कपास की बढ़ती कीमतें, और इसका स्टॉक एक्सचेंज पर कमोडिटी फ्यूचर्स ट्रेडिंग से सम्बन्ध

लखनऊ

 28-05-2022 09:16 AM
स्पर्शः रचना व कपड़े

भारत को दुनिया में, वस्त्रों के अग्रणी उत्पादक और निर्यातकों में से एक माना जाता रहा है। भारतीय कपड़ा उद्योग का, एक समृद्ध इतिहास है, जो 5000 वर्ष से अधिक पुराना है। लेकिन हाल के वर्षों में विभिन्न देशों और परिस्थितियों से मिली चुनौतियों के कारण आज यह उद्योग भी व्यापारिक चुनौतियों का सामना कर रहा है।
दिसंबर 2021 में, स्टॉक और कमोडिटी मार्केट रेगुलेटर (stock and commodity market regulator SEBI) द्वारा, सात कृषि जिंसों (seven agricultural commodities), जैसे चना, सरसों, कच्चे पाम तेल, मूंग, धान (बासमती), गेहूं और सोयाबीन और इसके डेरिवेटिव में वायदा और विकल्प कारोबार (Futures and options trading in derivatives) को, एक साल के लिए निलंबित कर दिया था। हालांकि कपास केकारोबार पर अंकुश नहीं लगा। लेकिन पिछले एक साल में घरेलू कपास की कीमतें, दोगुनी से अधिक बढ़कर, 1,00,000 रुपये प्रति कैंडी (356 किलोग्राम) तक पहुंच गई हैं।
नतीजतन, सूती धागे की कीमतों में भी भारी उछाल देखा गया है। लेकिन इस बीच, कपड़ा और परिधान फर्मों ने भी कपास के वायदा कारोबार (Futures trading) पर, प्रतिबंध लगाने की मांग सरकार से की है! क्योंकि उनका कहना है कि, यह बाजार की अटकलों तथा फाइबर की कीमतों को और बढ़ा रहा है। बढ़ती कीमतों पर काबू पाने के लिए, कपास के निर्यात पर तुरंत रोक लगाने की मांग करते हुए कुछ कारोबारी, इस क्षेत्र के लिए दीर्घकालिक कच्चे माल की रणनीति पर भी जोर दे रहे हैं, जिसके तहत वे चाहते हैं कि, सरकार स्थानीय आपूर्ति को स्थिर रखने के लिए फाइबर पर निर्यात शुल्क (export duty) लगाए। सूती धागे की कीमत मार्च में, 376 रुपये प्रति किलोग्राम से लगभग 20% बढ़कर मई में 446 रुपये हो गई है। यूरोपीय संघ जैसे बाजारों में शुल्क-मुक्त पहुंच के कारण भारत, पहले से ही बांग्लादेश जैसे प्रतिस्पर्धियों से हार रहा है। "यह निरंतर मूल्य वृद्धि हमें और अधिक प्रतिस्पर्धी बना देगी।" CITI के पूर्व अध्यक्ष संजय जैन ने कहा कि, “भारत में कपास की कीमतें, चीनी कपास की तुलना में बहुत तेज गति से बढ़ी हैं, जिससे दुनिया के सबसे बड़े कपड़ा और परिधान खिलाड़ी के साथ भारत की प्रतिस्पर्धात्मकता और भी कम हो गई है।”
वस्तुओं के तीन मुख्य क्षेत्र भोजन, ऊर्जा और धातु होते हैं। सबसे लोकप्रिय खाद्य भावी सौदे (futures), मांस, गेहूं और चीनी हैं। अधिकांश ऊर्जा फ्यूचर्स, तेल और गैसोलीन हैं। फ्यूचर्स धातुओं में, सोना, चांदी और तांबा शामिल हैं।
भोजन, ऊर्जा और धातु के खरीदार, अपने द्वारा खरीदी जा रही वस्तु की कीमत तय करने के लिए वायदा अनुबंधों (futures contracts) का उपयोग करते हैं। इससे उनका कीमतों से संबंधित जोखिम कम हो जाता है। इन वस्तुओं के विक्रेता, वायदा का उपयोग, यह गारंटी देने के लिए करते हैं कि, उन्हें सहमत मूल्य (agreed value) प्राप्त होगा। वस्तुओं की कीमतें साप्ताहिक या दैनिक आधार पर बदलती रहती हैं, और इसके साथ ही अनुबंध की कीमतें भी बदलती हैं। यही कारण है कि मांस, गैसोलीन और सोने की कीमतें अक्सर बदलती रहती हैं। कमोडिटी (commodity) भी, फ्यूचर्स अनुबंध होते हैं, जो लेनदेन की कीमत, मात्रा और तारीख निर्धारित करते हैं। वस्तुएँ तीन प्रमुख श्रेणियों के अंतर्गत आती हैं: भोजन, धातु और ऊर्जा। वायदा अनुबंध एक एक्सचेंज पर बेचे जाते हैं, जो लेनदेन को सुरक्षित बनाता है। यदि अंतर्निहित वस्तु की कीमत बढ़ जाती है, तो वायदा अनुबंध का खरीदार भी पैसा कमाता है। वह उत्पाद को कम, सहमत मूल्य पर प्राप्त करता है और अब इसे आज के उच्च बाजार मूल्य पर बेच सकता है। यदि कीमत नीचे जाती है, तो भी वायदा विक्रेता पैसा कमाता है। वह आज के कम बाजार मूल्य पर वस्तु खरीद सकता है और इसे वायदा खरीदार को उच्च, सहमत मूल्य पर बेच सकता है।
अगर कमोडिटी व्यापारियों को उत्पाद पहुंचाना होता, तो बहुत कम लोग ऐसा करने के बजाय, वे इस बात का प्रमाण देकर अनुबंध को पूरा कर सकते हैं कि, उत्पाद उनके गोदाम में है। वे नकद अंतर का भुगतान भी कर सकते हैं या बाजार मूल्य पर अन्य अनुबंध भी प्रदान कर सकते हैं। फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट्स (futures contracts) का कारोबार कमोडिटी फ्यूचर्स एक्सचेंज (commodity futures exchange) पर किया जाता है। इनमें शिकागो मर्केंटाइल एक्सचेंज (Chicago Mercantile Exchange), शिकागो बोर्ड ऑफ ट्रेड और न्यूयॉर्क मर्केंटाइल एक्सचेंज (Chicago Board of Trade and New York Mercantile Exchange) शामिल हैं। ये सभी अब सीएमई समूह (CME Group) के स्वामित्व में हैं। कमोडिटी फ्यूचर्स ट्रेडिंग कमीशन उन्हें नियंत्रित करता है।
कमोडिटी फ्यूचर्स में निवेश करने का सबसे सुरक्षित तरीका कमोडिटी फंड (commodity fund) होता है। वे कमोडिटी एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड या कमोडिटी म्यूचुअल फंड (Commodity Mutual Fund) हो सकते हैं। ये फंड किसी भी समय होने वाले कमोडिटी फ्यूचर्स के व्यापक स्पेक्ट्रम (Broad Spectrum of Commodity Futures) को शामिल करते हैं। फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट्स अर्थव्यवस्था को कैसे प्रभावित करते हैं?
कंपनियां, कच्चे माल जैसे तेल के लिए गारंटीकृत मूल्य, को स्थिर करने के लिए वायदा अनुबंध का उपयोग करती हैं। किसान अपने पशुओं या अनाज के बिक्री मूल्य को स्थिर रखने के लिए उनका इस्तेमाल करते हैं। फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट्स गारंटी देते हैं कि, वे एक निश्चित कीमत पर सामान खरीद या बेच सकते हैं। समझौता उन्हें शामिल राजस्व या लागतों को जानने की भी अनुमति देता है। उनके लिए, अनुबंध एक महत्वपूर्ण मात्रा में जोखिम को कम करते हैं।
कॉटन ट्रेड बॉडी कॉटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया (Cotton trade body Cotton Association of India (CAI) ने मल्टी-कमोडिटी एक्सचेंज (Multi-Commodity Exchange (MCX) प्लेटफॉर्म पर कथित सट्टा ट्रेडों के बारे में चिंता जताई है। मई 2022 के अनुबंध के लिए एमसीएक्स कॉटन फ्यूचर्स (mcx cotton futures) में, तेजी से कम ओपन इंटरेस्ट (Open Interest (OI) का हवाला देते हुए, सीएआई ने कपास की कीमतों में गंभीर विकृतियों को चिह्नित किया है, और एक्सचेंज से इसे रोकने के लिए उपाय करने को कहा है।

