लखनऊ: विश्व आकर्षण

लखनऊ

 11-02-2018 09:21 AM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

आधुनिकता और परंपरा का सही मिश्रण है लखनऊ, यह शहर हमें भारत को प्रदर्शित करता है। लखनऊ इतिहास, वास्तुकला, संगीत, नृत्य, हस्तशिल्प, व्यंजन व शिष्टाचार, सब प्रदान करता है। यह शहर अपने विशिष्ट शिष्टाचार और उल्लेखनीय आतिथ्य के लिए प्रसिद्ध है, यहाँ के स्थानीय बाजारों, शॉपिंग मॉल, रेलवे स्टेशनों और अन्य सार्वजनिक स्थानों पर स्थानीय लोगों के साथ आम बातचीत में शहर के तहजीब को कोई भी देख या महसूस कर सकता है। इस शहर की यह विशेषता है जो इसे कई लोगों के दिल में घर करती है। लखनऊ यहाँ के रहने वालों द्वारा बड़ी नज़ाकत से सजाया गया है, जो लोगों द्वारा खूबसूरती से सवांरा गया है। यह शहर तहज़ीब के साथ-साथ पर्यटन के लिये भी जाना जाता है यहाँ पर सारसैनिक, गॉथिक, आदि प्रकार की इमारतें आदि हैं। पर्यटन स्थलों में बड़ा इमामबाड़ा शामिल है, जो कि वास्तुकला के पराकाष्ठा को प्रदर्शित करता है, जिसे अवध के तत्कालीन नवाब, असफ़-दु-दौला द्वारा 1784 में बनाया गया था। इसमें बड़ी असफी मस्जिद (बडी मस्जिद), भुल-भुलाया (एक भूलभुलैया) , छोटे नवाब और एक ग्रीष्मकालीन महल के लिए एक छोटा इमामबारा जिसमें दिलचस्प रूप से निर्मित बावली या एक जल जलाशय होता है, जो क्षेत्र के लिए पानी का स्रोत था। वास्तुकला शायद मुगल अलंकृत डिजाइन के बेहतरीन उदाहरणों में से एक है और यह यूरोप के किसी भी प्रभाव के बिना भारत-इस्लामी वास्तुकला के आखिरी निशान भी है। इमामबाड़ा के पश्चिम प्रवेश द्वार पर स्थित रूमी दरवाजा या तुर्की गेट है। आसपास के सभी क्षेत्र हमें पुराने लखनऊ का स्वाद प्रदान करता है, जहां एक को लगता है कि उमराव जान, नवाब और कबाब वास्तविक कहानियों के लिए थे। उनके साथ संलग्न इतिहास के कारण तनुवंली कोठी और जुमा मस्जिद एक यात्रा के लायक हैं। कैसर बाग महल, वाजिद अली शाह का 1850 में निर्मित शहर में एकमात्र योगदान भी एक यात्रा के योग्य है। वाजिद अली ने इसे आठवें आश्चर्य के रूप में शामिल करने की इच्छा जताई थी, लेकिन अब कैसर बाग बाजार के बीच यह शायद ही पहचान योग्य है। रेजीडेंसी में ब्रिटिश उपस्थिति का एकमात्र जीवित साक्ष्य है। 1857 के विद्रोह में लगभग पूरी तरह से नष्ट हो जाने वाले एक खिन्न स्मारक के रूप में खड़ा है। विद्रोह के दौरान, अवध का नेतृत्व बेगम हजरत महल ने किया था, जिसकी एक सुंदर बाग और एक मूर्ति है जो स्वतंत्रता आंदोलन में अपने वीर और बलिदान के लिए श्रद्धांजलि है। भोजन प्रेमियों के लिए, यह जगह पृथ्वी पर एक स्वर्ग समान है। इसकी विशेषता प्रसिद्ध टुंडे, शेखावत कबाब से लेकर जैन या शर्मा की गोलियों की चाट, परंपरागत 'मटका' और हर जगह और कोने में पैन की कुल्फी का उल्लेख करते हैं। सड़क के किनारे मिलने वाले भोजन के अलावा शहर में क्लार्क अवध और ताज रेजीडेंसी जैसी सबसे बड़ी होटल श्रृंखलाएं हैं। लखनऊ में खाना पकाने की 'दम' प्रक्रिया को विकसित किया गया था, जो कि मूल रूप से भोजन को अपनी भाप में धीरे-धीरे पकाया जाता है, जो इसे एक अनूठी सुगंध और स्वाद देता है। लखनऊ शहर अपने चिकन कढ़ाई और सूट के कपड़े और ड्रेस सामग्री के लिए प्रसिद्ध है, जो पूरे देश में मांग में रहते हैं। सबसे अच्छी जगहों की दुकान अमिनाबाद, हजरत गंज आदि स्थानों में है, जो शहर के केंद्र का निर्माण करती है। शहर के सबसे सुंदर पहलुओं में से एक यह है कि यह एक से अधिक संस्कृति का एकीकरण प्रस्तुत करता है, धर्म जो एक असाधारण सामंजस्यपूर्ण फैशन में एक दूसरे के पूरक हैं। यह वास्तव में देश के दिल का गठन करता है, जोकी पूरी भावना और सुंदरता से परिपूर्ण है। 1. लखनऊः एन ओल्ड वर्ल्ड चार्म, सौम्या सक्सेना, द व्युज़ पेपर



RECENT POST

  • लखनऊ में सफाई और सफाईकर्मियों की स्थिति
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     23-04-2019 07:00 AM


  • नवाब वाजिद अली शाह के जीवन पर उनके प्रपौत्र द्वारा किया गया एक अनूठा अनुसंधान
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     22-04-2019 09:30 AM


  • संगीत की अद्भुत विधा - सितार वादन
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     21-04-2019 07:00 AM


  • अंग्रेजों से विरासत में मिली थी हमें एक अपंग अर्थव्यवस्था
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     20-04-2019 09:00 AM


  • क्या है ईस्टर (Easter) खरगोश और ईस्टर अण्डों का महत्व
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-04-2019 10:02 AM


  • जैन ब्रह्माण्ड विज्ञान (Jain Cosmology) का संछिप्त वर्णन
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-04-2019 11:41 AM


  • अवध की भूमि से जन्में कुछ लोक वाद्य यंत्र
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     17-04-2019 12:42 PM


  • 1849 से 1856 तक लखनऊ के रेजिडेंट (Resident) - विलियम हेनरी स्लीमन
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     16-04-2019 04:33 PM


  • लखनऊ में पीढ़ी दर पीढ़ी कला का हस्‍तांतरण
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     15-04-2019 02:47 PM


  • लखनऊ की भव्यता को दर्शाता यह छोटा सा विडियो (Video)
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     14-04-2019 07:30 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.