Post Viewership from Post Date to 02-Apr-2022
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
1293 159 1452

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

भारत में कपास का उत्पादन और इससे जुड़ी चुनौतियां

लखनऊ

 28-03-2022 11:11 AM
पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

हम सभी इस तथ्य से भली भांति अवगत हैं की, मिट्टी की गुणवत्ता, जलवायु और मौसम की स्थिति, किसी भी फसल की पैदावार को प्रभावित करने वाले प्रमुख कारक होते हैं। लेकिन ऐसे बहुत कम लोग हैं, जो यह बात जानते हों की सरकार और बड़े उद्द्योगपतियों (industrialists) द्वारा तय की गई नीतियां भी किसी भी फसल के उत्पादन तथा बिक्री को, बड़े पैमाने पर प्रभावित करती हैं! भारत में वस्त्र उद्योग के अंतर्गत "कपास उद्योग (cotton industry)", भी इन नीतियों के कारण फसलों के उत्पादन पर पड़ने वाले प्रभाव को दर्शाने के लिए एक आदर्श उदाहरण है।
कपास एक खरीफ की फसल होती है, जिसका उपयोग बड़े पैमाने पर कपड़ा उद्योग में किया जाता है। इस खरीफ फसल को पकने में 6-8 महीनों का समय लगता हैं। कपास को अप्रैल-मई में बोया जाता है और दिसंबर-जनवरी में काटा जाता है। हालांकि विभिन्न क्षेत्रों में फसलों की कटाई और बुवाई का समय जलवायु परिस्थितियों के आधार पर भिन्न होता है। कपास के रोपण के लिए, इसे उच्च तापमान वाली मिट्टी की आवश्यकता होती है।
फाइबर की ताकत, लंबाई और संरचना के आधार पर, कपास तीन प्रकार की होती है। 1. लॉन्ग-स्टेपल कॉटन (Long-staple Cotton): अपने नाम के अनुरूप ही यह सबसे लंबा फाइबर होता है, जिसकी लंबाई 24 से 27 मिमी तक भिन्न होती है। यह रेशा लंबा, चमकीला और महीन होता है। यह फाइबर बेहतर और बढ़िया गुणवत्ता वाला कपड़ा उत्पादित करता है। लॉन्ग-स्टेपल कॉटन, भारत में सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला कॉटन है। लॉन्ग-स्टेपल कपास भारत में व्यापक रूप से उत्पादित होता है, जो कुल कपास उत्पादन का लगभग आधा हिस्सा है। 2. मध्यम प्रधान कपास (Medium staple cotton): मध्यम स्टेपल कपास में, फाइबर की लंबाई 20 मिमी से 24 मिमी के बीच होती है। कुल कपास उत्पादन का लगभग 44% मध्यम प्रधान होता है। भारत में इसके प्रमुख उत्पादक राज्य उत्तर प्रदेश, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, पंजाब, राजस्थान और महाराष्ट्र हैं। मध्यम स्टेपल भारत में दूसरा सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला फाइबर है, यह अच्छी गुणवत्ता वाले कपड़े प्रदान करता है। साथ ही यह किफायती कीमत पर उपलब्ध भी होता है। 3.शॉर्ट स्टेपल कॉटन (Short Staple Cotton): नाम के अनुरूप ही एक छोटा स्टेपल, सबसे छोटा फाइबर और अवर कपास (fiber and inferior cotton) होता है। शॉर्ट-स्टेपल कॉटन की लंबाई 20 मिमी से कम होती है। इससे कम कीमत पर कम अच्छा कपड़ा बनाया जाता है। शॉर्ट स्टेपल कपास कुल उत्पादन का लगभग 6% उत्पादन करता है। इस कपास के मुख्य उत्पादक एपी, यूपी, पंजाब और हरियाणा राज्य हैं। कपास का इतिहास 5000-6000 ईसा पूर्व का माना जाता है। मेक्सिको में लगभग 5000 ईसा पूर्व कपास के रेशे और बीजकोष के टुकड़े पाए गए थे। भारत और मिस्र में कपास का उपयोग 5000 वर्षों से किया जा रहा है। कपास भारत की सबसे महत्वपूर्ण फाइबर और नकदी फसल में से एक है, और देश की औद्योगिक और कृषि अर्थव्यवस्था में एक प्रमुख भूमिका निभाती है। भारत में कपास 6 मिलियन किसानों को प्रत्यक्ष आजीविका प्रदान करता है, और लगभग 40-50 मिलियन लोग कपास व्यापार और इसके प्रसंस्करण में कार्यरत हैं।
