लखनऊ सहित विश्व में सबसे पुराने और शानदार स्विमिंग पूलों या स्नानागारों का इतिहास

लखनऊ

 13-05-2022 09:41 AM
य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

गर्मियों का मौसम शुरू होते ही, दुनियाभर में स्नानागारों या स्विमिंग पूल (swimming pool) की रौनक तथा जरूरत और अधिक बढ़ जाती है। हालांकि स्विमिंग पूल, सुनने के लिए एक नया और पश्चिमी शब्द लगता है, लेकिन हमारी भारतीय संस्कृति में सस्नानागारों की एक बेहद प्राचीन संस्कृति रही है, जिसकी जड़ें हमें कई प्राचीन भारतीय मंदिरों से लेकर मोहनजोदाड़ो साइटों में भी देखने को मिलती हैं!
स्विमिंग पूल, स्विमिंग बाथ, वेडिंग पूल, पैडलिंग पूल (Swimming Pool, Swimming Bath, Wading Pool, Paddling Pool), या स्नानागार, पानी इकठ्ठा करने के लिए डिज़ाइन की गई, एक मानव निर्मित संरचना होती है जिसे तैराकी या अन्य अवकाश गतिविधियों का मजा लेने हेतु तैयार किया जाता है। पूल को जमीन पर (इन-ग्राउंड पूल "in-ground pool") या जमीन के ऊपर भी ( फ्रीस्टैंडिंग निर्माण के रूप में या किसी भवन या अन्य बड़े ढांचे के हिस्से के रूप में), बनाया जा सकता है। साथ ही इसे समुद्र-लाइनर्स और क्रूज जहाजों पर भी देखा जा सकता है। इन-ग्राउंड पूल आमतौर पर कंक्रीट, प्राकृतिक पत्थर, धातु, प्लास्टिक, या फाइबरग्लास (Fiberglass) जैसी सामग्रियों से निर्मित होते हैं, और किसी भी आकार के हो सकते हैं। कई स्वास्थ्य क्लबों, फिटनेस सेंटरों और निजी क्लबों में पूल का उपयोग ज्यादातर व्यायाम या मनोरंजन के लिए किया जाता है। कई हाई स्कूल और विश्वविद्यालयों जैसी शैक्षिक सुविधाओं में कभी- कभी शारीरिक शिक्षा कक्षाओं, मनोरंजक गतिविधियों, अवकाश और प्रतिस्पर्धी एथलेटिक्स जैसे तैराकी टीमों के लिए भी पूल का प्रयोग किया जाता है।
विश्व में सबसे अधिक पुराना स्विमिंग पूल संभावित रूप से भारत-पाकिस्तान में मोहनजोदारो की साइट पर "ग्रेट बाथ (great bath)" को माना जाता है, जिसे तीसरी सहस्राब्दी ईसा पूर्व के दौरान खोदा गया था। यह पूल 12 गुणा 7 मीटर (39 गुणा 23 फीट), लंबा और चौड़ा है। इसके अवशेष पाकिस्तान के 'मोहनजोदड़ो' के सिंधु घाटी क्षेत्र की पुरानी सभ्यता की सबसे प्रसिद्ध प्राचीन संरचनाओं में से हैं। पुरातत्वविदों के अनुसार, इसकी संरचना लगभग 5000 साल पहले की है। इसे व्यापक रूप से पूर्व-आधुनिक दुनिया में सबसे पुराना सार्वजनिक पूल या जलाशय माना जाता है।
इसका निर्माण मुख्य रूप से महीन ईंटों का उपयोग करके किया गया था। गढ़ तक पहुँचने के लिए दो चौड़ी सीढ़ियों का उपयोग किया गया था, जिसमें से एक उत्तर की ओर थी जबकि दूसरी दक्षिणी ओर थी। सीढ़ियों के अंत में 4.5 फुट का टीला है, जबकि एक छोर पर एक छेद था जो स्नान में पानी निकालने के उद्देश्य से काम कर सकता था। स्नान में जो पानी इस्तेमाल किया जाता था वह पास के एक कमरे में एक बड़े कुएं से आता था। हालांकि सबूत बताते हैं कि इस उद्देश्य के लिए वर्षा जल भी एकत्र किया गया हो सकता है। स्नान को जलरोधक रखने के लिए फर्श एक आरी की ईंट से बनाया गया था जिसे जिप्सम (Gypsum) से बने विशेष मोर्टार का उपयोग करके सेट किया गया था। दीवारों पर प्लास्टर का उपयोग करके किनारों पर मिट्टी भी डाली गई थी। पूल के किनारों पर, विशेष रूप से उत्तरी, पूर्वी और दक्षिणी छोर पर, खिड़की के फ्रेम वाले बड़े स्तंभ थे। मोहनजोदड़ो के महान स्नानागार में कुछ धार्मिक कार्य भी हो सकते थे और संभवत: इसका प्रयोग इसमें स्नान करने वालों के स्वास्थ्य को नवीनीकृत करने के लिए किया जा सकता था। स्नानागार से बगल की गली में एक विशाल इमारत है जिसमें कई