उत्तर प्रदेश में बौद्ध तीर्थ स्थल और उनका महत्व

लखनऊ

 17-05-2022 09:52 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

प्रतिवर्ष बैसाख माह की पूर्णिमा के दिन गौतम बुद्ध के जन्मदिन को बुद्ध पूर्णिमा या वैसाखी बुद्ध पूर्णिमा या वेसाक के रूप में मनाया जाता है।हिंदू पंचांग के अनुसार, बुद्ध जयंती वैशाख (जो आमतौर पर अप्रैल या मई में पड़ती है) के महीने में पूर्णिमा के दिन आती है।इस वर्ष भगवान बुद्ध की 2584वीं जयंती है। यह वास्तव में एशियाई चंद्र-सौर पंचांग पर आधारित होता है, जिस वजह से ही प्रत्येक वर्ष बुद्ध पूर्णिमा की तारीखें बदलती रहती हैं। भगवान बुद्ध का जन्म 563 ईसा पूर्व में लुंबिनी (वर्तमान में नेपाल) में पूर्णिमा तिथि पर राजकुमार सिद्धार्थ गौतम के रूप में हुआ था।भगवान बुद्ध ने पूरी दुनिया को करुणा और सहिष्णुता के मार्ग के लिए प्रेरित किया और यह दिन मानवता औऱ सभी जीवों के सम्मान पर केंद्रित है। वहीं भारत में बौद्ध धर्म से जुड़ी कई प्राचीनविरासत, जैसे अलौकिक मंदिर, स्तूप और स्थल दुनिया भर से बौद्ध अनुयायियों को अपनी ओर आकर्षित करती है।
ऐसे ही उत्तर प्रदेश में उपस्थित बौद्ध अभिप्राय के स्थलों से राज्य अभिव्यंजकता पूर्वक गौरवान्वित महसूस करता है। राज्य ने बुद्ध के जीवन की दो महत्वपूर्ण घटनाओं को देखा - सारनाथ में उनका पहला उपदेश और कुशीनगर में महापरिनिर्वाण की उनकी प्राप्ति। इसके अलावा, बुद्ध ने इस राज्य में अध्यापन और उपदेश देने के लिए बड़े पैमाने पर यात्रा की। इस प्रकार, उत्तर प्रदेश में बौद्ध धर्म कीमजबूत जड़ें और प्रख्यात धार्मिक महत्व इसे दुनिया में एक महत्वपूर्ण बौद्ध तीर्थस्थल बनाने में योगदान देता है।उत्तर प्रदेश में कुल 6 बौद्ध धार्मिक स्थल हैं जो अत्यंत महत्वपूर्ण हैं। कौशाम्बी, संकिसा, कुशीनगर और श्रावस्ती अन्य 4 तीर्थ स्थान हैं।इन बौद्ध तीर्थों में से प्रत्येक में पुरातात्विक खंडहर, कलाकृतियाँ और स्तंभ हैं जो या तो बुद्ध के समय के हैं या उस समय के हैं जब भारत में यह धर्म फल-फूल रहा था। यह भक्तों और पर्यटकों को एक आध्यात्मिक यात्रा के साथ-साथ एक विस्तृत इतिहास यात्रा का आनंद लेने का अवसर प्रदान करता है। धर्म और अध्यात्म में तीर्थ यात्रा एक लंबी यात्रा या महान नैतिक महत्व की खोज के लिए की जाती है। कभी-कभी, यह किसी व्यक्ति की आस्था और विश्वास के लिए किसी पवित्र स्थान या तीर्थस्थान की यात्रा होती है। प्रत्येक प्रमुख धर्म के सदस्य तीर्थयात्रा में भाग लेते हैं। ऐसी यात्रा करने वाले व्यक्ति को तीर्थयात्री कहा जाता है।तीर्थयात्राओं का सामाजिक महत्व समझने के लिए पहले तीर्थ यात्रा पर टर्नर कीथीसिस की एक सामाजिक प्रक्रिया को समझते हैं, जिसमें वे तीर्थों में समुदायों और उनके सीमांत चरित्र पर जोर डालते हैं। उन्होंने बताया कि कैसे तीर्थयात्रा सामाजिक जीवन के विभिन्न पहलुओं, अथार्थ सामाजिक और सांस्कृतिक एकीकरण, शिक्षा, आर्थिक, राजनीतिक और अन्य प्रकार की गतिविधियों से संबंधित है। विक्टर डब्ल्यू टर्नर (Victor W. Turner) का मानना है कि तीर्थयात्रा में पारित होने के रीति का उत्कृष्ट तीन चरण रूप है:
i. पृथक्करण,
ii. सांक्रांतिक चरण यानि जिसमें स्वयं यात्रा, पवित्र स्थल में ठहरना, और पवित्र सत्ता के साथ संपर्क होता है, और
iii. पुनः एकत्रीकरण यानि घर वापसी।
