Post Viewership from Post Date to 28-Mar-2022
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
1210 199 1409

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

परमाणु हथियारों के अप्रसार पर अंतरराष्ट्रीय संधि, परमाणु ऊर्जा का केवल शांतिपूर्ण उपयोग

लखनऊ

 23-03-2022 12:54 AM
हथियार व खिलौने

“परमाणु हथियारों के अप्रसार पर संधि” (Treaty on the Non-Proliferation of Nuclear Weapons) एक ऐतिहासिक अंतरराष्ट्रीय संधि है‚ इसे अप्रसार संधि या एनपीटी (NPT) के रूप में भी जाना जाता है। इसका मुख्य उद्देश्य परमाणु ऊर्जा के शांतिपूर्ण उपयोग में सहयोग को बढ़ावा देना‚ परमाणु हथियारों और हथियार प्रौद्योगिकी के प्रसार को रोकना तथा परमाणु निरस्त्रीकरण और सामान्य तथा पूर्ण बेहथियारबंदी प्राप्त करने के लक्ष्य को आगे बढ़ाना है।
यह संधि परमाणु-हथियार वाले राज्यों को परिभाषित करती है‚ जिन्होंने 1 जनवरी 1967 से पहले एक परमाणु विस्फोटक उपकरण का निर्माण और परीक्षण किया है। इनमें संयुक्त राज्य अमेरिका (United States)‚ रूस (Russia)‚ यूनाइटेड किंगडम (United Kingdom)‚ फ्रांस (France) और चीन (China) शामिल हैं। संयुक्त राष्ट्र (United Nations) के चार सदस्य देशों ने कभी भी इस संधि को स्वीकार नहीं किया‚ जिनमें से भारत‚ इज़राइल (Israel) और पाकिस्तान के पास परमाणु हथियारों का होना माना जाता है‚ इनके अलावा 2011 में स्थापित दक्षिण सूडान (South Sudan) भी इसमें शामिल नहीं हुआ। 1968 में इसे हस्ताक्षर के लिए खोला गया और 1970 में संधि लागू हुई। पच्चीस साल बाद‚ 11 मई 1995 को न्यूयॉर्क (New York) शहर में समीक्षा सम्मेलन के दौरान एनपीटी पार्टियां मिलीं और संधि को अनिश्चित काल के लिए बढ़ा दिया गया‚ जिसमें पांच परमाणु हथियार संपन्न राज्यों सहित कुल 191 राज्य शामिल हुए थे।
अधिकतर देशों ने किसी भी अन्य शस्त्र सीमा और निरस्त्रीकरण समझौते की तुलना में एनपीटी की पुष्टि की‚ जो इस संधि के महत्व के प्रमाण को दर्शाता है।
अगस्त 2016 तक‚ 191 राज्य इस संधि के पक्षकार बन गए थे‚ लेकिन 1985 में शामिल हुआ उत्तर कोरिया (North Kore) कभी अनुपालन में नहीं आया‚ उसने 2003 में परमाणु उपकरणों के विस्फोट के बाद मूल दायित्वों का उल्लंघन किया‚ जिसके बाद उसने एनपीटी से अपनी वापसी की घोषणा कर दी थी। इस संधि की समीक्षा सम्मेलन नामक बैठकों में हर पांच साल में संधि की समीक्षा की जाती है। अप्रसार संधि को वैश्विक परमाणु अप्रसार व्यवस्था की आधारशिला और परमाणु निरस्त्रीकरण की खोज के लिए एक मौलिक बुनियाद माना जाता है। यह संधि अप्रसार के लक्ष्य को आगे बढ़ाने तथा इसमें सम्मिलित राज्यों के बीच विश्वास- निर्माण के उपाय के रूप में‚ अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (International Atomic Energy Agency (IAEA)) की जिम्मेदारी के तहत एक सुरक्षा उपाय प्रणाली स्थापित करती है। आईएईए (IAEA) द्वारा किए गए निरीक्षणों से इस संधि के अनुपालन को सत्यापित करने के लिए सुरक्षा उपायों का उपयोग किया जाता है। एनपीटी और व्यापक परमाणु अप्रसार व्यवस्था को मजबूत करने के लिए कई अन्य उपाय अपनाए गए तथा राज्यों के लिए परमाणु हथियार बनाने की क्षमता को हासिल कर पाना मुश्किल बना दिया गया‚ जिसमें परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (Nuclear Suppliers Group (NSG)) के निर्यात नियंत्रण और अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (IAEA) के अतिरिक्त प्रोटोकॉल के उन्नत सत्यापन उपाय शामिल हैं। एनपीटी के आलोचकों का कहना है‚ कि एनपीटी परमाणु हथियारों के प्रसार या उन्हें हासिल करने की प्रेरणा को रोक नहीं सकता है।
वे परमाणु निरस्त्रीकरण की सीमित प्रगति पर निराशा व्यक्त करते हैं‚ जहां अभी भी पांच अधिकृत परमाणु हथियार वाले राज्यों के पास उनके संयुक्त भंडार में 13‚400 हथियार हैं। 1991 से पहले यूक्रेन (Ukraine) सोवियत संघ (Soviet Union) का हिस्सा था और उसके पास सोवियत परमाणु हथियार थे। सोवियत संघ के विघटन के बाद यूक्रेन के पास सोवियत परमाणु शस्त्रागार का लगभग एक तिहाई हिस्सा था‚ जो उस समय दुनिया में तीसरा सबसे बड़ा था।
औपचारिक रूप से इन हथियारों को स्वतंत्र राज्यों के राष्ट्रमंडल (Commonwealth of Independent States (CIS)) द्वारा नियंत्रित किया जाता था। यूक्रेन 1994 में‚ हथियारों को नष्ट करने और परमाणु हथियारों के अप्रसार पर संधि (NPT) में शामिल होने के लिए सहमत हुआ। सोवियत संघ के विघटन के बाद 1990 के दशक में‚ रूसी सेना ने यूक्रेन के साथ समझौतों के अनुसार तैनात‚ ब्लैक सी फ्लीट (Black Sea Fleet) के कुछ परमाणु-सक्षम जहाजों और पनडुब्बियों के साथ‚ क्रीमिया प्रायद्वीप (Crimean peninsula) से परमाणु हथियार और वितरण प्रणाली वापस ले ली। 2014 के विलय के बाद‚ रूसी संघ ने फिर से प्रायद्वीप में परमाणु-सक्षम हथियारों को तैनात किया‚ जिसमें S-300 एंटी-एयरक्राफ्ट मिसाइल (S-300 antiaircraft missiles)‚ Tu-22M3 बैकफ़ायर बॉम्बर (Tu-22M3 Backfire bombers) और इस्कंदर-एम बैलिस्टिक मिसाइल (Iskander-M ballistic missiles) भी शामिल हैं। 2020 में एक यूक्रेनी राष्ट्रीय सुरक्षा और रक्षा परिषद (National Security and Defense Council of Ukraine (NSDC)) अधिकारी ने कहा कि रूस ने क्रास्नोकामियांका (Krasnokamianka) में सोवियत परमाणु-हथियार भंडारण सुविधा फियोदोसिया-13 (Feodosiia-13) पर काम किया था और बालाक्लावा (Balaklava) में एक परमाणु पनडुब्बी बेस में नई सुरंगें जोड़ी थीं।
15 अप्रैल 2021 को जर्मनी में‚ यूक्रेन के राजदूत एंड्री यारोस्लावोविच मेलनिक (Andriy Yaroslavovych Melnyk) ने देउत्स्चेंड़फूंक (Deutschlandfunk) रेडियो को बताया कि अगर यूक्रेन को एनएटीओ (NATO) का सदस्य बनने की अनुमति नहीं दी गई‚ तो उसके देश को अपनी रक्षा के लिए एक गैर-परमाणु हथियार राज्य के रूप में अपनी स्थिति पर पुनर्विचार करना पड़ सकता है। 1993 में अंतर्राष्ट्रीय संबंध सिद्धांतकार और शिकागो विश्वविद्यालय (University of Chicago) के प्रोफेसर जॉन मियरशाइमर (John Mearsheimer) ने अपनी भविष्यवाणी के साथ एक लेख प्रकाशित किया था जिसमें उन्होंने बिना किसी परमाणु निवारक के यूक्रेन पर रूस द्वारा आक्रमण किए जाने की संभावना के बारे में बताया था‚ लेकिन उस समय यह एक अल्पसंख्यक दृष्टिकोण था।