भारत में, कपास के दस प्रमुख उत्पादक राज्य हैं, जो तीन क्षेत्रों में विभाजित हैं। उत्तरी क्षेत्र में पंजाब, हरियाणा और राजस्थान शामिल हैं। मध्य क्षेत्र में मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और गुजरात शामिल हैं। दक्षिण क्षेत्र में आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक और तमिलनाडु शामिल हैं। इन राज्यों के अलावा, पूर्वी राज्य उड़ीसा में कपास की खेती ने गति पकड़ी है। कपास की खेती गैर-पारंपरिक राज्यों जैसे उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल और त्रिपुरा के छोटे क्षेत्रों में भी की जाती है। कपास की चार खेती की प्रजातियाँ हैं। गॉसिपियम आर्बोरियम, जी.हर्बेसम, जी.हिरसुटम और जी.बारबडेंस। पहली दो प्रजातियां द्विगुणित (diploid) (2n=26) हैं और प्राचीन दुनिया की मूल निवासी मानी जाती हैं। एशिया में उगाए जाने के कारण उन्हें एशियाई कपास के रूप में भी जाना जाता है। अंतिम दो प्रजातियां टेट्राप्लोइड (tetraploid) (2n=52) हैं। इन्हें न्यू वर्ल्ड कॉटन (New World cottons) भी कहा जाता है।
G.hirsutum को अमेरिकन कॉटन या अपलैंड कॉटन (American Cotton or Upland Cotton) और G.barbadense को इजिप्टियन कॉटन या सी आइलैंड कॉटन या पेरुवियन कॉटन या टैंगुश कॉटन या क्वालिटी कॉटन (Egyptian Cotton or Sea Island Cotton or Peruvian Cotton) के रूप में भी जाना जाता है। जी.हिरसुटम कपास की प्रमुख प्रजाति है, जो अकेले वैश्विक उत्पादन में लगभग 90% का योगदान देती है। भारत दुनिया का इकलौता ऐसा देश है, जहां इन सभी चार खेती की प्रजातियों को व्यावसायिक पैमाने पर उगाया जाता है।
भारत में कपास उद्योग को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार द्वारा वर्ष 2000 के दौरान कपास (TMC) पर प्रौद्योगिकी मिशन की एक केंद्र प्रायोजित योजना शुरू की गई। टीएमसी का मिनी मिशन-द्वितीय (एमएम-द्वितीय) कपास के उत्पादन और उत्पादकता को बढ़ाने के उद्देश्य से कपास के विकास पर केंद्रित था। कृषि, सहकारिता और किसान कल्याण विभाग (DAC&FW) द्वारा TMC के MM-II को 13 राज्यों, 2000- 01से 2013-14 तक आंध्र प्रदेश, गुजरात, हरियाणा, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, उड़ीसा, पंजाब, राजस्थान, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल और त्रिपुरा में लागू किया गया था। केंद्र और राज्य सरकारों के बीच घटकों के वित्त पोषण का बंटवारा अनुपातिक रूप से 75:25 तय किया गया था। तथापि, आईसीएआर/अन्य केंद्रीय एजेंसियों द्वारा कार्यान्वित कुछ घटकों में, 100 प्रतिशत हिस्सा केंद्र सरकार द्वारा वहन किया गया था। इस योजना के तहत, क्षेत्र प्रदर्शनों के माध्यम से प्रौद्योगिकियों के हस्तांतरण, किसानों और विस्तार कार्यकर्ताओं के प्रशिक्षण के साथ-साथ प्रमाणित बीज, फेरोमोन ट्रैप, बायो-एजेंट (pheromone traps, bio-agents) और पानी की बचत करने वाले उपकरणों जैसे स्प्रिंकलर और ड्रिप सिंचाई प्रणाली (Sprinkler and Drip Irrigation System) की आपूर्ति के लिए भी सहायता प्रदान की गई थी। 2014-15 से असम, आंध्र प्रदेश सहित 15 राज्यों में उत्पादन और उत्पादकता बढ़ाने के लिए राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन- वाणिज्यिक फसल (कपास) कार्यक्रम कार्यान्वित किया जा रहा है। इस योजना के तहत किसानों को लाभ पहुंचाने के लिए अग्रिम पंक्ति के प्रदर्शनों और प्रशिक्षण के माध्यम से प्रौद्योगिकी हस्तांतरण पर जोर दिया गया है।
