वाजिद अली का स्वतंत्र लेख

लखनऊ

 26-01-2018 08:49 AM
उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

वाजिद अली शाह अवध का पांचवां राजा और अमजद अली शाह के पुत्र थे। वाजिद अवध राज्य (वर्तमान का लखनऊ) की दसवीं और अंतिम नवाब थे, जो वर्तमान में उत्तर प्रदेश में भारत में था। वे 1847 में अवध सिंहासन पर सिहासनारूढ हुये और नौ साल तक शासन किया। वाजिद एक कवि, नाटककार, नर्तक और कला के महान संरक्षक थे। यद्यपि उनका पेन-नाम कैसर था, उन्होंने अपनी कई रचनाओं के लिए उपनाम "अख्तरपीया" का इस्तेमाल किया। इस पेन के नाम के तहत, उन्होंने चालीस कामों के बारे में लिखा - कविताओं, गद्य और ठुमरी "दीवान-ए-अख्तर", "हुस-ए-अख्तर" में उनके गजल होते हैं। वाजिद अली शाह के समयकाल में ही लखनऊ में 1857 की क्रान्ती हुई और उन्होने आजादी पर कई गज़लें, कवितायें व शेरों का लेखन किया था। उन्ही गज़लों में से एक रूखसत ऐ अह्ल-ऐ-वतन निम्न दिया गया है। चित्र में अंग्रेजों की लड़ाई का अंकन किया गया है। शब अन्धो में रो-रो कर बसर करते हैं, दिन को किस रन्ज-ओ-तरदद में गुज़र करते हैं, नाला-ओ-आह गर्ज आठ पहर करते हैं, दर-ओ-दीवार पर हसरत से नज़र करते हैं, रुखसत ए अह्ल-ऐ-वतन हम तो सफर करते हैं। दोस्तो, शाद रहो तुमको खुदा को सौपना, कैसर बाग जो है उसको सबा को सौपना, हमने अपने दिले नाज़ुक को ज़फा को सौपना, दर-ओ-दीवार पर हसरत से नज़र करते हैं, रुखसत-ए-अहले वतन हम तो सफर करते हैं। शिकवा किससे करूँ, याँ दोस्तो ने मारा मुझको, जिस खुदा के नही अब कोई सहारा मुझको, नज़र आता नही बन जाये गुज़ारा मुझको, दर-ओ-दीवार पर हसरत से नज़र करते हैं, रुखसत-ए-अहले वतन हम तो सफर करते हैं। 1. वाज़िद अली शाह अख्तर, 2. वाज़िद अली शाह अख्तर, रेख्ता



RECENT POST

  • इंडस वैली और इसकी लैपिडरी
    सभ्यताः 10000 ईसापूर्व से 2000 ईसापूर्व

     08-07-2020 07:43 PM


  • शिकस्ता हस्तलिपि और उसका इतिहास
    ध्वनि 2- भाषायें

     07-07-2020 04:53 PM


  • लखनऊ और चिकनी बलुई मृदा के विभिन्न उपयोग
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     06-07-2020 03:36 PM


  • वह दुर्लभता जो हैली का धूमकेतु है
    खनिज

     04-07-2020 07:21 PM


  • भारत के कंटीले जंगल
    जंगल

     04-07-2020 03:14 PM


  • ऐरावत अदम्य शक्ति का प्रतीक और हाथियों का देवता राजा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     03-07-2020 11:06 AM


  • मुगल आभूषण और कपड़ों का निरूपण और इतिहास
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     01-07-2020 11:51 AM


  • लखनऊ की कई जटिल सुगंध
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     01-07-2020 01:17 PM


  • कितना लाभदायक साबित होगा अंतरिक्ष में खनन
    खनिज

     30-06-2020 06:50 PM


  • भारतीय आदिवासी गहनों में हैं, संस्कृति और परंपरा का सम्मोहन
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     29-06-2020 10:50 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.