संदर्भ
https://bit.ly/3wOkMIh
https://bit.ly/3MQYi0h
https://bit.ly/3t0XTQZ

चित्र संदर्भ
1. कपास उत्पादन किए किसान को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
2. कलैवानी की बंपर कपास की फसल को दर्शाता एक चित्रण (flickr)
3. जॉन डीरे कॉटन हार्वेस्टर को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
4. भारत में कपास की रंगाई को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)



RECENT POST

  • देश में टमाटर जैसे घरेलू सब्जियों के दाम भी क्यों बढ़ रहे हैं?
    साग-सब्जियाँ

     04-07-2022 10:13 AM


  • प्राचीन भारतीय भित्तिचित्र का सबसे बड़ा संग्रह प्रदर्शित करती है अजंता की गुफाएं
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     03-07-2022 10:59 AM


  • कैसे रहे सदैव खुश, क्या सिखाता है पुरुषार्थ और आधुनिक मनोविज्ञान
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     02-07-2022 10:07 AM


  • भगवान जगन्नाथ और विश्व प्रसिद्ध पुरी मंदिर की मूर्तियों की स्मरणीय कथा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     01-07-2022 10:25 AM


  • संथाली जनजाति के संघर्षपूर्ण लोग और उनकी संस्कृति
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-06-2022 08:38 AM


  • कई रोगों का इलाज करने में सक्षम है स्टेम या मूल कोशिका आधारित चिकित्सा विधान
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:20 AM


  • लखनऊ के तालकटोरा कर्बला में आज भी आशूरा का पालन सदियों पुराने तौर तरीकों से किया जाता है
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:18 AM


  • जापानी व्यंजन सूशी, बन गया है लोकप्रिय फ़ास्ट फ़ूड, इस वजह से विलुप्त न हो जाएँ खाद्य मछीलियाँ
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:27 AM


  • 1869 तक मिथक था, विशाल पांडा का अस्तित्व
    शारीरिक

     26-06-2022 10:10 AM


  • उत्तर और मध्य प्रदेश में केन-बेतवा नदी परियोजना में वन्यजीवों की सुरक्षा बन गई बड़ी चुनौती
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:53 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id