कमरे, बरामदे और दोनों तरफ सीढ़ियों की एक श्रृंखला है, जो छत और शीर्ष मंजिल तक जाती है। स्नान की प्रकृति और कार्य को देखते हुए, कहा जाता है कि यह इमारत उन पुजारियों का निवास स्थान था, जो महान स्नान में अनुष्ठानों की देखरेख करने के लिए वहां मौजूद थे। इसलिए, इसे पुजारियों के प्रशिक्षण स्थल के रूप में जाना जाता था। यह संरचना दक्षिण एशिया में यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल के रूप में सूचीबद्ध होने वाली सबसे शुरुआती साइटों में से एक बन गई।
ऐसा माना जाता है कि मोहनजो-दारो को 1900 ईसा पूर्व में छोड़ दिया गया था, उस समय जब सिंधु घाटी में सभ्यता तेजी से घटने लगी थी। हालांकि, कोई नहीं जानता कि सिंधु घाटी सभ्यता का अंत किस कारण हुआ। सबसे पुराने स्नानागारों में दूसरे नंबर पर कुट्टम पोकुना स्नान टैंक (Kuttam Pokuna bathing tanks) या पूल की एक जोड़ी है, जिसका उपयोग प्राचीन श्रीलंका में किया जाता था। पूल का निर्माण सिंहली द्वारा अनुराधापुरा के पुराने साम्राज्य में किया गया था और इसे हाइड्रोलॉजिकल इंजीनियरिंग (hydrological engineering) के साथ-साथ सिंहली के उत्कृष्ट कलात्मक कार्य में एक बड़ी उपलब्धि माना जाता था। यहां 18.5 फीट लंबा बगीचा दोनों पूलों को अलग करता है। पूल के चारों ओर एक दीवार बनाई गई है, जबकि पूल दोनों सिरों पर सीढ़ियों से सुसज्जित है।
विश्व के अधिकांश सबसे पुराने स्विमिंग पूल अच्छी तरह से बनाए गए हैं, और आज भी उपयोग में हैं। स्नानागारों को आधुनिक मानक में अपग्रेड करने के लिए कई नवीनीकरण और पुनर्निर्माण हुए हैं। तीन सबसे पुराने पूल, ग्रेट बाथ, कुट्टम पोकुना और रोमन पूल, आज स्मारकों के रूप में संरक्षित हैं और आम उपयोग के लिए खुले नहीं हैं, लेकिन जनता द्वारा उन तक पहुँचा जा सकता है। माना जाता है कि सभ्यता से पहले बनाए गए कुछ अनिर्दिष्ट पूल पृथ्वी के नीचे दबे हुए थे।
यदि हम हमारे शहर के सबसे पुराने स्नानागारों की बात करें तो 1962 में लखनऊ में पहला स्विमिंग पूल, ला मार्टिनियर गर्ल्स हाई स्कूल (La Martiniere Girls' High School) में देखा गया था। इसके बाद पहली इंटर मार्टिनियर कलकत्ता बनाम लखनऊ तैराकी प्रतियोगिता 1962 में यही आयोजित की गई थी। 1992 में पूल को टाइल किया गया था और उसी वर्ष फिल्टर प्लांट जोड़ा गया था। इस पूल के साथ ही सबसे प्रसिद्ध सबसे पुराने और सबसे बड़े प्रतिष्ठानों में से एक कॉल्विन तालुकदार (Colvin Talukdar Swimming Pool) लखनऊ में स्थित स्विमिंग पूल उत्तरी भारत में सबसे बड़े और अच्छी तरह से बनाए हुए पूलों में से एक है, इतना ही नहीं यह राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं और तैरने के लिए भी उपयुक्त है। कोल्विन अपनी खेल सुविधा पर गर्व करता है और विद्वानों को प्रशिक्षण देने और उन्हें विभिन्न खेलों में कुशल बनाने में बहुत सतर्क है।
इसके अलावा यदि आप लखनऊ में तैराकी सीखनेके स्थानों की तलाश कर रहे हैं तो इसकी सूची निम्नवत दी जा रही है:-
1. मोती महल स्विमिंग पूल:- यह क्विजर बाग क्षेत्र में मोती महल रोड पर स्थित है।
2. हजरतगंज स्विमिंग पूल:- यह हजरतगंज क्षेत्र में मोती महल रोड पर स्थित है।
3. बबल स्विमिंग पूल:- यह रामधीन सिंह गर्ल्स डिग्री कॉलेज बाबूगंज क्षेत्र के पास बाबूगंज सोसायटी में स्थितहै।
4.RDSO स्विमिंग पूल:- यह रामप्रसाद खेरा आलमबाग पर स्थित है।
5. विनीत खंड स्विमिंग पूल:- यह गोमती नगर में विनीत खंड 6 पर स्थित है।
6. चिलवां स्विमिंग पूल सेंटर:- यह अमौसी क्षेत्र में स्थित है।
7. प्रीमियम पूल सोसायटी:- यह 34, चुर रोड अलीगंज क्षेत्र में स्थित है।