2016-17 के दौरान कपास पर सफेद मक्खी की घटनाओं के प्रबंधन के लिए रणनीति केन्द्रीय कपास अनुसंधान संस्थान, क्षेत्रीय केन्द्र, सिरसा (हरियाणा) में दिनांक 8.2.2016 को आयोजित एक बैठक में कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार के अधिकारी, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) के वैज्ञानिक और कृषि विभाग, पंजाब, हरियाणा और राजस्थान के वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुए। इसमें फसल को सफेद मक्खी के प्रकोप से बचाने के लिए उठाए जाने वाले कदमों की समीक्षा की गई। बी। इन राज्यों को समय पर बुवाई, अनुशंसित बीजों का उपयोग, कीड़ों की निगरानी, ​​कीटनाशक स्प्रे शेड्यूल (Pesticide Spray Schedule) आदि सहित अन्य निर्देशों के साथ एक व्यापक सलाह भेजी गई।
आईसीएआर द्वारा कीट प्रतिरोधी किस्मों/संकरों की सिफारिश भी की गई है, ताकि इन राज्यों में किसानों को उचित सलाह दी जा सके। इन राज्यों को व्हाइटफ्लाई के प्रबंधन के लिए समय पर एडवाइजरी जारी की जा रही है। कपास में सफेद मक्खी की स्थिति की लगातार निगरानी करने और हितधारकों को इलेक्ट्रॉनिक, प्रिंट और मोबाइल प्लेटफॉर्म के माध्यम से सलाह का समय पर और नियमित प्रसार सुनिश्चित करने के लिए मंत्रालय में एक समिति का गठन किया गया है। इस बात में कोई संदेह नहीं है की, कपास सरकार सहित किसानों के लिए भी एक फायदेमंद फसल साबित हो रही है! लेकिन किसानों के लिए इसके उत्पादन से लेकर बिक्री और अच्छी कमाई करने तक की राह इतनी भी आसान नहीं हैं!
कपास की फसल मुख्य रूप से जल-गहन प्रकृति, उर्वरकों और कीटनाशकों का व्यापक उपयोग, अधिक फसल प्राप्त करने के लिए अधिक उर्वरक डालने की पारंपरिक मानसिकता और आनुवंशिक संशोधन कपास की खेती के संबंध में एक महत्वपूर्ण पर्यावरणीय चुनौती पेश करती हैं। भारत में कपास की खेती बहुत अधिक खपत करती है, लेकिन उत्पादन बहुत कम करती है।
कॉटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया (The Cotton Association of India (CAI) का अनुमान है कि 2018- 19 के दौरान भारत में कपास की प्रति हेक्टेयर उत्पादकता सिर्फ 420.72 किलोग्राम है, जो लगभग 2.47 गांठ प्रति हेक्टेयर है। इसका अर्थ है अधिक भूमि उपयोग, लेकिन किसानों के लिए कम आय। साथ ही ऐसी प्रथाएं जो बढ़ी हुई पैदावार के लिए अनुकूल नहीं हैं। विशेषज्ञों का मानना ​​है कि किसानों को स्वस्थ कपास प्रथाओं और उन्नत कृषि तकनीकों के बारे में जागरूक करना वर्तमान परिदृश्य को बदलने में महत्वपूर्ण कदम साबित हो सकता है। कपास अनुमानित 5.8 मिलियन किसानों की आजीविका का निर्वाह करती है, अन्य 40-50 मिलियन लोग कपास प्रसंस्करण और व्यापार जैसी संबंधित गतिविधियों में लगे हुए हैं। नागरिक समाज संगठन सेंटर फॉर सस्टेनेबल एग्रीकल्चर (the civil society organization Center for Sustainable Agriculture) के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर जी राजा शेखर के अनुसार "कई परिवारों, खासकर महिलाओं और बच्चों को अक्सर जीवित रहने के लिए शोषणकारी काम करने के लिए मजबूर किया जाता है।" "हमने कपास उगाने वाले क्षेत्रों में बढ़ते कर्ज के बोझ के कारण किसानों की आत्महत्याओं को भी देखा है।" छोटे उत्पादकों, श्रमिकों और अन्य कपास उगाने वाले समुदायों की व्यवहार्यता सुनिश्चित करने के लिए तत्काल प्रयासों की आवश्यकता है, ताकि किसान हताशा में अपनी जान न लेले!
इस चुनौती को पूरा करने में मदद करने के लिए, 2018 में, अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) ने कपास आपूर्ति श्रृंखला में काम पर मौलिक सिद्धांतों और अधिकारों को बढ़ावा देना शुरू किया गया। वैश्विक फैशन समूह कच्चे माल के उत्पादन में श्रम अधिकारों के संरक्षण के साथ-साथ श्रमिकों को इन प्रयासों के केंद्र में रखने पर भी उच्च प्राथमिकता देता है।

