1947 से भारत में मेडिकल कॉलेज की सीटों में केवल 14 गुना वृद्धि, अब कोविड लाया बदलाव

लखनऊ

 09-05-2022 08:55 AM
आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

भारत वैश्विक शिक्षा उद्योग में एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है। भारत दुनिया में उच्च शिक्षा संस्थानों के सबसे बड़े संजाल में से एक है। 0-14 वर्ष के आयु वर्ग में भारत की लगभग 27% आबादी के साथ, भारत का शिक्षा क्षेत्र विकास के कई अवसर प्रदान करता है।वित्त वर्ष 2015 में भारत में शिक्षा क्षेत्र का मूल्य 117 बिलियन अमेरिकी डॉलर था और वित्त वर्ष 25 तक इसके 225 बिलियन अमेरिकी डॉलर तक पहुंचने की उम्मीद है।वित्त वर्ष 2010 में भारत में महाविद्यालयों की संख्या 42,343 तक पहुंच गई।वहीं 17 मई, 2021 तक,भारत में विश्वविद्यालयों की संख्या 981 थी।2021-22 में, फरवरी 2022 तक, भारत में कुल 8,997 एआईसीटीई (AICTE) अनुमोदित संस्थान हैं। इन 8,997 संस्थानों में से 3,627 स्नातक, 4,790 स्नातकोत्तर और 3,994 डिप्लोमा (Diploma) संस्थान थे।
भारत में 2019-20 में उच्च शिक्षा में 38.5 मिलियन छात्र नामांकित थे, जिसमें 19.6 मिलियन पुरुष और 18.9 मिलियन महिलाएँ थीं।वित्त वर्ष 2020 में, भारतीय उच्च शिक्षा में सकल नामांकन अनुपात 27.1% था।संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन की 'स्टेट ऑफ द एजुकेशन रिपोर्ट फॉर इंडिया 2021 (UNESCO State of the Education Report for India 2021)' के अनुसार, वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालयों में छात्र शिक्षक अनुपात समग्र स्कूल प्रणाली के 26:1 के मुकाबले 47:1 है।साथ ही भारत में ऑनलाइन (Online) शिक्षा बाजार के 2021-2025 के दौरान 2.28 बिलियन अमेरिकी डॉलर तक बढ़ने की उम्मीद है, जो लगभग 20% की चक्रवृद्धि वार्षिक वृद्धि दर से बढ़ रहा है। वहीं भारत में 2021 में बाजार में 19.02% की वृद्धि को देखा गया। भारत सरकार द्वारा कई कदम उठाए गए हैं जिनमें आईआईटी (IIT) और आईआईएम (IIM) को नए स्थानों पर खोलने के साथ-साथ अधिकांश सरकारी संस्थानों में शोधार्थियों के लिए शैक्षिक अनुदान आवंटित करना शामिल है। इसके अलावा, कई शैक्षिक संगठनों द्वारा शिक्षा के ऑनलाइन प्रणाली का तेजी से उपयोग किया जा रहा है, भारत में उच्च शिक्षा क्षेत्र आने वाले वर्षों में बड़े बदलाव और विकास के लिए तैयार है। भारतीय उच्च शिक्षाअब विश्व के 25% से अधिक विज्ञान और इंजीनियरिंग स्नातकों को पेश करती है।लेकिन, जब कोविड-19 (Covid-19) महामारी आई,तो भारत में हमारी आबादी के लिए डॉक्टरों और नर्सों की कमी को देखा गया, जो यह दर्शाता है कि शिक्षा की गुणवत्ता में अत्यधिक सुधार की आवश्यकता है क्योंकि भारत के आधे स्नातक बेरोजगार हैं।तो आइए भारतीय शिक्षा के लिए संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन की 2021 की रिपोर्ट पर दी गई 10 सिफारिशों पर एक नजर डालते हैं:
 सरकारी और निजी दोनों स्कूलों में शिक्षकों के रोजगार की शर्तों में सुधार करने की जरूरत है।
 पूर्वोत्तर राज्यों, ग्रामीण क्षेत्रों और 'आकांक्षी जिलों' में शिक्षकों की संख्या में वृद्धि और काम करने की स्थिति में सुधारकी जाने कि आवश्यकता है।
 शिक्षकों को अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ता के रूप में पहचानें।
 शारीरिक शिक्षा, संगीत, कला, व्यावसायिक शिक्षा, प्रारंभिक बचपन और विशेष शिक्षा शिक्षकों की संख्या में वृद्धि की जाएं।
 शिक्षकों की पेशेवर स्वायत्तता को महत्व दी जाएं।
 शिक्षकों के व्यवसाय के रास्ते बनाएं जाएं।
 सेवा पूर्व पेशेवर विकास का पुनर्गठन और पाठ्यचर्या और शैक्षणिक सुधार को मजबूत किया जाएं।
 अभ्यास के समुदायों का समर्थन करें।
 शिक्षकों को सार्थक आईसीटी (ICT) प्रशिक्षण प्रदान करें।
 पारस्परिक जवाब देही के आधार पर परामर्शी प्रक्रियाओं के माध्यम से शिक्षण शासन का विकास करना।
इस रिपोर्ट (Report) का सार नई दिल्ली में यूनेस्को कार्यालय के मार्गदर्शन में टाटा सामाजिक विज्ञान संस्थान, मुंबई में शोधकर्ताओं की एक विशेषज्ञ टीम द्वारा विकसित किया गया है।2020 में अपनाई गई राष्ट्रीय शिक्षा नीति, शिक्षकों को उनकी भर्ती, निरंतर व्यावसायिक विकास, अच्छे कार्य वातावरण और सेवा शर्तों के महत्व पर बल देते हुए, सीखने की प्रक्रिया में महत्वपूर्ण तत्वों के रूप में स्वीकार करती है।भारत में शिक्षकों की वर्तमान स्थिति के गहन विश्लेषण के साथ, सर्वोत्तम प्रथाओं पर प्रकाश डालते हुए, भारत के लिए यूनेस्को राज्य शिक्षा रिपोर्ट का उद्देश्य राष्ट्रीय शिक्षा नीति के कार्यान्वयन को बढ़ाने और शिक्षकों पर SDG 4 लक्ष्य 4c (Sustainable Development Goals) की प्राप्ति के लिए एक संकेत के रूप में कार्य करना है। रिपोर्ट में शिक्षकों के आईसीटी के अनुभव और शिक्षण पेशे पर कोविड-19 महामारी के प्रभाव को भी देखा गया है। वहीं कोविड-19 महामारी ने पेशे की केंद्रीयता और शिक्षण की गुणवत्ता के महत्व पर ध्यान आकर्षित किया है। वहीं नेशनल साइंस फाउंडेशन (National Science Foundation) की वार्षिक साइंस एंड इंजीनियरिंग इंडिकेटर 2018 रिपोर्ट की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत 2014 में दुनिया भर में प्रदान की जाने वाली विज्ञान और इंजीनियरिंग डिग्री में अनुमानित 7.5 मिलियन स्नातक का एक-चौथाई हिस्सा है।