85 संरक्षित भारतीय कछुओं को सुरक्षित रूप से लखनऊ के घड़ियाल बचाव केंद्र में छोड़ा गया

लखनऊ

 28-04-2022 08:58 AM
रेंगने वाले जीव

एक अवैध वन्यजीव व्यापार के लंबे समय से शिकार, 85 संरक्षित भारतीय कछुए सुरक्षित रूप से पुणे पशु कल्याण संगठन आर.ई.एस.क्यू चैरिटेबल ट्रस्ट (RESQ Charitable Trust) के साथ लखनऊ में घड़ियाल बचाव केंद्र, कुकरैल संरक्षित वन (मगरमच्छ, घड़ियाल और कछुयों का अभयारण्य) पहुंचे। यह इंदिरा नगर, लखनऊ के, रिंग रोड पर स्थित है।कुकरैल संरक्षित वन को 1950 के दशक में वृक्षारोपण वन के रूप में निर्माण किया गया था।भारत में मगरमच्छों की 3 मूल प्रजातियों में से एक, मीठे पानी के घड़ियाल (GavialisGangeticus) के लिए यह सुरक्षित प्रजनन और संरक्षण केंद्र है।यह भारत में ऐसे ही 3 मगरमच्छ प्रजनन केंद्रों में से एक है। यहां से उन्हें पुनः जंगल में छोड़ दिया जाएगा। इन कछुओं को पिछले कुछ वर्षों से महाराष्ट्र वन विभाग और ठाणे, पुणे और नासिक के कई संगठनों द्वारा बचाया गया था।85 कछुओं में ब्लैक स्पॉटेड पॉन्ड टर्टल (Black Spotted Pond Turtle), इंडियन रूफ टर्टल (Indian Roof Turtle), ट्रिकारिनेट हिल टर्टल (Tricarinate Hill Turtle) और इंडियन टेंट टर्टल (Indian Tent Turtle) शामिल थे। इंडियन टेंट टर्टल को छोड़कर, इन सभी को अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ द्वारा लुप्तप्राय माना हुआ है। वे वन्यजीव संरक्षण अधिनियम, 1972 की अनुसूची 1 के तहत भी संरक्षित हैं। ये कछुए गंगा नदी के घाटी में पाए जाते हैं और इसलिए उत्तर प्रदेश में उनके प्राकृतिक आवास में पुन: पेश किए जाने से पहले उन्हें संगरोध, पुनर्वास और स्थिर करना आवश्यक था।उत्तर प्रदेश वन विभाग के साथ डॉ शैलेंद्र सिंह और अरुणिमा सिंह के नेतृत्व में टर्टल सर्वाइवल एलायंस (Turtle Survival Alliance)के समूह द्वारा उन्हें उनके प्राकृतिक आवास में फिर से लाने की प्रक्रिया को सक्षम किया जाएगा। टर्टल सर्वाइवल एलायंस उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल, असम, नागालैंड और हाल ही में कर्नाटक सहित भारत के कई राज्यों में काम करता है। उन्होंने पिछले पांच वर्षों में 8000 से अधिक कछुओं को प्राकृतिक और सुरक्षित आवासों में सफलतापूर्वक पुन: पेश किया है। वाइल्डलाइफ ट्रेड मॉनिटरिंग नेटवर्क (Wildlife Trade Monitoring Network) के नवीनतम विश्लेषण में पाया गया है कि सितंबर 2009 और सितंबर 2019 के बीच भारत में कम से कम 1,11,312 कछुओं और मीठे पानी के कछुओं का अवैध रूप से व्यापार किया गया था। इसका मतलब यह होगा कि 2009 के बाद से हर साल 11,000 से अधिक व्यक्तिगत जानवर शिकारियों का शिकार हुए हैं। अवैध वन्यजीव व्यापार जैव विविधता की कमी का कारण बनता है। भारत में चेलोनियन (Chelonian) प्रजातियों की संख्या सबसे अधिक है, जो कछुओं को पालतू जानवरों के रूप में रखने की मांग के कारण अवैध व्यापार के लिए सबसे असुरक्षित समूहों में से एक है। भारत में टर्टलसर्वाइवल एलायंस गैर-समुद्री चीलोनियन, मगरमच्छ और सेटासीन (Cetaceans) के संरक्षण के लिए समर्पित है, और गंगा और ब्रह्मपुत्र नदी निकायों में देश भर में पांच क्षेत्र-आधारित परियोजनाओं के माध्यम से डब्ल्यूसीएस-इंडिया (WCS-India) के एक क्षेत्रीय कार्यक्रम के रूप में कार्य करता है। डब्ल्यूसीएस और टर्टल सर्वाइवल एलायंस समूह अवैध कछुओं के व्यापार को कम करने के लिए बाह्यस्थाने संरक्षण, और प्रवर्तन एजेंसियों (Agency) की क्षमता निर्माण सहित संरक्षण कार्यों के एक समूह को प्रभावी ढंग से संबोधित करने के लिए वन विभाग का समर्थन कर रही है।इस कार्यक्रम ने उत्तर प्रदेश वन और वन्यजीव विभाग के साथ मिलकर कुकरैल घड़ियाल पुनर्वास केंद्र, लखनऊ में लुप्तप्राय कछुओं जैसे क्राउन रिवर टर्टल (Crowned River Turtle), इंडियन नैरो-हेडेड सोफ्टशेल टर्टल (Indian Narrow-headed Softshell Turtle), इंडियन सोफ्टशेल टर्टल (Indian Softshell Turtle), चित्तीदार तालाब कछुआ (Spotted Pond Turtle) और लाल मुकुट वाला कछुआ (Red- crowned Roofed Turtle) के लिए संरक्षण प्रजनन कार्यक्रम स्थापित करने के लिए सहयोग किया है। कार्यक्रम की यह इकाई विशेष कार्य बल और वन विभाग का समर्थन करती है और राज्य में अवैध कछुओं के व्यापार की उच्च मात्रा से निपटने के लिए बचाए गए जानवरों के लिए उसी स्थान पर इलाज के माध्यम से, उन्हें संगरोध के लिए आवास और स्वस्थ जानवरों की रिहाई में सहायता करती है। इसके अतिरिक्त, परियोजना दल नदी की घाटी के किनारे स्थित स्कूलों के लिए जागरूकता और शिक्षा कार्यक्रम आयोजित करने में संलग्न है। इन कार्यक्रमों को बच्चों के लिए विशेष रूप से अनुकूलित गतिविधियों और पर्यावरण-विषय वाले खेलों के माध्यम से शिक्षकों को अपने नियमित स्कूल पाठ्यक्रम में संरक्षण सीखने में मदद करने के लिए रूपांकित किया गया है।

