स्वास्थ्य सेवा व् प्रौद्योगिकी में माइक्रोचिप्स की बढ़ती वैश्विक मांग, क्या भारत बनेगा निर्माण केंद्र?

लखनऊ

 23-05-2022 08:50 AM
खनिज

अर्धचालक चिप्स (Semiconductor chips), जिसे माइक्रोचिप्स (Microchips) या एकीकृत सर्किट (Circuit) के रूप में भी जाना जाता है, उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स (Consumer Electronics) से लेकर स्वास्थ्य सेवा तक लगभग हर उद्योग में एक महत्वपूर्ण घटक हैं। हालाँकि, इनकी सीमित आपूर्ति के कारण, दुनिया वर्तमान में चिप की कमी का सामना कर रही है।इस कमी को देखते हुए भारतीय सरकार ने दिसंबर 2021 में, देश को वैश्विक चिप निर्माण केंद्र के रूप में स्थापित करने के उद्देश्य से अंतर्राष्ट्रीय अर्धचालक और डिस्प्ले (Display) निर्माताओं को आकर्षित करने के लिए 76,000 करोड़ रुपये (लगभग 10 बिलियन डॉलर) की प्रोत्साहन योजना को शुरू करने का प्रयास किया।लेकिन चीन और वियतनाम (Vietnam) जैसे अधिक प्रतिस्पर्धी देशों की तुलना में कमजोर पारिस्थितिकी तंत्र और संसाधनों की कमी के कारण भारत सेमीकंडक्टर वेफर फैब्रिकेशन इकाइयों (Semiconductor wafer fabrication) की स्थापना में पिछड़ गया है। फैब निर्माण इकाइयां स्थापित करने में सबसे बड़ी बाधाओं में से एक यह तथ्य है कि इसके लिए बड़े पैमाने पर निवेश की आवश्यकता होती है।अरबों डॉलर में चलने वाली भारी लागत के अलावा, एक चिप के निर्माण में भी सैकड़ों गैलन शुद्ध पानी की आवश्यकता होती है, जो भारत में आवश्यक मात्रा में मिलना भी मुश्किल हो सकता है।निर्बाध बिजली आपूर्ति एक और बड़ी बाधा है। इस मुद्दे की जड़ यह है कि भारत अभी भी चिप निर्माण क्षेत्र में प्रयासों को आगे बढ़ाने के लिए आवश्यक बुनियादी ढांचे के बराबर नहीं है।
दरसल अर्धचालक चिप एक विद्युत परिपथ है जिसमें कई घटक जैसे ट्रांजिस्टर (Transistors) और अर्धचालक वेफर (Semiconductor wafer) पर तारों का निर्माण होता है। वे अधिकांश आधुनिक इलेक्ट्रॉनिक्स के लिए छोटे दिमाग के रूप में कार्य करते हैं।इन चिप्स को बनाने के लिए, रेत से सिलिकॉन (Silicon) निकाला जाता है और ठोस सिलेंडर (Cylinder) में पिघलाया जाता है जिसे सिल्लियां कहा जाता है। इन सिल्लियों को फिर बहुत पतले वेफर्स में काट दिया जाता है और पॉलिश (Polish) की जाती है, जिसके बाद उन पर जटिल परिपथ मुद्रित होते हैं।
अंत में, वेफर्स को अलग- अलग अर्धचालकों में काट दिया जाता है और तैयार चिप्स में पैक किया जाता है, जिसे बाद में एक परिपथ पट्ट पर रखा जा सकता है। इन चिप्स का निर्माण करना एक जटिल प्रक्रिया है जिसमें तीन महीने से अधिक समय लगता है। लेकिन महामारी के चलते विश्व भर में चिप की कमी आ गई है। कोविड -19 ने आबादी के एक महत्वपूर्ण हिस्से को घर के अंदर रहने को मजबूर कर दिया है, जिससे उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स जैसे लैपटॉप (Laptop), फोन (Phones) और गेमिंग कंसोल (Gaming consoles) की मांग में अचानक वृद्धि हुई है।साथ ही क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrencies) की अचानक लोकप्रियता ने दुनिया भर में और अधिक खनन कार्यों को बढ़ा दिया है, जिसके लिए अधिक प्रसंस्करण इकाइयों की आवश्यकता होती है।हालांकि मांग बढ़ी है, आपूर्ति गिर गई है। दूसरी ओर,कार निर्माता ने महामारी की शुरुआत में अपने चिप के ऑर्डर (Order) को कम कर दिया, यह मानते हुए कि उपभोक्ताओं को नए वाहन खरीदने में कोई दिलचस्पी नहीं होगी,जिस वजह से आपूर्ति में गलत अनुमान लगाया गया और कम चिप का उत्पादन किया गया।संयुक्त राज्य अमेरिका (United States) और चीन (China) के बीच तनावपूर्ण संबंधों ने खराब आपूर्ति में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, क्योंकि चीन चिप्स के सबसे बड़े निर्माताओं में से एक है। कई कंपनियां जिन्हें सेमीकंडक्टर्स की आवश्यकता होती है, उन्होंने पहले से ही अपनी दीर्घकालिक खरीद रणनीतियों पर पुनर्विचार करना प्रारंभ कर दिया है।कुछ उदाहरण के लिए उसी समय ऑर्डर करने वाली प्रणाली, जो वस्तुसूची की लागत को कम करने में मदद करता है, से हटकर अर्धचालक को पहले से ऑर्डर करने पर विचार कर रहे हैं।कई अर्धचालक कंपनियां (Company) मजबूत बने रहने के लिए अपनी दीर्घकालिक रणनीतियों को समायोजित कर रही हैं।अर्धचालक कंपनियां जो भी निर्णय लेती हैं, वह उनके उद्योग और अर्थव्यवस्था दोनों के लिए व्यापक आर्थिक महत्व हो सकता है।
2000 के दशक की शुरुआत में, अर्धचालक कंपनियों में लाभ मार्जिन (Profit Margin) कम था, जिसमें पूंजी की लागत से कम प्रतिफल उत्पन्न होता था।पिछले दशक के दौरान लाभप्रदता में सुधार हुआ, जो हालांकि, अधिकांश उद्योगों में माइक्रोचिप्स की बढ़ती मांग, प्रौद्योगिकी क्षेत्र की तीव्रवृद्धि, और क्लाउड के उपयोग में वृद्धि के साथ-साथ कई उप-खंडों में चल रहे समेकन से प्रेरित था। एक परिणाम यह है कि अर्धचालक उद्योग की लाभप्रदता अन्य उद्योगों की तुलना में काफी बेहतर हुई है, और यह प्रवृत्ति जारी रहने की उम्मीद है।जैसा कि किसी भी उद्योग में होता है, मूल्य सृजन उत्पाद श्रेणी के अनुसार भिन्न होता है, इसलिए कुछ खंडों में परिवर्तन दूसरों की तुलना में अधिक प्रभाव डाल सकते हैं। उदाहरण के लिए, मेमोरी (Memory) सबसे अधिक लाभदायक खंड रहा है, इसके बाद फैबलेस (Fabless) कंपनियां हैं जो अपने स्वयं के चिप्स डिजाइन करती हैं लेकिन अपने निर्माण को बाहरी स्रोत को देती हैं।कुछ क्षेत्रीय भिन्नताएँ भी स्पष्ट हैं। उत्तरी अमेरिका, कुछ सबसे बड़े फैबलेस खिलाड़ियों का घर, के पास 2015-19 की अवधि के दौरान वैश्विक अर्धचालक मूल्य पूल का लगभग 60% हिस्सा था। वहीं एशिया, जो अभी भी अनुबंध चिप निर्माण का केंद्र है, शेष 36% के लिए जिम्मेदार है। इस भौगोलिक प्रसार के साथ, अर्धचालक उद्योग के भीतर मूल्य निर्माण दुनिया भर की अर्थव्यवस्थाओं को प्रभावित कर सकता है।
उत्पादन क्षमता बढ़ाने के अलावा, अर्धचालक कंपनियां अपने विकास को जारी रखने और ग्राहकों की मांग को पूरा करने के लिए कई कदमों पर विचार कर सकती हैं। वे लाभदायक क्षेत्रों में बढ़त हासिल करने और अपने ग्राहक आधार का विस्तार करने के लिए अधिक एम एंड ए (M&A) सौदे और साझेदारी कर सकते हैं।सेमीकंडक्टर कंपनियां नवीन तकनीकों में भी निवेश बढ़ा सकती हैं जो उन्हें स्वायत्त कारों, इंटरनेट ऑफ थिंग्स (Internet of things), कृत्रिम बुद्धिमत्ता और अन्य क्षेत्रों में तेजी से विकास के लिए अग्रणी-बढ़त चिप्स विकसित करने में मदद करेगी। इन सबसे ऊपर, इन अनिश्चित समय के दौरान अधिक चुस्त रणनीतियां महत्वपूर्ण हो सकती हैं।