संदर्भ
https://bit.ly/3Lzk47N
https://bit.ly/3uOYt4v
https://bit.ly/3IJ4Lrd
https://bit.ly/3JO7OzB

चित्र संदर्भ

1. पंजाबी कपास के किसानों को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
2. लॉन्ग-स्टेपल कॉटन (Long-staple Cotton) को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
3. मध्यम प्रधान कपास (Medium staple cotton) को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
4. 3.शॉर्ट स्टेपल कॉटन (Short Staple Cotton) को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
5. 1790 के दशक में भारत में सूती और कपड़ा हस्तशिल्प गांव को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
6. कपास के पौधे पर लाल कीड़े को दर्शाता एक चित्रण (PixaHive)
7. कपास के खेतों में बच्चों को दर्शाता एक चित्रण (flickr)



***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • एक समय जब रेल सफर का मतलब था मिट्टी की सुगंध से भरी कुल्हड़ की स्वादिष्ट चाय
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:47 AM


  • उत्तर प्रदेश में बौद्ध तीर्थ स्थल और उनका महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:52 AM


  • देववाणी संस्कृत को आज भारत में एक से भी कम प्रतिशत आबादी बोल व् समझ सकती है
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:08 AM


  • बाढ़ नियंत्रण में कितने महत्वपूर्ण हैं, बीवर
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:36 PM


  • प्रारंभिक पारिस्थिति चेतावनी प्रणाली में नाजुक तितलियों का महत्व, लखनऊ में खुला बटरफ्लाई पार्क
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:09 AM


  • लखनऊ सहित विश्व में सबसे पुराने और शानदार स्विमिंग पूलों या स्नानागारों का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     13-05-2022 09:41 AM


  • भारत में बढ़ती गर्मी की लहरें बन रही है विशेष वैश्विक चिंता का कारण
    जलवायु व ऋतु

     11-05-2022 09:10 PM


  • लखनऊ में रहने वाले, भाड़े के फ़्रांसीसी सैनिक क्लाउड मार्टिन का दिलचस्प इतिहास
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     11-05-2022 12:11 PM


  • तेजी से उत्‍परिवर्तित होते वायरस एक गंभीर समस्‍या हो सकते हैं
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     10-05-2022 09:02 AM


  • 1947 से भारत में मेडिकल कॉलेज की सीटों में केवल 14 गुना वृद्धि, अब कोविड लाया बदलाव
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     09-05-2022 08:55 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id