एकता और गालिब

लखनऊ

 17-02-2018 10:40 AM
ध्वनि 2- भाषायें

यह गालिब की 149 वीं बरसी है गालिब की कवितायें इतिहास के राजाओं के खंजरों की (जो की संग्रहालयों की शोभा बढ़ा रहें हैं) तरह उनकी कवितायें आज भी युवाओं से लेकर बुजुर्गों के शरीर में रक्त संचार की गति को तीव्र करने का कार्य करती हैं। गालिब 19वीं शताब्दी के मात्र एक शायर ही नहीं थे अपितु वे समाज के एक अमूल्य अंग थे जिसका प्रमाण उनकी शायरियों से मिल जाता है- पूछते हैं वो कि 'ग़ालिब' कौन है। कोई बतलाओ कि हम बतलाएँ क्या।। मीर तकी मीर का एक शेर– अश्क आँखों में कब नहीं आता। लहू आता हैं जब नहीं आता।। गालिब ने इसे और अधिक शानदार और यादगार बना दिया: 'रागोना में दौड़ते फ़िरने के हम नहीं कायल। जब आंख से ही नहीं टपका तो फिर लहू कया है।। यह उर्दू कविता की परंपरा के अनुरूप था, जहां आप एक पुराने उस्ताद द्वारा एक रेखा या शेर ले गए और नए मतलब को प्रदान करने के लिए इसे बदल दिये। इस परंपरा ने कई लोगों को आकर्षित किया। उर्दू गज़लों में एक अलग सी कशिश होती है जिसमें एक क़र्ज़ के प्रेरित अंदाज़ का एक नमूना है जिसे हम-रदीफ़ ग़ज़ल कहते है। इसमें एक ही 'रदीफ़' या शेर शब्द के दोहराने वाला तरीका शामिल है। लखनऊ के कवि अमीर मीनाई के गज़ल एक प्रसिद्ध उदाहरण है, जो ग़ालिब के समकालीन थे, जिन्होंने लिखा है: 'उसकी हसरत है जिसे दिल से मिटा भी न सकू। ढूँढने उसको चला हूँ जिसे पा भी न सकू।। ये ऐसा हैं अगर मीनाई का जवाब जो ग़ालिब ने लिखा, 'मेहरबान होके बुला लो मुझ चाहे जिस वक़्त। मै गया हुआ वक़्त नहीं हूँ कि फिर आ भी न सकू'।। जगजीत सिंह और चित्रा सिंह ने दोनों गजलों को एक साथ मिश्रित कर दिया और इस हम-रदीफ़ ग़ज़ल को खयालों में खो कर रह गया। ग़ालिब की कविता पारंपरिक संदर्भों और अर्थों के बावजूद की व्याख्या के बजाय जो बहुतायत में मौजूद हैं, हम उन संभावनाओं के बारे में सोचना चाहूंगा जो कि ग़ालिब जैसे व्यक्ति और उनके कविताओं का वितरण भारत के सांस्कृतिक और हुस्न के मुतालिक बनती है। हमने पहले ही देखा है कि एक उर्दू कवि के रूप में ग़ालिब की भूमिका ने उनके समकालीनों के साथ बातचीत में उनके सामने कविता के विचार का अनुवाद किया गया। आंशू रक्त और रक्त आंशू में मीर के विचार में ग़ालिब के शानदार बदलाव कविता की परम्परा से जुड़े हुए हैं यह वही है जो ग़ालिब ने मिनाई के शेर को लिया और इसे एक और ग़ज़ल में बदल दिया। अनुवाद और वार्ता का कार्य उर्दू कविता के इतिहास और पुनर्जन्म का हिस्सा रहा है। लेकिन यह विचार बहुत आगे ले जाया जा सकता है। अपने जीवन से एक प्रसिद्ध अनुक्रम में, ब्रिटिश हवलदार ने जब ग़ालिब को जुआ खेलते पकड़ा था, पुछा "क्या आप मुस्लिम हैं?" जिसे ग़लब के प्रसिद्ध उत्तर था, "(मैं मुस्लिम हूं) केवल आधे से।" यहां, अक्सर लोकप्रिय बल इस बात पर रोकता है कि कैसे ग़ालिब की अपनी मुस्लिम पहचान का हिस्सा-प्रतिज्ञा पीने के लिए आत्म-जिम्मेदार है। यह अहतियात, रियायत, इलज़ाम उसके अपमानजनक काव्य प्रकृति पर दोषी ठहराया जाता है। लेकिन ग़ालिब का ये विचार मुस्लिम का हिस्सा है, दूसरी ग़ालिब का दिलचस्प संभावना है कि काफ़िर भी हैं। उन्होंने कई बार काफीर का उल्लेख किया है, विशेष रूप से प्यारे शब्दों में महबूब के संदर्भ में। एक को याद दिलाया जाता है, "उसी को देख कर जीतें है जिस काफिर पर दम निकले" अपने प्रसिद्ध दोहों में से एक हैं, वह उत्तेजक विचार से भी चिंतित था, यह सुझाव दे रहा था कि यदि आप काबा के घूंघट को उठाते हैं, तो आपको महबूब काफिर का चेहरा मिल सकता है खुदा के वास्ते जाहिद उठा न पर्दा काबे का/कहीं ऐसा न हो यहाँ भी वही काफ़िर सनम निकले। हालांकि वह हमेशा कफीर-दिल के बारे में दरया दिल नहीं थे। उन्होंने इसे एक शेर में भी रखा, "तंग-ए-दिल का गिला क्या ये वो काफिर-दिल है / की अगर तंग ना होता तो परेशान होता", जिसका अर्थ है कि मूर्तिपूजक आत्म संकुचित दिल और दयनीय है। यह काफी स्पष्ट है कि काफ़ी केवल ग़ालिब की कवियों की कल्पना का हिस्सा नहीं है बल्कि उनके सांस्कृतिक अस्तित्व का एक हिस्सा भी है। ग़ालिब काफीर का हिस्सा और मुस्लिम का हिस्सा के रूप में उर्दू कविता के इतिहास में ही नहीं बल्कि भारत के सांस्कृतिक इतिहास में कुछ पल को खोलता है। हम सब एक तरह से हैं, जैसे हिंदू और मुसलमान, कभी पूरी तरह से दूसरे नहीं हैं। भाषा या संस्कृति के द्वारा ऐसा होना असंभव है। यह हमें परिवर्तन के प्रश्न के लिए लाता है। हम यह प्रस्ताव देना चाहते हैं कि अलग-अलग धार्मिक परिवर्तनों के अलावा, यहाँ परिवर्तन के अन्य सांस्कृतिक रूप हैं जो भारतीयों के जीवन में होते हैं, जिनके लिए विश्वास की कोई आवश्यकता नहीं होती है, क्योंकि हम सांस्कृतिक रूप से केवल एक ही विश्वास से संबंधित नहीं हैं। जब दारा शिकोह ने संस्कृत से फारसी में उपनिषदों का अनुवाद किया, तो वे पहले उदाहरण थे, जो बाद में सलमान रुश्दी को 'अनुवादित पुरुष' कहते हैं।