इस संदर्भ में टर्नर ने सामाजिक अनुभव की दो विशेषताओं पर ध्यान देने का आग्रह किया है (i) संरचना की विशेषता, और (ii) बिरादरी की विशेषता। संरचना में लोग (ए) सामाजिक भूमिका से भिन्न होते हैं और (बी) स्थिति और अक्सर पदानुक्रमित राजनीतिक व्यवस्था में जुड़े होते हैं।दूसरी ओर, बिरादरी खुद को समान के एक अविभाज्य समुदाय में प्रस्तुत करता है जो एक दूसरे को तत्काल और समग्र रूप से पहचान सकते हैं।
जहां सामाजिक संरचना नहीं है वहां बिरादरी उभरती है और आवश्यक एकता के बंधनों की पुष्टि करती है जिस पर सामाजिक व्यवस्था अंततः टिकी हुई है।तीर्थस्थल के लिए घर से प्रस्थान और वहां से परिचित दुनिया में लौटने के बीच की गतिविधियों के बीच की अवधि और प्रवाह को सीमांतता (समुदायों के संबंध और समुदायों की इष्टतम व्यवस्था, समतल और समान, कुल के बीच एक सहज रूप से उत्पन्न संबंध) द्वारा चिह्नित किया गया है।सीमांतता और समुदाय विरोधी संरचना का गठन करते हैं। विरोधी संरचना सभी संरचनाओं और उनकी आलोचना का स्रोत और उत्पत्ति है। तीर्थयात्रा की स्थिति में समुदायों का लोकाचार सामाजिक बंधन में दिखाई देता है जो तीर्थयात्रियों के बीच विकसित होता है और जो उन्हें एक समूह में जोड़ता है।तीर्थयात्रियों के समूह के सदस्यों और समाज के बीच संबंध सामाजिक विभाजनों में कटे हुए हैं।इसलिए, निवास स्थान के उच्च व्यवस्थित और संरचित गतिहीन जीवन की तुलना में तीर्थयात्रा को संरचना-विरोधी के रूप में नामित किया गया है।लोगों के सामाजिक और सांस्कृतिक एकीकरण में तीर्थयात्राओं के योगदान को तीन स्तरों पर निम्न प्रकार से देखा जा सकता है:
i. पहला, तीर्थयात्रा समूह की सीमाओं को पार करते हुए राष्ट्रीय या क्षेत्रीय एकीकरण को बढ़ावा देती है।
ii. तीर्थयात्रियों के समूह द्वारा धारण किए गए मूल्यों और आदर्शों को बनाए रखने और मजबूत करने में तीर्थयात्रा का प्रभाव तीर्थयात्रियों के समूह पर पड़ता है।
iii. कई मामलों में तीर्थयात्रा तीर्थयात्रियों को आकर्षित करने वाले क्षेत्र के भीतर सामाजिक संबंधों के मौजूदा स्वरूप को सुदृढ़ करने का कार्य करती है।
तीर्थयात्रा भारतीय लोगों की आवश्यक एकता के विचार का एक बहुत ही महत्वपूर्ण वाहन रहा है।तीर्थयात्रा के प्रसिद्ध केंद्र देश के हर हिस्से में स्थित हैं। बहुत समय पहले जब संचार और परिवहन के साधन बहुत खराब थे, तीर्थयात्री कभी-कभी भयंकर जानवरों और डकैतों से भरे क्षेत्रों में सैकड़ों मील पैदल चलकर बीमारी और अभाव का सामना करते थे।भव्य तीर्थयात्रा भारत के क्षेत्र की प्रदक्षिणा या दक्षिणावर्त परिक्रमा थी।
बनारस जैसे पवित्र केंद्र में कई तरह के लोग और संस्कृति के कई स्थानीय और क्षेत्रीय तत्वों को एक छोटी सी जगह में जोड़ा और व्यवस्थित किया जाता है।तीर्थयात्रा तीर्थयात्रियों के लिए शिक्षा, सूचना और सांस्कृतिक जागरूकता के महत्वपूर्ण स्रोतों में से एक रहा है।उदाहरण के लिए, हिंदू तीर्थयात्रा दूर-दराज के गांवों में रहने वाले लोगों को भारत को समग्र रूप से जानने का अवसर प्रदान करती है और साथ ही उसके अलग-अलग तरीकों, जीवन शैली और रीति-रिवाजों को भी।नृत्य और संगीत, वास्तुकला, मूर्तिकला और चित्रकला को तीर्थयात्रा के माध्यम से प्रोत्साहन और प्रसारण मिलता है। हिंदू और जैन तीर्थों के कई मंदिर अपनी कलात्मक सुंदरता और ईंट और पत्थर में दर्शन के लिए प्रसिद्ध हैं। मंदिर की पूजा ने मूर्तिकला और चित्रकला, और संगीत और नृत्य के महान विकास और बाद के शोधन में योगदान दिया।