आज़ादी के पहले का साहित्य

लखनऊ

 11-01-2018 12:40 PM
ध्वनि 2- भाषायें

भारत की स्वतंत्रता की लड़ाई में सेनानियों के अलाँवा साहित्यकारों का भी एक बहुत बड़ा योगदान था। मुँशी प्रेमचन्द से लेकर दिनकर व यशपाल तक अपनी लेखनी से समाज में एक बड़ा बदलाव लाये। साहित्य का योगदान भारत की स्वतंत्रता की लडाई में अभूतपूर्व रहा है। प्रेमचन्द ने अपनी लेखनी से जिस प्रकार से समाज की कुरीतियों से अवगत कराया वह अत्यन्त रोचक व महत्वपूर्ण है, नमक का दरोगा जैसी कहानियों ने वास्तविकता में लोगों को सोचने व समझने पर विवश कर दिया। लखनऊ में रहते हुये यशपाल ने अंग्रेजी शासन के खिलाफ अपनी कलम की धार को तीव्रता दी। पंजाब केशरी से लेकर अन्य कई अखबारों ने स्वतंत्रता की लड़ाई को कलम के जरिये प्रस्तुत की। लेखनी ही एक वह साधन है जो बड़े से बड़े साम्राज्य को ढहाने का कार्य कर देती है। यह कार्य कई जगहों पर सिद्ध होते दिखा, अंग्रेजों नें इन लेखकों को कई बार लेखन कार्य से विमुख होने को कहा, जेल तक में भेजा पर कलम की धार को कभी कम ना किया जा सका। मैथिली शरण गुप्त की रचना भारत भारती ने भारत के अंदर की एकता व अखण्डता को और मज़बूती प्रदान की। लखनऊ में सन् 1936 में अखिल भारतीय प्रगतिशील लेखक संघ की स्थापना की गयी। इस संघ की स्थापना में ब्रितानी शासकों के प्रति एक रोष था। सभी ने स्वक्षन्द लेखन के लिये सबने अपनी आवाज़े बुलन्द की। विभिन्न लेखकों के अलावां स्वतंत्रता सेनानी राम प्रसाद बिस्मिल, भगत सिंह व अन्य कई वीर सपूतों ने भी साहित्य को अपनी आक्रोश से भरी कविताओं व लेखों से नवाज़ा। बला से हमको लटकाए अगर सरकार फांसी से, लटकते आए अक्सर पैकरे-ईसार फांसी से। लबे-दम भी न खोली ज़ालिमों ने हथकड़ी मेरी, तमन्ना थी कि करता मैं लिपटकर प्यार फांसी से। खुली है मुझको लेने के लिए आग़ोशे आज़ादी, ख़ुशी है, हो गया महबूब का दीदार फांसी से। कभी ओ बेख़बर तहरीके़-आज़ादी भी रुकती है? बढ़ा करती है उसकी तेज़ी-ए-रफ़्तार फांसी से। यहां तक सरफ़रोशाने-वतन बढ़ जाएंगे क़ातिल, कि लटकाने पड़ेंगे नित मुझे दो-चार फांसी से। राम प्रसाद बिस्मिल



RECENT POST

  • समस्त पक्षियों में सबसे विवेकी पक्षी होता है हम्सा
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     05-12-2020 07:24 AM


  • उपयोगी होने के साथ-साथ हानिकारक भी हैं, शैवाल
    शारीरिक

     04-12-2020 11:46 AM


  • कुपोषण एवं विकलांगता के मध्‍य संबंध
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     03-12-2020 01:59 PM


  • क्या भूकंप का पूर्वानुमान लगाया जा सकता है?
    पर्वत, चोटी व पठार

     02-12-2020 10:18 AM


  • मानव सभ्यता के विकास का महत्वपूर्ण काल है, नवपाषाण युग
    ठहरावः 2000 ईसापूर्व से 600 ईसापूर्व तक

     01-12-2020 10:22 AM


  • खट्टे-मीठे विशिष्ट स्वाद के कारण पूरे विश्व भर में लोकप्रिय है, संतरा
    साग-सब्जियाँ

     30-11-2020 09:24 AM


  • सोने-कांच की तस्वीरों में आज भी जीवित है, कुछ रोमन लोगों के चेहरे
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     29-11-2020 07:21 PM


  • कोरोना महामारी बनाम घरेलू किचन गार्डन
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     28-11-2020 09:06 AM


  • लखनऊ की परिष्कृत और उत्कृष्ट संस्कृति का महत्वपूर्ण हिस्सा है, इत्र निर्माण की कला
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     27-11-2020 08:39 AM


  • भारतीय कला पर हेलेनिस्टिक (Hellenistic) कला का प्रभाव
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     26-11-2020 09:20 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.