संदर्भ :-
https://bit.ly/3xWvi2l
https://bit.ly/37N8SWK
https://bit.ly/3KljhpC

चित्र संदर्भ
1  इंडियन रूफ टर्टल (Indian Roof Turtle), को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
2. कुकरैल संरक्षित वन (मगरमच्छ, घड़ियाल और कछुयों का अभयारण्य) को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. ब्रुकग्रीन गार्डन में रात के बगुले और कछुए को दर्शाता एक चित्रण (LOC's)
4. लाल मुकुट वाले कछुआ (Red- crowned Roofed Turtle) को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • यूक्रेन युद्ध, भारत में कई जगह सूखा, बेमौसम बारिश,गर्मी की लहरों से उत्पन्न खाद्य मुद्रास्फीति
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:44 AM


  • हम लखनऊ वासियों को समझनी होगी प्रदूषण, अतिक्रमण से पीड़ित जल निकायों व नदियों की पीड़ा
    नदियाँ

     25-05-2022 08:16 AM


  • लखनऊ के हरित आवरण हेतु, स्थानीय स्वदेशी वृक्ष ही पारिस्थितिकी तंत्र के लिए सबसे उपयुक्त
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:37 AM


  • स्वास्थ्य सेवा व् प्रौद्योगिकी में माइक्रोचिप्स की बढ़ती वैश्विक मांग, क्या भारत बनेगा निर्माण केंद्र?
    खनिज

     23-05-2022 08:50 AM


  • सेलफिश की गति मछलियों में दर्ज की गई उच्चतम गति है
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:40 PM


  • बच्चों को खेल खेल में, दैनिक जीवन में गणित के महत्व को समझाने की जरूरत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:09 AM


  • भारत में जैविक कृषि आंदोलन व सिद्धांत का विकास, ब्रिटिश कृषि वैज्ञानिक अल्बर्ट हॉवर्ड द्वारा
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:03 AM


  • लखनऊ की वृद्धि के साथ हम निवासियों को नहीं भूलना है सकारात्मक पर्यावरणीय व्यवहार
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:47 AM


  • एक समय जब रेल सफर का मतलब था मिट्टी की सुगंध से भरी कुल्हड़ की स्वादिष्ट चाय
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:47 AM


  • उत्तर प्रदेश में बौद्ध तीर्थ स्थल और उनका महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:52 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id