संदर्भ :-

https://bit.ly/3NnZSGw
https://bit.ly/3NpAqAA
https://bit.ly/3LFJ38S

चित्र संदर्भ
1  प्रौद्योगिकी में माइक्रोचिप्स को दर्शाता एक चित्रण (Pixabay)
2. वेफर प्रोबेर सेवा विन्यास को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
3. हाथ में माइक्रोचिप्स को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
4. माइक्रोचिप्स के उत्पादन को दर्शाता एक चित्रण (Hippopx)



RECENT POST

  • देश में टमाटर जैसे घरेलू सब्जियों के दाम भी क्यों बढ़ रहे हैं?
    साग-सब्जियाँ

     04-07-2022 10:13 AM


  • प्राचीन भारतीय भित्तिचित्र का सबसे बड़ा संग्रह प्रदर्शित करती है अजंता की गुफाएं
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     03-07-2022 10:59 AM


  • कैसे रहे सदैव खुश, क्या सिखाता है पुरुषार्थ और आधुनिक मनोविज्ञान
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     02-07-2022 10:07 AM


  • भगवान जगन्नाथ और विश्व प्रसिद्ध पुरी मंदिर की मूर्तियों की स्मरणीय कथा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     01-07-2022 10:25 AM


  • संथाली जनजाति के संघर्षपूर्ण लोग और उनकी संस्कृति
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-06-2022 08:38 AM


  • कई रोगों का इलाज करने में सक्षम है स्टेम या मूल कोशिका आधारित चिकित्सा विधान
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:20 AM


  • लखनऊ के तालकटोरा कर्बला में आज भी आशूरा का पालन सदियों पुराने तौर तरीकों से किया जाता है
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:18 AM


  • जापानी व्यंजन सूशी, बन गया है लोकप्रिय फ़ास्ट फ़ूड, इस वजह से विलुप्त न हो जाएँ खाद्य मछीलियाँ
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:27 AM


  • 1869 तक मिथक था, विशाल पांडा का अस्तित्व
    शारीरिक

     26-06-2022 10:10 AM


  • उत्तर और मध्य प्रदेश में केन-बेतवा नदी परियोजना में वन्यजीवों की सुरक्षा बन गई बड़ी चुनौती
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:53 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id