भारत ने 2014 में 7.5 मिलियन से अधिक सम्मानित विज्ञान और इंजीनियरिंग स्नातक स्तर की डिग्री का 25 प्रतिशत अर्जित किया, इसके बाद चीन (China -22 प्रतिशत), यूरोपीय संघ (European union -12 प्रतिशत) और अमेरिका (America -10 प्रतिशत) का स्थान है। चीन में प्रदान की जाने वाली सभी डिग्रियों में से लगभग आधी विज्ञान और इंजीनियरिंग क्षेत्रों में हैं।हालांकि अमेरिका, अनुसंधान और विकास में सबसे अधिक खर्च करने वालों में से के है और रिपोर्ट में कहा गया है कि विज्ञान और इंजीनियरिंग क्षेत्र में चीन की वृद्धि असाधारण गति से जारी है। अमेरिका, विज्ञान और प्रौद्योगिकी में वैश्विक रूप से अग्रणी है। वहीं हाल के अनुमानों के अनुसार, 2014 में, अमेरिका ने किसी भी देश से सबसे बड़ी संख्या में विज्ञान और इंजीनियरिंग चिकित्सक संबंधी डिग्री (40,000) प्रदान की, उसके बाद चीन (34,000), रूस (Russia -19,000), जर्मनी (Germany -15,000), यूनाइटेड किंगडम (United Kingdom - 14,000)और भारत (13,000) का स्थान है। रिपोर्ट में कहा गया है कि देश अनुसंधान के विभिन्न क्षेत्रों में भी विशेषज्ञ हैं, अमेरिका, यूरोपीय संघ और जापान चिकित्सा और जैविक विज्ञान में भारी प्रकाशन करते हैं, जबकि भारत और चीन इंजीनियरिंग पर ध्यान केंद्रित करते हैं।
साथ ही भारत में अमीर और गरीब के बीच की खाई को चौड़ा करने के लिए कुछ आलोचकों द्वारा आर्थिक सुधारों को दोषी ठहराया गया है। उन्होंने एक और विभाजन भी उत्पन्न कर दिया है: डॉक्टरों और इंजीनियरों के मध्य। 2011 की जनगणना के अनुसार, भारत में 60 से अधिक आयु वर्ग के प्रत्येक 100 इंजीनियरों के लिए 35 डॉक्टर हैं। युवा लोगों में डॉक्टर-इंजीनियर अनुपात घट रहा है और 20-24 वर्ष के आयु वर्ग के लिए संख्य 15.7 तक गिर गई है।आमतौर पर यह माना जाता है कि अधिक महिलाएं चिकित्सा का विकल्प चुनती हैं जबकि पुरुष इंजीनियरिंग के लिए जाते हैं। डेटा इसकी पुष्टि करता है क्योंकि सभी आयु समूहों में महिलाओं के लिए डॉक्टर-इंजीनियर अनुपात अधिक है। हालांकि, इस अनुपात में सबसे पुराने से सबसे कम उम्र के लोगों में गिरावट महिलाओं के बीच बहुत तेज रही है। वहीं 2001 की जनगणना में भी इंजीनियरों के पक्ष में अनुपात तिरछा था। और 2001 और 2011 की जनगणना के बीच यह अंतर और बढ़ गया। 2001 में, प्रति 100 इंजीनियरों पर 29.7 डॉक्टर थे, जो 2011 में गिरकर 20.7 हो गए।विवरण यह भी बताता है कि 1950 के दशक के बाद महिलाएं इंजीनियरिंग में करियर के लिए अधिक खुली थीं। 2001 की जनगणना में 60 से अधिक आयु वर्ग में इंजीनियरों की तुलना में महिला डॉक्टर अधिक थीं। डॉक्टर-इंजीनियर अनुपात में गिरावट क्या बताती है? मेडिकल कॉलेज की सीटों में वृद्धि इंजीनियरिंग कॉलेज की सीटों की संख्या में वृद्धि का एक अंश रही है।1985 में, भारत में इंजीनियरिंग कॉलेजों में 57,888 सीटों (1985 संख्याएं 1989 के इंडियन जर्नल ऑफ हिस्ट्री ऑफ साइंस में प्रकाशित एक पेपर से हैं) की पेशकश की गई थी। वहीं 2016-17 तक यह संख्या लगभग 27 गुना बढ़कर 1,553,711 (2016-17 की संख्या अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद की वेबसाइट से लिए गए हैं।) हो गई थी।
इसकी तुलना मेडिकल कॉलेजों में सीटों की संख्या से करें, तो मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (Medical Council of India) की वेबसाइट (Website) पर उपलब्ध आंकड़ों से पता चलता है कि वे 1985 में 19,745 से बढ़कर 2016 तक 52,205 हुए।दूसरे शब्दों में, भारत ने इन 31 वर्षों में अपने इंजीनियरिंग कॉलेजों में प्रति वर्ष 48,000 से अधिक सीटें जोड़ीं। मेडिकल कॉलेजों के लिए, वृद्धि प्रति वर्ष 1,000 से अधिक थी। वास्तव में, भारत में उपलब्ध मेडिकल कॉलेज की सीटों में आजादी के बाद से केवल 14 गुना ही वृद्धि हुई है।भारत में डॉक्टरों की कमी एक बड़ी समस्या है। विश्व स्वास्थ्य संगठन एक देश में प्रति हजार लोगों पर एक डॉक्टर की सिफारिश करता है। भारत के लिए नवीनतम आंकड़े इस सतह से नीचे हैं, और चीन और ब्राजील जैसे देशों के लिए बहुत पीछे हैं। इंजीनियरिंग स्नातकों की संख्या में तेजी से वृद्धि से पता चलता है कि भारत कोप्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अत्याधुनिक अनुसंधान में अपने साथियों से आगे होना चाहिए।यह भी सच नहीं लगता। विश्व बैंक के आंकड़े बताते हैं कि चीन और ब्राजील की तुलना में शोधकर्ताओं की संख्या बढ़ाने में भारत की प्रगति नगण्य रही है।