तीर्थयात्रा के मार्गों पर तीर्थयात्रियों के बीच विचारों और सामानों के आदान-प्रदान के माध्यम से भौतिक संस्कृति के प्रसार में तीर्थयात्रियों की भूमिका अहम होती है। इसके अलावा, अस्थायी आश्रय, भोजन, पूजा के लिए सामान, मनोरंजन के कई रूप एक साइड-बिजनेस गतिविधि के रूप में लोगों को लाभ पहुंचाता है।विभिन्न जनजातियों, समुदायों और इलाकों के लोगों की संख्या का एक सामान्य उद्देश्य, अर्थात् तीर्थयात्रा का उद्देश्य, से घनिष्ठ संबंध राजनीतिक एकता के विकास और राजनीतिक सत्ता की स्थिरता के लिए आधार प्रदान करता है।
भारत में कई ऐतिहासिक बौद्ध तीर्थ स्थल मौजूद हैं। जिसमें उत्तर प्रदेश भारत के पूर्वोत्तर भाग में राप्ती नदी के पास, नेपाली सीमा के करीब मौजूद श्रावस्ती (श्रावस्ती प्राचीन भारत में कोसल साम्राज्य की राजधानी थी और यहीं बुद्ध ने प्रबोधन के बाद अपना सबसे अधिक समय बिताया था।) है।श्रावस्ती के महेत के अंदर स्थितकच्ची कुटी महत्वपूर्ण उत्खनन संरचनाओं में से एक है और महेत क्षेत्र में स्थित दो टीलों में से एक है।कुछ विद्वानों द्वारा इस स्थल को ब्राह्मणवादी मंदिर से संबंधित माना गया है, जबकि विद्वानों के एक अन्य समूहउद्धृत करते हैं कि कुछ चीनी तीर्थयात्री फाह्यान (Fa-hien) और ह्वेन त्सांग (Hiuen Tsang) इस स्थल को सुदत्त के स्तूप (अनाथपिंडिका) से जोड़ते हैं।यह दूसरी शताब्दी ईस्वी से 12वीं शताब्दी ईस्वी तक विभिन्न अवधियों के संरचनात्मक अवशेषों का प्रतिनिधित्व करता है। संरचना की विभिन्न परतें इसकी पहचान को समझने के कार्य को जटिल बना देतीहै।दृष्टिगत ढ़ाचों की प्रकृति और स्थल पर पाये गये प्राचीन वस्तुओं से यह प्रतीत होता है कि कुषाण काल के बौद्ध स्तूप के ऊपर गुप्त काल का मंदिर बाद में बनाया गया। इस संरचना को शहर के द्वार से जोड़ने वाले मार्ग को नौशहर और कांदभरी द्वार के रूप में जाना जाता है।
वाराणसी के पास सारनाथ का सबसे उल्लेखनीय स्मारक धमेक स्तूप देश में स्थित बौद्ध धर्म के महत्वपूर्ण स्मारकों में से एक है। महान मौर्य सम्राट अशोक ने 249 ई. पू. में इसी स्थान पर स्मारक बनाने के निर्देश दिए थे और धमेक स्तूप 500 ई. पू. में बनकर तैयार हुआ था। इसके पास ही अशोक की लाट स्थित है। धामेक स्तूप ऋषिपत्तन का प्रतिनिधित्व करता है। इस उद्यान का बौद्ध धर्म में खास महत्व है। कहते हैं कि ज्ञान प्राप्त करने के बाद भगवान बुद्ध ने यहीं पर अपना पहला प्रवचन दिया था। भगवान बुद्ध के निधन के बाद, उनके अवशेषों को 8 टीले और 2 अन्य टीले सहित 10 स्थानों पर दफनाया गया था, जहां राख को कलश और अंगारे में दफनाया गया था। इन 10 स्थानों पर बुद्ध के अवशेष रखकर इन पर स्मारक बनाए गए थे।यद्यपि उचित जानकारी के अभाव में सभी दस मूल टीलों की पहचान करना कठिन है। हालांकि, सांची के साथ सारनाथ प्रारंभिक टीलों का विस्तार प्रतीत होता है।यह स्तूप 43.6 मीटर ऊंचा है एवं 28 मीटर चौड़ा है तथा यह आंशिक रूप से मिट्टी एवं ईंटों से बना हुआ है। इस स्तूप का निचला हिस्सा गुप्त मूल के पुष्पों की नक्काशी से सजा हुआ है।इस ऐतिहासिक वास्तुकला की एक अन्य मुख्य विशेषता ब्राह्मी लिपि में शिलालेख हैं। धमेक स्तूप में शानदार ढंग से नक्काशीदार मानव और पक्षियों की आकृतियाँ भी देखी जा सकती हैं।