RECENT POST

  • सार्वभौमिक अनुप्रयोग या प्रयोज्यता के विचार का समर्थन करती है सार्वभौमिकता की अवधारणा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     27-05-2020 12:30 AM


  • कहाँ से प्रारम्भ होता है, भारतीय पाक कला का इतिहास
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2020 09:45 AM


  • विभिन्न संस्कृतियों में हैं, शरीर पर बाल रखने के सन्दर्भ में अनेकों दृष्टिकोण
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     25-05-2020 10:00 AM


  • वांटाब्लैक (Vantablack) - इस ब्रह्माण्ड में मौजूद, काले से भी काला रंग
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     24-05-2020 10:50 AM


  • क्या है, ईद अल फ़ित्र से मिलने वाली सीख ?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     23-05-2020 11:15 AM


  • भारत में कितनों के पास खेती के लिए खुद की जमीन है?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     22-05-2020 09:55 AM


  • लॉक डाउन के तहत काफी प्रचलित हो गया है रसोई बागवानी
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     21-05-2020 10:10 AM


  • क्या विकर्षक होते हैं, अत्यधिक प्रभावी रक्षक ?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     20-05-2020 09:30 AM


  • कोरोनावायरस से लड़ने में यंत्र अधिगम और कृत्रिम बुद्धिमत्ता की भूमिका
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2020 09:30 AM


  • संग्रहालय के लिए क्यों महत्वपूर्ण होते हैं, संग्रहाध्यक्ष (curator)
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     18-05-2020 12:55 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.