संदर्भ :-

https://bit.ly/3ykxgd7
https://bit.ly/3sep76f
https://bit.ly/39JrPKB
https://bit.ly/37reWUK

चित्र संदर्भ
1  सर्जरी सीखते मेडिकल के छात्रों को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
2. अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, भुवनेश्वर को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. एक सहायक डॉक्टर को दर्शाता एक चित्रण (Flickr)
4. मेडिकल की तैयारी करते छात्रों को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • एक समय जब रेल सफर का मतलब था मिट्टी की सुगंध से भरी कुल्हड़ की स्वादिष्ट चाय
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:47 AM


  • उत्तर प्रदेश में बौद्ध तीर्थ स्थल और उनका महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:52 AM


  • देववाणी संस्कृत को आज भारत में एक से भी कम प्रतिशत आबादी बोल व् समझ सकती है
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:08 AM


  • बाढ़ नियंत्रण में कितने महत्वपूर्ण हैं, बीवर
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:36 PM


  • प्रारंभिक पारिस्थिति चेतावनी प्रणाली में नाजुक तितलियों का महत्व, लखनऊ में खुला बटरफ्लाई पार्क
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:09 AM


  • लखनऊ सहित विश्व में सबसे पुराने और शानदार स्विमिंग पूलों या स्नानागारों का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     13-05-2022 09:41 AM


  • भारत में बढ़ती गर्मी की लहरें बन रही है विशेष वैश्विक चिंता का कारण
    जलवायु व ऋतु

     11-05-2022 09:10 PM


  • लखनऊ में रहने वाले, भाड़े के फ़्रांसीसी सैनिक क्लाउड मार्टिन का दिलचस्प इतिहास
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     11-05-2022 12:11 PM


  • तेजी से उत्‍परिवर्तित होते वायरस एक गंभीर समस्‍या हो सकते हैं
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     10-05-2022 09:02 AM


  • 1947 से भारत में मेडिकल कॉलेज की सीटों में केवल 14 गुना वृद्धि, अब कोविड लाया बदलाव
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     09-05-2022 08:55 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id