों को संरक्षण प्रदान कर रहा है
    रेंगने वाले जीव

     22-01-2022 10:26 AM


  • कैसे शहरीकरण से परिणामी भीड़ भाड़ को शहरी नियोजन की मदद से कम किया जा सकता है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     21-01-2022 10:05 AM


  • भारवहन करने वाले जानवरों का मानवीय जीवन में महत्‍व
    स्तनधारी

     20-01-2022 11:46 AM


  • भारत में कुर्सी अथवा सिंहासन के प्रयोग एवं प्रयोजन
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     19-01-2022 11:08 AM


  • केरल के मछुआरों को अतिरिक्त आय प्रदान करती है, करीमीन मछली
    मछलियाँ व उभयचर

     17-01-2022 10:52 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id