संदर्भ
https://bit.ly/3MeRKIn
https://bit.ly/3PhkH8r
https://bit.ly/3yFl2f8
https://bit.ly/3w6YT7S
https://bit.ly/3Nezuix
https://bit.ly/3PhwVhd

चित्र संदर्भ

1.विश्व में सबसे अधिक पुराना स्विमिंग पूल संभावित रूप से भारत-पाकिस्तान में मोहनजोदारो की साइट पर "ग्रेट बाथ (great bath)" को माना जाता है, को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
2. बिल्डिंग की छत पर स्विमिंग पूल को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. मोहनजोदारो की साइट पर "ग्रेट बाथ (great bath)" को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
4. इंग्लैंड में प्राचीन रोमन स्नानागार को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
5. ला मार्टिनियर कॉलेज को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • एक समय जब रेल सफर का मतलब था मिट्टी की सुगंध से भरी कुल्हड़ की स्वादिष्ट चाय
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:47 AM


  • उत्तर प्रदेश में बौद्ध तीर्थ स्थल और उनका महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:52 AM


  • देववाणी संस्कृत को आज भारत में एक से भी कम प्रतिशत आबादी बोल व् समझ सकती है
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:08 AM


  • बाढ़ नियंत्रण में कितने महत्वपूर्ण हैं, बीवर
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:36 PM


  • प्रारंभिक पारिस्थिति चेतावनी प्रणाली में नाजुक तितलियों का महत्व, लखनऊ में खुला बटरफ्लाई पार्क
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:09 AM


  • लखनऊ सहित विश्व में सबसे पुराने और शानदार स्विमिंग पूलों या स्नानागारों का इतिहास
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     13-05-2022 09:41 AM


  • भारत में बढ़ती गर्मी की लहरें बन रही है विशेष वैश्विक चिंता का कारण
    जलवायु व ऋतु

     11-05-2022 09:10 PM


  • लखनऊ में रहने वाले, भाड़े के फ़्रांसीसी सैनिक क्लाउड मार्टिन का दिलचस्प इतिहास
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     11-05-2022 12:11 PM


  • तेजी से उत्‍परिवर्तित होते वायरस एक गंभीर समस्‍या हो सकते हैं
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     10-05-2022 09:02 AM


  • 1947 से भारत में मेडिकल कॉलेज की सीटों में केवल 14 गुना वृद्धि, अब कोविड लाया बदलाव
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     09-05-2022 08:55 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id