संदर्भ:
https://bit.ly/3tozBkd
https://bit.ly/37M0Mxg
https://bit.ly/3N2bZtP

चित्र सन्दर्भ
1. “परमाणु हथियारों के अप्रसार पर संधि” बैठक को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
2. परमाणु हथियारों के अप्रसार की संधि के उद्घाटन सत्र के दौरान प्रतिभागियों का एक सामान्य दृश्य। 23 अप्रैल 2017।, को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
3. अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (International Atomic Energy Agency (IAEA)) को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
4. परमाणु मिसाइल एसएस -18 शतान पूरी तरह से यूक्रेन में युज़माशो में डिजाइन और निर्मित है, जिसको दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
5. यूक्रेन के राष्ट्रपति को दर्शाता एक चित्रण (flickr)



***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • यूक्रेन युद्ध, भारत में कई जगह सूखा, बेमौसम बारिश,गर्मी की लहरों से उत्पन्न खाद्य मुद्रास्फीति
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:44 AM


  • हम लखनऊ वासियों को समझनी होगी प्रदूषण, अतिक्रमण से पीड़ित जल निकायों व नदियों की पीड़ा
    नदियाँ

     25-05-2022 08:16 AM


  • लखनऊ के हरित आवरण हेतु, स्थानीय स्वदेशी वृक्ष ही पारिस्थितिकी तंत्र के लिए सबसे उपयुक्त
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:37 AM


  • स्वास्थ्य सेवा व् प्रौद्योगिकी में माइक्रोचिप्स की बढ़ती वैश्विक मांग, क्या भारत बनेगा निर्माण केंद्र?
    खनिज

     23-05-2022 08:50 AM


  • सेलफिश की गति मछलियों में दर्ज की गई उच्चतम गति है
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:40 PM


  • बच्चों को खेल खेल में, दैनिक जीवन में गणित के महत्व को समझाने की जरूरत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:09 AM


  • भारत में जैविक कृषि आंदोलन व सिद्धांत का विकास, ब्रिटिश कृषि वैज्ञानिक अल्बर्ट हॉवर्ड द्वारा
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:03 AM


  • लखनऊ की वृद्धि के साथ हम निवासियों को नहीं भूलना है सकारात्मक पर्यावरणीय व्यवहार
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:47 AM


  • एक समय जब रेल सफर का मतलब था मिट्टी की सुगंध से भरी कुल्हड़ की स्वादिष्ट चाय
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:47 AM


  • उत्तर प्रदेश में बौद्ध तीर्थ स्थल और उनका महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:52 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id