21वी सदी में भी लिंगभेद के कारण नौकरी करने वाली महिलाओं के लिए बढ़ती चुनौतियां

लखनऊ

 30-04-2022 07:55 AM
सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

लिंक्डइन ऑपर्च्युनिटी इंडेक्स 2021 (LinkedIn Opportunity Index 2021) के अनुसार, भारत में नौकरी करने वाली महिलाएं, विश्व स्तर पर अपने समकक्षों की तुलना में कोविड-19 (covid-19) महामारी से अधिक प्रभावित हुई हैं और एशिया-प्रशांत देशों (Asia-Pacific Countries) में महिलाएं सबसे ज्यादा मात्रा में लिंग भेदभाव से जूझ रही हैं तथा इसके साथ साथ पुरुषों की तुलना में समान वेतन और अवसर दोनों के लिए लड़ रही हैं।
भारत की 85% कामकाजी महिलाएं यह दावे के साथ कहती हैं कि वे औसतन 60% कार्य क्षेत्रों में अपने लिंग के कारण वेतन वृद्धि, पदोन्नति, या काम के प्रस्ताव से चूक जाती हैं। अपने आजीविका में आगे बढ़ने के अवसरों से नाखुश होने के कारणों के मामले में भारत में 22% नौकरी करने वाली महिलाओं ने कहा कि उनकी कंपनियां किसी भी कार्य को लेकर महिलाओं की तुलना में पुरुषों के प्रति अनुकूल भेदभाव दर्शाती हैं। एक रिपोर्ट द्वारा हमें यह भी पता चलता है कि पुरुषों और महिलाओं के लिए बाजार में उपलब्ध अवसरों की धारणा में भी काफी अंतर पाया जाता है। भारत की 37% कामकाजी महिलाओं का कहना है कि उन्हें किसी भी कार्य को करने के लिए पुरुषों की तुलना में कम अवसर दिए जाते हैं, जबकि केवल 25% पुरुष ही महिलाओं की इस बात से सहमत होते हैं। इसी प्रकार असमान वेतन प्राप्ति की इस असमानता पर भी बातचीत की जाए तो लिंग भेदभाव का एक और पहलू हमारे सामने आता है। महिलाओं का कहना है कि लिंगभेद के कारण समान कार्य को करने के लिए महिलाओं को पुरुषों की तुलना में कम वेतन दिया जाता है, लेकिन केवल 21% पुरुष ही महिलाओं की इस बात से सहमत होते हैं।
एक निरीक्षण के दौरान हमें यह पता चलता है कि 10 में से सात से अधिक कामकाजी महिलाओं और कामकाजी माताओं को लगता है कि पारिवारिक जिम्मेदारियों का प्रबंधन व्यवसाय के विकास के रास्ते में विरोध के रूप में आता है। इसी प्रकार भारत की लगभग दो-तिहाई कामकाजी महिलाओं और कामकाजी माताओं का कहना है कि उन्हें पारिवारिक और घरेलू जिम्मेदारियों के कारण काम पर भेदभाव का सामना करना पड़ता है। भारत में कामकाजी महिलाओं के लिए नौकरी की सुरक्षा महत्वपूर्ण है, लेकिन वे उस नियोक्ता को अधिक महत्व दे रही हैं, जिसके साथ वे काम करना चाहती हैं। महिलाएं सक्रिय रूप से ऐसे नियोक्ताओं की तलाश कर रही हैं जो उनके साथ बिना किसी भेदभाव के समान व्यवहार करें।
अपोलो हॉस्पिटल्स (Apollo Hospital) की संयुक्त प्रबंध निदेशक संगीता रेड्डी ने टाइम्स नेटवर्क के प्रमुख कार्यक्रम भारत आर्थिक सम्मेलन (India Economy Conclave) में "महिलाओं द्वारा भारत के विकास मिशन का नेतृत्व कैसे किया जाएगा" (How women will leads India's Growth Mission) विषय पर एक पैनल डिस्कशन में कहा किकार्यबल में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के लिए ज्ञान अर्थव्यवस्था सबसे बड़ी स्तर की होनी चाहिए। रेड्डी ने कहा, "सिर्फ एक जागरूकता की आवश्यकता है कि महिलाएं एक बड़ी अप्रयुक्त संसाधन हैं, और अगर हम भारत को 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाना चाहते हैं, तो यह लक्ष्य कार्यबल में केवल पुरुषों के अलावा महिलाओं की शक्ति को उजागर करने से ही पूर्ण होगा।"

संदर्भ:
https://bit.ly/38phSBk
https://bit.ly/3Mwf7wT
https://bit.ly/39lMgx0

चित्र संदर्भ
1  बेंगलुरु में गारमेंट फैक्ट्री में कीरन ड्रेक को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
2. महिला स्वास्थ कर्मी को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. महिला कर्मचारियों को दर्शाता एक चित्रण (PixaHive)



RECENT POST

  • यूक्रेन युद्ध, भारत में कई जगह सूखा, बेमौसम बारिश,गर्मी की लहरों से उत्पन्न खाद्य मुद्रास्फीति
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:44 AM


  • हम लखनऊ वासियों को समझनी होगी प्रदूषण, अतिक्रमण से पीड़ित जल निकायों व नदियों की पीड़ा
    नदियाँ

     25-05-2022 08:16 AM


  • लखनऊ के हरित आवरण हेतु, स्थानीय स्वदेशी वृक्ष ही पारिस्थितिकी तंत्र के लिए सबसे उपयुक्त
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:37 AM


  • स्वास्थ्य सेवा व् प्रौद्योगिकी में माइक्रोचिप्स की बढ़ती वैश्विक मांग, क्या भारत बनेगा निर्माण केंद्र?
    खनिज

     23-05-2022 08:50 AM


  • सेलफिश की गति मछलियों में दर्ज की गई उच्चतम गति है
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:40 PM


  • बच्चों को खेल खेल में, दैनिक जीवन में गणित के महत्व को समझाने की जरूरत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:09 AM


  • भारत में जैविक कृषि आंदोलन व सिद्धांत का विकास, ब्रिटिश कृषि वैज्ञानिक अल्बर्ट हॉवर्ड द्वारा
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:03 AM


  • लखनऊ की वृद्धि के साथ हम निवासियों को नहीं भूलना है सकारात्मक पर्यावरणीय व्यवहार
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:47 AM


  • एक समय जब रेल सफर का मतलब था मिट्टी की सुगंध से भरी कुल्हड़ की स्वादिष्ट चाय
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:47 AM


  • उत्तर प्रदेश में बौद्ध तीर्थ स्थल और उनका महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:52 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id