संदर्भ :-
https://bit.ly/3sDBZTt
https://bit.ly/3Pmu4DS
https://bit.ly/3sBrEYe
https://bit.ly/3Lft4hB
https://bit.ly/3sCax8Q

चित्र संदर्भ
1  सारनाथ में स्तूप को दर्शाता एक चित्रण (Flickr)
2. लेटे हुए बुद्ध को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. बुद्ध के समाधि स्तूप, कुशीनगर को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
4. जेतवन - अंगुलिमाल का स्तूप, श्रावस्ती को दर्शाता एक चित्रण (Collections - GetArchive)
5. धमेक स्तूप को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • देश में टमाटर जैसे घरेलू सब्जियों के दाम भी क्यों बढ़ रहे हैं?
    साग-सब्जियाँ

     04-07-2022 10:13 AM


  • प्राचीन भारतीय भित्तिचित्र का सबसे बड़ा संग्रह प्रदर्शित करती है अजंता की गुफाएं
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     03-07-2022 10:59 AM


  • कैसे रहे सदैव खुश, क्या सिखाता है पुरुषार्थ और आधुनिक मनोविज्ञान
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     02-07-2022 10:07 AM


  • भगवान जगन्नाथ और विश्व प्रसिद्ध पुरी मंदिर की मूर्तियों की स्मरणीय कथा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     01-07-2022 10:25 AM


  • संथाली जनजाति के संघर्षपूर्ण लोग और उनकी संस्कृति
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-06-2022 08:38 AM


  • कई रोगों का इलाज करने में सक्षम है स्टेम या मूल कोशिका आधारित चिकित्सा विधान
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:20 AM


  • लखनऊ के तालकटोरा कर्बला में आज भी आशूरा का पालन सदियों पुराने तौर तरीकों से किया जाता है
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:18 AM


  • जापानी व्यंजन सूशी, बन गया है लोकप्रिय फ़ास्ट फ़ूड, इस वजह से विलुप्त न हो जाएँ खाद्य मछीलियाँ
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:27 AM


  • 1869 तक मिथक था, विशाल पांडा का अस्तित्व
    शारीरिक

     26-06-2022 10:10 AM


  • उत्तर और मध्य प्रदेश में केन-बेतवा नदी परियोजना में वन्यजीवों की सुरक्षा बन गई बड़ी चुनौती
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:53 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id